loader

शिव सेना नेता बोले- ‘कराची स्वीट्स’ नाम बदलो, पार्टी का किनारा

पड़ोसी मुल्क़ पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के नाम से हिंदुस्तान में जहां-जहां कोई बेकरी या दुकान है, उस पर हिंदूवादी संगठनों या हिंदुत्ववादी राजनीति करने वाले दलों से जुड़े लोग आपत्ति जताते हैं। यूं तो रावलपिंडी, सिंधी नाम से भी भारत में कई शहरों में दुकानें हैं और दिल्ली में लाहौर अपार्टमेंट भी है लेकिन कराची शब्द को लेकर ज़्यादा विवाद देखा गया है। 

इसी तरह लाहौर में दिल्ली गेट है, बॉम्बे चौपाटी है और दिल्ली निहारी नाम से मिक़्स मसाला भी मिलता है। लाहौर में अमृतसरी दही भल्ले भी मिलते हैं। 

दरअसल, विभाजन के बाद दोनों मुल्क़ों में जिन लोगों को इधर से उधर होना पड़ा, उन्होंने अपनी यादों को संजोते हुए अपने कारोबार का नाम अपने पुराने शहरों के नाम पर रखा। पाकिस्तान के फ़ौज़ी शासक व राष्ट्रपति रहे परवेज़ मुशर्रफ़ का जन्म दिल्ली का है तो भारत के पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी कराची में पैदा हुए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

कराची को लेकर ताज़ा विवाद मुंबई के बांद्रा वेस्ट में एक मिठाई की दुकान के नाम को लेकर सामने आया है। इस दुकान का नाम कराची स्वीट्स है। शिवसेना के नेता नितिन नंदगांवकर इस दुकान पर पहुंचे थे और उन्होंने दुकान के मालिक से कहा था कि वे कराची शब्द को बदल दें और इसकी जगह मराठी भाषा में कोई नाम रखें। 

नंदगांवकर ने धमकी देते हुए कहा था कि उन्हें यह करना ही होगा और इसके लिए वह उन्हें 15 दिन का वक़्त दे रहे हैं। 

नदंगांवकर ने कहा, ‘मुंबई और महाराष्ट्र में कराची नाम का और इस्तेमाल नहीं होने दिया जाएगा। अगर आप मुंबई में रहते हैं तो मुंबई पर गर्व करो। ये सब मुंबई में नहीं चलेगा। पाकिस्तान मुर्दाबाद है और हमेशा रहेगा।’ इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इसके बाद दुकान के मालिक ने कराची नाम के आगे अख़बार लगाकर उसे ढक दिया है। 

karachi sweets mumbai controversy - Satya Hindi
लाहौर में बॉम्बे चौपाटी

राउत बोले- बेतुकी बात

सोशल मीडिया पर जब इसे लेकर विवाद बढ़ा तो शिव सेना को प्रतिक्रिया देने के लिए आगे आना पड़ा। शिव सेना सांसद संजय राउत ने कहा कि इस दुकान का नाम बदलने की मांग शिव सेना की नहीं है। उन्होंने कहा कि कराची बेकरी और कराची स्वीट्स मुंबई में पिछले 60 सालों से है और इनका पाकिस्तान से कोई लेना-देना नहीं है। राउत ने कहा कि इनके नाम बदलने की बात कहना पूरी तरह बेतुका है। 

नदंगांवकर ने इंडिया टुडे से कहा, ‘मुझे जो सही लगा, मैंने किया। मैं इस पर राजनीति नहीं करना चाहता। सबकी अपनी भावनाएं हैं। अगर कोई नाम नहीं बदलता है तो मैं उससे नाम बदलवाऊंगा।’ नंदगांवकर पहले महाराष्ट्र नव निर्माण सेना में थे और हाल ही में उन्होंने शिव सेना ज्वाइन की है। 

karachi sweets mumbai controversy - Satya Hindi
लाहौर में अमृतसरी दही भल्ले की दुकान।

फ़रवरी, 2019 में पुलवामा में भारत के जवानों के शहीद होने के बाद बेंगलुरू की कराची बेकरी को लेकर भी ऐसा ही विवाद हुआ था। लोगों ने कराची बेकरी को बंद करने की मांग की थी। यह बेकरी सिंध से 1952 में भारत आए खानचंद रामनामी की है। 

ख़ैर, शिव सेना ने जिस तरह इस विवाद से अपना पल्ला झाड़ा है, उससे साफ है कि वह इस तरह की बातों को तूल नहीं देना चाहती। यह बात सही है कि पाकिस्तान की नापाक हरक़तों और पुलवामा हमले में उसके मंत्री के कबूलनामे के बाद हिंदुस्तान में इस पड़ोसी मुल्क़ के ख़िलाफ़ ग़ुस्सा बढ़ा है। 

karachi sweets mumbai controversy - Satya Hindi
पाकिस्तान का दिल्ली निहारी मिक्स मसाला।

पाकिस्तान के विज्ञान और प्रोद्यौगिकी मंत्री फ़वाद चौधरी ने कुछ दिन पहले नेशनल एसेंबली में कहा था, ‘पुलवामा में जो हमारी क़ामयाबी है, वो इमरान ख़ान की क़यादत में इस कौम की क़ामयाबी है, उसके हिस्सेदार आप भी सब हैं, उसके हिस्सेदार हम भी सब हैं।’ 

फ़वाद के इस बयान के बाद आतंक का आका पाकिस्तान पूरी तरह बेनक़ाब हो चुका है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें