loader

महाराष्ट्र में स्थानीय लोगों की नौकरी का कोटा घटेगा, बदल रही है शिवसेना?

महाराष्ट्र सरकार ने अगले तीन साल तक राज्य की नौकरियों में स्थानीय लोगों का कोटा 80% से घटा कर 60% करने का फ़ैसला किया है। 
उद्धव ठाकरे सरकार ने यह फ़ैसला ऐसे समय किया है जब राज्य में लॉकडाउन की वजह से उद्योग धंधे बंद पड़े है। अब जबकि कामकाज शुरू हो रहा है, उनकी कामयाबी पर सवाल उठने लगे हैं।
महाराष्ट्र से और खबरें

बदलाव क्यों?

समझा जाता है कि राज्य सरकार ने पूंजी निवेश और अधिक संख्या में बाहर के लोगों को आकर्षित करने के लिए यह फ़ैसला किया है।
इसके पहले जब लॉकडाउन के दौरान बाहर से आए ज़्यादातर लोगों ने महाराष्ट्र छोड़ दिया और अपने गृह राज्य लौट गए, शिवसेना प्रमुख ने मराठियों से अपील की थी कि वे इन खाली जगहों को  भरें और अधिक से अधिक नौकरी हासिल कर लें।

कौशल की कमी

महाराष्ट्र सरकार के एक अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'यह व्यवस्था इसलिए की गई है कि ईकाइयां बाहर के लोगों को 60 प्रतिशत तक नौकरी दें और स्थानीय लोगों को उसका प्रशिक्षण दें ताकि तीन साल बाद सभी स्थानीय लोगों को नौकरी दी जा सके।'
एक अधिकारी ने यह भी कहा कि कुछ क्षेत्रों में ज़रूरी कौशल वाले लोगों की कमी हो सकती है। ऐसे में यह व्यवस्था की गई कि उस कौशल वाले लोगों को अधिक संख्या में रख लिया जाए।

शिवसेना पीछे हटी?

महाराष्ट्र में जिस महा विकास अघाड़ी की सरकार चल रही है, उसके साझा न्यूनतम कार्यक्रम में कहा गया है कि विशेष विधेयक ला कर यह आवश्यक कर दिया जाएगा कि स्थानीय लोगों को 80 प्रतिशत नौकरियाँ दी जाएं।
शिवसेना की अगुआई में चल रही सरकार के लिए यह बेहद अहम फ़ैसला है और इसका राजनीतिक असर पड़ सकता है। शिवसेना की राजनीति महाराष्ट्र और ख़ास कर मुंबई में बाहर के लोगों को नौकरी देने के विरोध पर टिकी हुई है। शिवसेना कई बार बिहार-उत्तर प्रदेश से नौकरी की तलाश में आए लोगों पर हमले कर चुकी है। ऐसे में उनका प्रतिनिधित्व बढ़ाने का फ़ैसला अहम है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें