loader

महाराष्ट्र: पंचायत चुनाव में किसे ज़्यादा सीटें, इस पर भिड़ंत

महाराष्ट्र के ग्राम पंचायत चुनाव में किसे सबसे ज़्यादा सीटें मिली हैं, इसे लेकर महा विकास अघाडी सरकार में शामिल तीनों दलों और बीजेपी के बीच जोरदार भिड़ंत हुई है। इस चुनाव की एक अहम बात यह भी है कि आम आदमी पार्टी को भी पहली ही बार में कुछ जगहों पर जीत हासिल हुई है। 

शिव सेना ने कहा- हम बड़े

महा विकास अघाडी सरकार में शामिल शिव सेना का दावा है कि उसे सबसे ज़्यादा सीटें हासिल हुई हैं जबकि बीजेपी ने उसके इस दावे को नकारते हुए कहा है कि वह सबसे बड़ा दल है। शिव सेना का दावा है कि उसने 3,113 सीटों पर जीत हासिल की है जबकि बीजेपी का कहना है कि उसे 5,781 सीटों पर जीत मिली है। 

शिव सेना के प्रवक्ता हर्षल प्रधान ने कहा है कि बीजेपी को 2,632, एनसीपी को 2,400 और कांग्रेस को 1,823 सीटें मिली हैं। 2017 के ग्राम पंचायत चुनाव से इस बार शिव सेना को काफी ज़्यादा सीटें मिली हैं क्योंकि पिछली बार वह केवल 637 ग्राम पंचायतों में ही जीत दर्ज कर पाई थी। 

ताज़ा ख़बरें

टीओआई के मुताबिक़, बीजेपी के प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने कहा है कि उनकी पार्टी ने 45.48 फ़ीसदी मत हासिल किए हैं। उन्होंने कहा कि पिछली बार मिलीं 3095 सीटों के मुक़ाबले पार्टी को इस बार 5,781 सीटें मिली हैं। पार्टी का दावा है कि पिछली बार के मुक़ाबले इस बार उसका वोट फ़ीसद भी बढ़ा है। 

कांग्रेस ने अपने अलग आंकड़े बताए हैं। पार्टी का कहना है कि उसे 2,513 ग्राम पंचायतों में जीत मिली है जबकि शिव सेना को 3,108, बीजेपी को 2,263 और एनसीपी को 2,399 सीटों पर जीत मिली है। 

टीओआई के मुताबिक़, कांग्रेस के एक नेता ने इस बात को लेकर एतराज जताया है कि शिवसेना ने उसके चौथे नंबर पर आने की बात कही है। कांग्रेस ने कहा है कि चूंकि महाराष्ट्र में ग्राम पंचायत चुनाव पार्टी के चुनाव चिन्ह पर नहीं बल्कि निर्दलीय लड़े जाते हैं, इसलिए काल्पनिक आंकड़ों को सामने रखना ग़लत होगा। 

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘हो सकता है कि हम ग्राम पंचायत चुनाव में आगे न रहे हों लेकिन हम चौथे नंबर पर नहीं आए हैं, इस तरह का दावा करना कांग्रेस को बदनाम करने की कोशिश है।’

‘बीजेपी का दावा भ्रामक’

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और ठाकरे सरकार में मंत्री बाला साहेब थोराट ने कहा, ‘बीजेपी का दावा अपने आप में भ्रामक है। चंद्रकांत पाटिल ने सोमवार को दावा किया कि उनकी पार्टी 6 हज़ार से ज़्यादा सीटें जीती है जबकि बुधवार को इन आंकड़ों को कम करके बताया गया।’ 

एनसीपी का अपना दावा 

एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल ने कहा है कि एनसीपी इस चुनाव में सबसे बड़ा दल बनकर उभरा है। उन्होंने दावा किया कि एनसीपी को 3,276 ग्राम पंचायतों में जीत मिली है। उन्होंने बीजेपी के दावों को नकारते हुए कहा कि उसे 20 फ़ीसदी ग्राम पंचायतों में भी जीत नहीं मिली है और 80 फ़ीसदी ग्राम पंचायतों पर महा विकास अघाडी सरकार के दल जीते हैं। 

बहरहाल, महा विकास अघाडी ने कहा है कि उसने राज्य के 36 में से 34 जिलों में एकतरफा जीत हासिल की है। 

आप ने हासिल की जीत

आम आदमी पार्टी को महाराष्ट्र में 96 सीटों पर जीत मिली है। पार्टी को यवतमाल में सबसे ज़्यादा 41 सीटें मिली हैं। पार्टी ने राज्य के 13 जिलों में 300 से ज़्यादा सीटों पर चुनाव लड़ा था। आम आदमी पार्टी को यवतमाल के अलावा लातूर, नागपुर, सोलापुर, नासिक, गोंदिया, अहमदनगर सहित कई जिलों में जीत मिली है। पार्टी पहले ही एलान कर चुकी है कि वह 2022 के बीएमसी चुनाव में जीत हासिल करेगी। 

बीएमसी चुनाव 2022

हालांकि चुनाव नतीजों से यह साफ है कि महा विकास अघाडी सरकार के तीनों दल मिलकर बीजेपी से कहीं आगे रहे हैं। इसके बाद 2022 में होने वाले बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के चुनाव भी लड़े जाने हैं। लेकिन ये चुनाव सिंबल पर लड़े जाते हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

अगर महा विकास अघाडी के तीनों दल इस बात पर राजी होते हैं कि वे मिलकर बीएमसी का चुनाव लड़ेंगे तो एक बार फिर से बीजेपी के सामने मुश्किल खड़ी होगी। लेकिन अगर वे अलग-अलग लड़ते हैं तो तीनों एक-दूसरे के लिए मुश्किलें खड़ी करेंगे। कांग्रेस ने कहा है कि वह अकेले लड़ना चाहती है जबकि शिव सेना ने कहा है कि तीनों दल मिलकर लड़ेंगे। 

विधान परिषद में हारी थी बीजेपी 

महाराष्ट्र में जल्द अपनी सरकार आने के दावे कर रही बीजेपी को पिछले साल दिसंबर में विधान परिषद (एमएलसी) के चुनावों में महा विकास अघाडी सरकार के दलों ने चित कर दिया था। 6 सीटों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी को सिर्फ़ 1 सीट पर जीत मिली थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें