loader

क्या भारत में चल रहा है तानाशाही का दौर?

प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर देश की किसी स्थिति पर ध्यान देने का आग्रह करना कौन सा अपराध है? इसे देशद्रोह कहना तो शुद्ध मजाक है। जो क़ानून इस तरह के कामों को अपराध मानता है, उस क़ानून को बेझिझक कूड़े की टोकरी के हवाले किया जाना चाहिए।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

बिहार में मुज़फ़्फ़रपुर के एक न्यायाधीश ने एक वकील की एफ़आईआर पर आदेश जारी किया है कि पुलिस उन 49 कलाकारों और बुद्धिजीवियों से पूछताछ करे, जिन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर उनका ध्यान भीड़ की हिंसा और सांप्रदायिक तनाव की ओर आकर्षित किया है। अदालत का यह क़दम एकदम विचित्र है।

प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर देश की किसी स्थिति पर ध्यान देने का आग्रह करना कौन सा अपराध है? इसे देशद्रोह कहना तो शुद्ध मजाक है। जो क़ानून इस तरह के कामों को अपराध मानता है, उस क़ानून को बेझिझक कूड़े की टोकरी के हवाले किया जाना चाहिए। यदि इस तरह के पत्रों या बयानों से देशद्रोह होता है या विद्रोह फैलता है तो फिर सारे अख़बारों और टीवी चैनलों पर भी मुक़दमे चलेंगे और उन पर प्रतिबंध की मांग की जाएगी। 

ताज़ा ख़बरें

देश में जब-जब तथाकथित गोरक्षकों ने लोगों पर हमले किए हैं और हत्याएं की हैं, पत्रकारों और बुद्धिजीवियों ने डटकर उनकी भर्त्सना की है। ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी की है। आश्चर्य है कि मुज़फ़्फ़रपुर के उन जज महोदय ने इस मामले को इस लायक समझा कि उन बुद्धिजीवियों और कलाकारों पर मुक़दमा चलाने का आदेश दे दिया। एक तरफ़ अदालत और उस वकील का यह अतिवाद है और दूसरी तरफ़ हमारे प्रिय युवा नेता राहुल गाँधी हैं। 

राहुलजी अपनी उटपटांग बात कहने का मौक़ा कभी नहीं चूकते। इस मुद्दे पर उन्होंने अपनी चतुराई फिर बघार दी। उन्होंने बयान दे दिया है कि देश में तानाशाही फैल रही है। मोदी की कोई जरा-सी भी आलोचना करे, उसे जेल की हवा खानी पड़ती है। क्या वह और उनकी माताजी रोज मोदी की आरती उतार रहे हैं? वे रोज़ उनकी उचित और अनुचित आलोचना करते रहते हैं। साढ़े पांच साल में वे कितनी बार जेल गए हैं? 

विचार से और ख़बरें

देश में मेरे जैसे अनेक बुद्धिजीवी और पत्रकार हैं, जो खरी-खरी लिखने के लिए कुख्यात हैं। वे किसी की भी लिहाजदारी नहीं करते। क्या किसी की हिम्मत है कि कोई उन्हें फ़ोन पर भी धमका सके? हां, यह ठीक है कि मोदी और अमित शाह के आगे संघ संचालकों, बीजेपी के मंत्रियों और मुख्यमंत्रियों की घिग्गी बंधी रहती है और यह वैसा ही है जैसा कि 1971 के बाद इंदिराजी के राज में होता था। 

संबंधित ख़बरें

लेकिन आज देश में आपातकाल जैसा माहौल न तो है और न ही वह लाया जा सकता है। कांग्रेस का यह आरोप ठीक है कि देश की आर्थिक स्थिति विषम होती जा रही है लेकिन इंदिराजी को क्या रुपये का अवमूल्यन और बैंकों का राष्ट्रीयकरण नहीं करना पड़ा था? 

गोडसे और गाँधी की बहस चलाकर आज कांग्रेस को कोई फायदा नहीं होनेवाला है। कांग्रेस के लिए यह वक़्त आत्म-शुद्धि का है। सोनिया गाँधी-परिवार की तानाशाही से कांग्रेस को मुक्त करने का है। कांग्रेस में नई जान फूंकने का है।  

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.in से साभार)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें