loader
नितिन गडकरी (फ़ाइल फ़ोटो)।

मुख्यमंत्री इसलिए दुखी हैं कि कब रहेंगे या जाएँगे, यह भरोसा नहीं: गडकरी

बीजेपी शासित राज्यों में एक के बाद एक मुख्यमंत्री बदले जाने के बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का एक दिलचस्प बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि विधायक से लेकर मंत्री और मुख्यमंत्री सब दुखी हैं। उन्होंने तो यहाँ तक कह दिया कि मुख्यमंत्री इसलिए दुखी हैं क्योंकि उनकी कुर्सी कब चली जाए इसका उनको डर रहता है। उनका यह बयान तब आया है जब हाल ही में विजय रूपाणी को गुजरात के मुख्यमंत्री का अपना कार्यकाल पूरा करने से पहले ही हटना पड़ा है। दरअसल, पिछले छह महीनों में बीजेपी ने चार राज्यों में पाँच चेहरे बदल दिए हैं।

नितिन गडकरी का यह ताज़ा बयान राजस्थान के जयपुर में एक कार्यक्रम में सोमवार को आया। उस कार्यक्रम में राजस्थान के विधायक शामिल हुए थे। 

ताज़ा ख़बरें

नितिन गडकरी ने एक क़िस्से का ज़िक्र करते हुए कहा, '...सुखी कौन है, हाथ ऊपर करो। किसी ने नहीं किया। क्योंकि जो एमएलए थे वे इसलिए दुखी थे कि वे मंत्री नहीं बन पाए। ... मंत्री इसलिए दुखी थे कि उनको अच्छा डिपार्टमेंट नहीं मिला। जिनको अच्छा डिपार्टमेंट ... मिला वो इसलिए दुखी थे कि वे मुख्यमंत्री नहीं बन पाए। और जो मुख्यमंत्री बन पाए वे इसलिए दुखी हैं कि कब रहेंगे और कब जाएँगे इसका भरोसा नहीं है। इसलिए वो चिंतित हैं।" 

उन्होंने आगे कहा, "शरद जोशी हास्य व्यंग्य कवि थे। बहुत सुंदर कवि थे। मैं उनका बहुत बड़ा प्रशंसक रहा हूँ। उन्होंने कहा था, एक सुंदर कविता की थी... 'जो राज्य में काम के नहीं थे उनको दिल्ली में भेजा, जो दिल्ली में काम के नहीं थे उनको गवर्नर बना दिया, जो गवर्नर नहीं बन पाए उनको एंबेसडर बना दिया'। अब, राजनीति जो होती है, सभी पार्टियों में ये चलता ही है।"

नितिन गडकरी यह बयान तब दे रहे थे जब सोमवार को ही गुजरात में नये मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल पद की शपथ ले रहे थे। बीजेपी ने विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री पद से हटाया है और उनकी जगह भूपेंद्र पटेल लाए गए हैं। गुजरात के नये मुख्यमंत्री के रूप में भूपेंद्र पटेल के नाम की घोषणा के बीच उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल का दर्द छलका है! अपनी नाराज़गी की रिपोर्टों पर सोमवार को भी जब नितिन पत्रकारों के सामने सफ़ाई देने आए तब भी वह दर्द दिखा। वह जब कह रहे थे कि कोई नाराज़गी नहीं है तो उनकी आँखों में आंसू थे और आवाज़ में वह कसक नहीं थी।

नितिन पटेल ने सोमवार को भी वह बात दोहराई जो उन्होंने एक दिन पहले कहा था कि जब तक जनता पसंद करेगी तब तक किसी नेता को हटाया नहीं जा सकता है।

बीजेपी ने हाल में कई राज्यों में मुख्यमंत्री बदल दिए हैं। पिछले छह महीनों में पार्टी ने चार राज्यों में पाँच चेहरे बदले हैं। गुजरात में विजय रूपाणी के अलावा कर्नाटक में येदियुरप्पा और उत्तराखंड में पहले त्रिवेन्द्र सिंह रावत और फिर तीरथ सिंह को बदल दिया गया। असम में भी सर्बानंद सोनोवाल के बजाय चुनावों के बाद हिमंत बिस्व सरमा को मुख्यमंत्री बनाने का फ़ैसला किया गया। 

राजनीति से और ख़बरें

दो दिन पहले ही कर्नाटक में मंत्री नहीं बनाए जाने पर बीजेपी के एक विधायक ने पार्टी पर बड़ा आरोप मढ़ दिया था। बीजेपी विधायक श्रीमंत बालासाहेब पाटिल ने रविवार को कहा कि कर्नाटक में 2019 में कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिराने से पहले उन्हें कांग्रेस छोड़ने और भाजपा में शामिल होने के लिए पैसे की पेशकश की गई थी।  वह उन 16 विधायकों में से एक थे, जो कांग्रेस और जेडीएस से बीजेपी में शामिल हुए थे। हालाँकि इस आरोप के बाद सोमवार को वह अपने बयान से पलट गए कि उनको पैसे की पेशकश की गई थी। 

अब गडकरी के इस बयान को उस संदर्भ में देखा जा रहा है कि क्या इस बयान से किसी पर निशाना साधा गया है। वह कई बार बीजेपी सरकार के ख़िलाफ़ बयान देकर विवादों में भी रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें