loader

गाज़ा पट्टी में शांति बहाली के लिए काम करे भारत: कांग्रेस

चरमपंथी गुट हमास और इज़रायल के बीच चल रहे जोरदार संघर्ष के बीच कांग्रेस ने मांग की है कि ये संघर्ष तुरंत समाप्त हो। कांग्रेस ने कहा है कि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के साथ मिलकर इस इलाक़े में शांति बहाली की दिशा में आगे आकर काम करे। 

बता दें कि हमास और इज़रायल के बीच चल रहा युद्ध बढ़ता जा रहा है और दोनों ओर से एक दूसरे पर रॉकेट और मिसाइलों से हमला किया जा रहा है। इस हमले में अब तक कई लोगों की जान जा चुकी है। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस के विदेश मामलों के चेयरमैन आनंद शर्मा ने कहा है कि इस तरह की हिंसा का होना पूरी दुनिया के लिए गंभीर चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि यह नैतिकता के साथ ही मानवीय विषय भी है। शर्मा ने कहा कि भारत को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद का सदस्य होने के नाते इस दिशा में काम करना चाहिए। 

शर्मा ने कहा कि फ़लस्तीन के लोगों को सम्मान के साथ रहने का अधिकार है और इसी तरह इज़रायल के लोगों के भी अपने अधिकार हैं। उन्होंने कहा कि हमास और इज़रायल के बीच चल रहे इस युद्ध में लोगों की जान जा रही है और छोटे बच्चे और बुजुर्ग इसका ज़्यादा शिकार हो रहे हैं। 

Israel palestine conflict 2021 congress demands to restore peace  - Satya Hindi

पुलिस-फ़लस्तीनियों के बीच संघर्ष

फ़लस्तीनियों और यहूदियों के बीच कई सालों से चल रहा संघर्ष बीते सोमवार को तेज़ हो गया था और येरूशलम में अल अक्सा मसजिद परिसर में इज़रायल पुलिस और फ़लस्तीनियों के बीच हुए संघर्ष में 300 लोग घायल हो गए थे। सोमवार को ही इज़रायल के यहूदी येरूशलम डे मनाने के लिए मार्च निकाल रहे थे। 

राजनीति से और ख़बरें

ये मार्च उस जीत का जश्न था जो इज़रायल को 1967 में मिली थी। 1967 में इज़रायल ने येरूशलम के कई हिस्सों पर अपना कब्जा जमा लिया था और वे हिस्से अभी तक इज़रायल के ही कब्जे में हैं। ख़बरों के मुताबिक़, मार्च के दौरान फ़लस्तीनी चरमपंथियों ने उन पर हमला कर दिया और इसके बाद हिंसा भड़क उठी।

फ़लस्तीनी चरमपंथियों को जवाब देने के लिए इज़रायली सुरक्षाबलों ने रबर बुलेट का इस्तेमाल किया, जिसमें कई चरमपंथी घायल हुए और फिर स्थिति लगातार खराब होती चली गई। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें