loader
फ़ोटो साभार : ट्विटर/वीडियो ग्रैब

महाराष्ट्र- टैंकर लीक से ऑक्सीजन सप्लाई रुकी, 22 कोरोना मरीज मरे

महाराष्ट्र के नासिक में टैंकर से ऑक्सीज़न रिफिलिंग के दौरान अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित हो जाने की वजह से अस्पताल में भर्ती 22 कोरोना मरीज़ों की मौत हो गई है। लीक होने के दौरान क़रीब 30 मिनट तक ऑक्सीजन की आपूर्ति अस्पताल में बाधित रही। शुरुआती रिपोर्टों में भी कहा गया है कि इन मरीज़ों की मौत ऑक्सीजन की कमी से हुई है। मारे गए सभी मरीज़ वेंटिलेटर पर थे। 

यह हादसा नासिक के ज़ाकिर हुसैन अस्पताल में हुआ। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा है कि सरकार इस मामले को देखेगी और पूरी जाँच कराएगी कि हादसा किन वजहों से हुआ और इसके लिए कौन ज़िम्मेदार है। 

ताज़ा ख़बरें
शुरुआत में एएनआई ने रिपोर्ट दी थी कि इस हादसे के दौरान 11 लोगों की मौत हुई। लेकिन बाद में ज़िला कलेक्टर सूरज मंधारे ने 'एनडीटीवी' को बताया, 'मौजूदा जानकारी के अनुसार ज़ाकिर हुसैन नगरपालिका अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित होने के कारण 22 लोगों की मौत हो गई है।'

महाराष्ट्र के गृह मंत्री राजेश टोपे ने कहा, 'हमारे पास उपलब्ध जानकारी के अनुसार, नासिक के अस्पताल में वेंटिलेटर पर मौजूद मरीजों की मौत हो गई है। रिसाव उस ऑक्सीजन टैंक से हुआ जो इन मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रहा था। अस्पताल में मरीजों की मौतों को बाधित आपूर्ति से जोड़ा जा सकता है।'

अस्पताल के बाहर से जो दृश्य बाहर सामने आए हैं उसमें दिख रहा है कि यह घटना अस्पताल परिसर में हुई। वीडियो फुटेज में दिख रहा है कि टैंकर से तेज़ी से गैस लीक हो रही है और सफेद धुआँ सा आसपास के क्षेत्रों में फैल गया। शुरुआत में जो 11 मौत हुई थी उसकी जानकारी देते हुए अहमर ख़ान नाम के एक ट्विटर यूज़र ने गैस लीकेज का वीडिया ट्वीट किया है।

ऑक्सीजन की आपूर्ति बंद होने के कारण मरीजों और उनके परिवार के सदस्यों में दहशत फैल गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि अस्पताल में हादसे के दौरान क़रीब 150 मरीज़ ऑक्सीज़न पर निर्भर थे या फिर वेंटिलेटर पर थे। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार क़रीब 31 मरीज़ों को दूसरे अस्पतालों में शिफ़्ट किया गया है। 

एनसीपी नेता मजीद मेमन ने ट्वीट किया कि लीक के लिए ज़िम्मेदार लोगों को सज़ा दी जाएगी। 

इस बीच कांग्रेस महासचिव सचिन सावंत ने इस घटना की जाँच की माँग की है। उन्होंने ट्वीट किया, 'हम नासिक के जाकिर हुसैन अस्पताल में हुई त्रासदी की जांच की मांग करते हैं। जो कोई भी ज़िम्मेदार है उस पर कार्रवाई करना होगा। अस्पताल का प्रबंधन नासिक निगम द्वारा किया जाता है जो महाराष्ट्र बीजेपी सत्ता के अधीन है। बीजेपी को ज़िम्मेदारी लेनी चाहिए। मेयर और बीजेपी के 3 स्थानीय विधायक कहाँ हैं? फरार?'
देश के गृह मंत्री अमित शाह ने भी इस घटना पर दुख व्यक्त किया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'नासिक के एक अस्पताल में ऑक्सीजन लीक होने से हुई दुर्घटना का समाचार सुन व्यथित हूँ। इस हादसे में जिन लोगों ने अपनों को खोया है उनकी इस अपूरणीय क्षति पर अपनी गहरी संवेदनाएं व्यक्त करता हूँ। बाकी सभी मरीजों की कुशलता के लिए ईश्वर से प्रार्थना करता हूँ।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें