loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

महाराष्ट्र: डॉक्टर्स को एक ओर कोरोना वॉरियर का दर्जा, दूसरी ओर सैलरी में कटौती

कोरोना संकट के कारण अर्थव्यवस्था को हुए नुक़सान की वजह से महाराष्ट्र सरकार ने कर्मचारियों की सैलरी में कटौती कर दी है। कुछ विभागों में यह कटौती 50 फ़ीसदी तक की गई है। इस वजह से बृहन्मुंबई महा नगरपालिका की ओर से चलाए जाने वाले अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टर्स और दूसरे मेडिकल प्रोफ़ेशनल्स को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

महाराष्ट्र के सरकारी मेडिकल अफ़सरों की एसोसिएशन की उत्तरी इकाई के अध्यक्ष जरमान सिंह पदवी ने ‘मुंबई मिरर’ से कहा, ‘मैं 20 साल से स्वास्थ्य विभाग में मेहनत के साथ काम कर रहा हूं। मार्च के महीने में मेरी सैलरी 50 फ़ीसदी कटी और अभी तक अप्रैल की सैलरी नहीं मिली है।’ 

पदवी ने कहा कि एक ओर हमें कोरोना के ख़िलाफ़ फ़्रंटलाइन योद्धा कहा जाता है और दूसरी ओर हमें सैलरी कम मिल रही है, इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि डॉक्टर्स के पास इतना समय नहीं है कि वे विभाग या सरकार के साथ इस मुद्दे पर संघर्ष कर सकें। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

इस बारे में अतिरिक्त मुख्य सचिव (वित्त) मनोज सौनिक ने कहा कि सभी विभागों के सभी कर्मचारियों की सैलरी में मार्च से ही कटौती की जा रही है। 

महाराष्ट्र एसोसिएशन ऑफ़ रेजिडेंट डॉक्टर्स के अध्यक्ष राहुल वाघ ने ‘मुंबई मिरर’ से कहा कि मुंबई शहर में डॉक्टर्स की सैलरी में 30 से 40 फ़ीसदी की कटौती की गई है। ठाणे जिले में काम करने वाले एक रेजिडेंट डॉक्टर ने कहा, ‘मैं हर महीने 15 हज़ार रुपये किराया देता हूं। सब्जियां और दूसरी चीजें बहुत महंगी हो गई हैं। मुझे अपने बूढ़े माता-पिता की भी देखभाल करनी होती है।’ उन्होंने कहा कि सैलरी में कटौती से डॉक्टर्स का मनोबल गिरा है। 

एक और डॉक्टर ने नाम न बताने की शर्त पर ‘मुंबई मिरर’ से कहा, ‘मुझे ख़र्चा चलाने के लिए अपनी बचत में से पैसे निकालने पड़ रहे हैं। सैलरी कम करने से हमारे काम पर असर पड़ रहा है और महामारी के इस दौर में हड़ताल करना भी सही नहीं होगा।

ऐसे हालात में डॉक्टर्स किस तरह काम करेंगे क्योंकि महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बेतहाशा बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र में 33 हज़ार से ज़्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 20 हज़ार से ज़्यादा मामले अकेले मुंबई में हैं। लचर स्वास्थ्य सुविधाओं के बीच काम कर रहे डॉक्टर्स की सैलरी कटने से उनके मनोबल पर असर पड़ना लाजिमी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें