loader

शीना बोरा हत्या केस: इंद्राणी साढ़े 6 साल बाद जेल से रिहा

अपनी बेटी शीना बोरा की हत्या की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी छह साल से अधिक समय के बाद शुक्रवार को भायखला जेल से बाहर आ गईं। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को उनको जमानत दी थी। लेकिन गुरुवार को कागजी कार्यवाही पूरी नहीं होने की वजह से उन्हें रिहा नहीं किया जा सका था। जेल से बाहर निकलते हुए इंद्राणी मुखर्जी ने आज कहा कि वह बेहतर महसूस कर रही हैं। 

जेल परिसर के बाहर जमा मीडिया से उन्होंने कहा, 'खुला आसमान दीखा। बहुत खुश हूं। मैं बहुत खुश हूं।' उन्होंने कहा, 'मैंने जेल में बहुत कुछ सीखा है... मैं अपने अगले साक्षात्कार में इस बारे में बात करूंगी।'

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने उनको बुधवार को जमानत देते हुए कहा था कि इंद्राणी ने साढ़े छह साल जेल में काटे, हम इंद्राणी मुखर्जी को जमानत दे रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा था, 'याचिकाकर्ता के खिलाफ आरोप लगाया गया है कि उसने अपनी बेटी के राहुल मुखर्जी के साथ लिव-इन रिलेशनशिप को देखते हुए हत्या की योजना बनाई थी, जो पीटर मुखर्जी और उनकी पूर्व पत्नी का बेटा था।' अदालत ने कहा था, 'हम मामले के गुण-दोष पर टिप्पणी नहीं कर रहे हैं। भले ही अभियोजन पक्ष द्वारा 50 प्रतिशत गवाह दिए गए हों, लेकिन ट्रायल जल्द ख़त्म नहीं होगा। उसे निचली अदालत की संतुष्टि के तहत ही जमानत पर रिहा किया जाएगा। जो शर्तें पीटर मुखर्जी पर लगाई गईं वही उन पर लगाई जाएँगी।'

बता दें कि इंद्राणी मुखर्जी को 2012 में 25 वर्षीय शीना बोरा की हत्या के मामले में मुकदमे का सामना करना पड़ा। उन्हें खार पुलिस ने 25 अगस्त 2015 को गिरफ्तार किया था और सितंबर 2015 से भायखला जेल में बंद थीं। उन्हें 2015 में शीना बोरा की हत्या के आरोप में गिरफ़्तार किया गया था। उन पर आरोप था कि उन्होंने अपने ड्राइवर श्यामवर राय और एक पूर्व पति, संजीव खन्ना की मदद से उसकी हत्या की थी। इंद्राणी की पहली शादी से शीना बोरा जन्मी थीं।
महाराष्ट्र से और ख़बरें

जांचकर्ताओं ने कहा है कि इंद्राणी अपनी बेटी के अपने पूर्व पति पीटर मुखर्जी के बेटे राहुल मुखर्जी के साथ रिश्ते से नाराज थीं। स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी और संजीव खन्ना सह-आरोपी हैं। पीटर को दो साल पहले जमानत मिली थी। जेल में रहते हुए इंद्राणी और पीटर मुखर्जी ने अपने 17 साल पुराने रिश्ते को समाप्त कर दिया और 2019 में उन्होंने तलाक ले लिया।

सीबीआई ने पहले ही कहा है कि 24 अप्रैल, 2012 को खन्ना और इंद्राणी के पूर्व ड्राइवर श्यामवर राय की मदद से इंद्राणी ने बांद्रा में एक कार में बोरा की गला घोंटकर हत्या कर दी थी। जाँच एजेंसी ने कहा था कि उसके शव को गागोड़े खिंद गांव में दफनाने से पहले जला दिया गया था।

ख़ास ख़बरें

वह हत्याकांड तब सामने आया था जब इंद्राणी मुखर्जी के ड्राइवर श्यामवर राय को बंदूक के साथ पकड़ा गया था। पूछताछ में उसने खुलासा किया था कि वह एक अन्य मामले में शामिल था और उसने कथित तौर पर एक हत्या देखी थी। 

श्यामवर राय ने पुलिस को बताया था कि इंद्राणी मुखर्जी ने 2012 में शीना बोरा मार डाला था, जिसे वह लोगों के सामने अपनी बहन बताती थी। आगे की जांच में पता चला था कि शीना इंद्राणी की पहली बेटी थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें