loader
डिंपल यादव (सपा) और रघुराज सिंह शाक्य (बीजेपी) मैनपुरी से मैदान में हैं।

मैनपुरीः शाक्य का नामांकन, बहू के लिए यादव खानदान एकजुट

मैनपुरी में घटनाक्रम और समीकरण तेजी से बदल रहे हैं। बीजेपी प्रत्याशी रघुराज सिंह शाक्य ने आज बुधवार को नामांकन पत्र दाखिल कर दिया है। लेकिन आशा के विपरीत शिवपाल यादव ने बीजेपी प्रत्याशी से दूरी बनाए रखी। सैफई में शिवपाल ने अपने समर्थकों के साथ बैठक की और उसमें सपा प्रत्याशी और घर की बहू डिंपल यादव के प्रचार का फैसला किया गया। 

बीजेपी प्रत्याशी रघुराज सिंह ने बुधवार को नामांकन दाखिल करने के पहले स्व. मुलायम सिंह यादव की समाधि स्थल पर पहुंचे। वहां उन्हें प्रणाम करने के बाद मीडिया से कहा कि नेता जी का आशीर्वाद मेरे साथ है। मेरे गुरु शिवपाल जी का आशीर्वाद मेरे साथ है। अखिलेश और डिंपल का नाम लिए बिना बीजेपी प्रत्याशी ने कहा कि वो बड़े घराने के लोग हैं। मैं तो एक छोटा साथ कार्यकर्ता हूं। 

ताजा ख़बरें

बीजेपी ने नामांकन भरे जाने के मौके पर मैनपुरी में एक कार्यकर्ता सम्मेलन बुलाया, जिसमें दूसरे जिलों के लोग भी शामिल हुए। इस सम्मेलन में रघुराज सिंह शाक्य को जिताने का संकल्प लिया गया। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि हम हर हालत में मैनपुरी जीतेंगे। बहरहाल, कार्यकर्ता सम्मेलन में वो भीड़ और जोश नहीं नजर आया, जिसके बारे में केशव मौर्य दावे कर रहे थे। सूत्रों का कहना है कि बीजेपी प्रत्याशी ने शिवपाल का आशीर्वाद लेने के लिए उनके पास आने का संदेश भेजा था लेकिन शिवपाल ने इसके लिए मना कर दिया। 

अखिलेश को राहत

इस बीच सैफई से अखिलेश यादव के लिए राहत की खबर है। सैफई में आज बुधवार को प्रसपा की बैठक में आम राय से डिंपल यादव के प्रचार पर सहमति बन गई। इस बैठक में शिवपाल ने कहा कि सभी लोग बहू डिंपल के लिए प्रचार करें। बता दें कि बुधवार सुबह तक इस बात को लेकर ऊहापोह था कि शिवपाल बहू के लिए प्रचार करेंगे या नहीं। 

सपा ने कल मंगलवार को उन्हें स्टार प्रचारकों की सूची में डाल कर उन्हें कोई न कोई स्टैंड लेने के लिए मजबूर कर दिया था। सपा के थिंक टैंक रामगोपाल यादव ने भी दावा किया था कि शिवपाल से पूछकर ही डिंपल को खड़ा किया गया है। लेकिन डिंपल के नामांकन में शिवपाल के परिवार से कोई नहीं पहुंचा।

बहरहाल, सैफई की बैठक ने बुधवार को साफ कर दिया कि यादव खानदान बहू को जिताने के लिए फिर एकजुट हो गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें