loader

अर्णब की गिरफ्तारी के बाद से ही बीजेपी की हिट लिस्ट में थे सचिन वाजे: शिव सेना

उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के परिसर में मिली एक संदिग्ध स्कॉर्पियो कार से बरामद जिलेटिन की छड़ों और इस कार के मालिक मनसुख हिरेन की मौत के बाद सवालों के घेरे में आए मुंबई पुलिस के अफ़सर सचिन वाजे को एनआईए ने गिरफ़्तार कर लिया है। इस विषय पर शिव सेना के मुख पत्र ‘सामना’ में संपादकीय लिखा गया है। इसे ‘सत्य हिन्दी’ ने ‘सामना’ से साभार लिया है। 

मुंबई पुलिस दल के एक जांच अधिकारी सचिन वाजे को एनआईए अर्थात राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने गिरफ्तार किया है। उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के परिसर में एक संदिग्ध स्कॉर्पियो कार मिली। उस कार में जिलेटिन की बीस छड़ें थीं। इससे हलचल मच गई। अंबानी का नाम आने से इन सभी मामलों को पुलिस ने गंभीरता से लिया। 

यह सब क्यों हुआ, कैसे हुआ, इस पर चर्चा शुरू हो गई लेकिन कुछ दिनों बाद इस गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन का शव मुंब्रा खाड़ी में मिलने से अंबानी के घर के सामने न फूटने वाली जिलेटिन की छड़ों का विस्फोट हो गया। विरोधी पक्ष के नेता फडणवीस ने विधानसभा में इस मामले को उठाया। सरकार ने वाजे का तबादला करके पूरे मामले की जांच राज्य आतंकवादी निरोधी दस्ते को सौंपी। इस मामले की जांच चल ही रही थी कि केंद्र सरकार ने ‘एनआईए’ को जांच के लिए भेजा। इसकी इतनी जल्दी आवश्यकता नहीं थी। लेकिन महाराष्ट्र के किसी मामले में टांग अड़ाने का मौका मिले तो केंद्र की जांच एजेंसियां भला पीछे क्यों रहें? 

ताज़ा ख़बरें

जिलेटिन की बीस छड़ें और कार मालिक की संदिग्ध मौत की जांच एनआईए ने अपने हाथ में लेकर तुरंत वाजे को गिरफ्तार करने का कर्तव्य पूरा कर दिखाया। वाजे की गिरफ्तारी के बाद भारतीय जनता पार्टी को जो आनंद मिला है, उसका वर्णन करने में शब्द कम पड़ जाएंगे। ‘‘वाजे की गिरफ्तारी हो गई हो” ऐसी गर्जना करते हुए इन लोगों का सड़क पर आना बाकी है। 

इस खुशी का कारण यह है कि कुछ महीने पहले इसी वाजे ने रायगढ़ पुलिस की मदद से बीजेपी वालों के महंत अर्णब गोस्वामी को अन्वय नाईक आत्महत्या मामले में हथकड़ियां लगाई थीं। उस समय ये लोग गोस्वामी का नाम लेकर रो रहे थे और वाजे को श्राप दे रहे थे। ‘‘रुकिये, देख लेंगे, केंद्र में हमारी ही सत्ता है’’, ऐसा कह रहे थे, वह मौका अब साध लिया है। 

बीस जिलेटिन छड़ों के मामले में वाजे को केंद्रीय जांच एजेंसी ने गिरफ्तार किया है। वाजे की गिरफ्तारी कानूनी या गैरकानूनी, इस चर्चा का अब कोई अर्थ नहीं है। विपक्ष की सरकारों को अस्थिर या बदनाम करने के लिए किसी भी स्तर पर जाना, फर्जी मामले निर्माण करना, राज्य सरकार के अधिकारों पर अतिक्रमण करना, ऐसे प्रकार बेझिझक चल रहे हैं। 

सुशांत मामले में मुंबई पुलिस ने बेहतरीन जांच की, फिर भी केंद्र ने सीबीआई को इस मामले में घुसाया, उस सीबीआई ने भी कौन से दीये जलाए? हाथ मलते रह गए। कंगना रनौत इस बेताल अभिनेत्री ने गैरकानूनी काम किए फिर भी केंद्र सरकार और भाजपावाले उसके समर्थन में खड़े रहे।
जब बीस जिलेटिन छड़ों के मामले की जांच राज्य का आतंकवादी निरोधी दस्ता कर ही रहा था कि ‘एनआईए’ उसमें कूद पड़ी। अर्णब गोस्वामी को गिरफ्तार कर उसे जेल भेजने से वाजे बीजेपी और केंद्र के हिटलिस्ट पर थे ही। मुंबई पुलिस की जांच पूरी होने तक केंद्रीय दस्ता रुकने को तैयार नहीं था। बीस जिलेटिन छड़ें मिलने जैसे मामले देशभर में रोज हो रहे हैं। कश्मीर घाटी में आज भी विस्फोटकों का जखीरा मिल रहा है, लेकिन यह एनआईए का दस्ता वहां गया क्या? 
Mumbai police official sachin vaje in mansukh hiren case - Satya Hindi

पुलवामा में विस्फोटकों का जखीरा कहां से अंदर घुसाया गया और उस विस्फोट में अपने 40 जवानों की बलि कैसे गई? ये आज भी रहस्य ही है! बिहार-नेपाल सीमा पर हथियार, विस्फोटकों की आवाजाही जारी ही रहती है। मणिपुर-म्यांमार सीमा पर स्थिति इस मामले में गंभीर ही रहती है। नक्सली क्षेत्रों में तो बंदूक, विस्फोटकों के कारखाने ही बन गए हैं, वहां देशविरोधी षड्यंत्र शुरू हैं, लेकिन तुम्हारी वो जिलेटिन छाप एनआईए है कि क्या है, वो उन विस्फोटकों को सूंघने भी नहीं गई। शायद केंद्र को इसकी आवश्यकता ही नहीं होगी। 

महाराष्ट्र में कहीं कुछ खटका तो केंद्रीय एजेंसियां तुरंत महाराष्ट्र में दौड़ आती हैं। अब तो लगता है कि केंद्र सरकार की यह नीति ही बन गई है। अंबानी अपने देश की एक ऊंची हस्ती हैं। उनकी सुरक्षा में किसी प्रकार की कमी होनी ही नहीं चाहिए। इसीलिए उनके घर के परिसर में मिली बीस जिलेटिन की छड़ें और उसके बाद हुई मनसुख हिरेन की मौत, ये दोनों मामले गंभीर हैं। लेकिन इस मामले की जांच मुंबई पुलिस नहीं कर पाएगी, यह केंद्र सरकार परस्पर कैसे निर्धारित कर सकती है? 

मुंबई बम ब्लास्ट के मुख्य आरोपियों को फांसी पर लटकानेवाली मुंबई पुलिस है, उसी तरह ‘26/11’ आतंकवादी हमले में कसाब जैसों को जान की बाजी लगाकर पकड़ने और फांसी पर लटकाने वाला मुंबई-महाराष्ट्र का पुलिस दल है। महाराष्ट्र के पुलिस दल की क्षमता और शौर्य की प्रशंसा विश्वभर में होते हुए भी बीस जिलेटिन छड़ों के लिए केंद्रीय जांच दस्ते का मुंबई में आना आश्चर्यजनक है। अर्थात, इससे यह स्पष्ट हो गया है कि ‘एनआईए’ का इस तरह से आना, ये पिछला हिसाब चुकता करने के लिए ही था। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

वाजे व उनके सहयोगियों ने भंपक गोस्वामी को पकड़ा, उसके टीआरपी घोटाले का पर्दाफाश किया। इसके बदले में केंद्र ने वाजे को पकड़कर दिखाया। यहीं पर इस केस की फाइल बंद होती है। वाजे से कोई गलती हुई होगी और बीस जिलेटिन छड़ों के मामले में वे अपराधी होंगे तो उन पर नियमानुसार कार्रवाई करने में मुंबई पुलिस व आतंकवादी निरोधी दस्ता सक्षम था। लेकिन केंद्रीय जांच दस्ते को यह नहीं होने देना था। उसने वाजे को गिरफ्तार करके महाराष्ट्र पुलिस दल का अपमान किया है। 

यह सब सुनियोजित ढंग से किया जा रहा है। वाजे को गिरफ्तार करके दिखाया, इसकी खुशी जो मना रहे हैं, वे राज्य की स्वायत्तता पर आघात कर रहे हैं। सत्य जल्द ही बाहर आएगा, ऐसी अपेक्षा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें