loader

ओमप्रकाश राजभर का 'एसी वाले अखिलेश' बयान पर यूटर्न

सपा प्रमुख अखिलेश यादव के एसी में रहने वाला बयान देने के बाद सुहेलदेव पार्टी प्रमुख ओमप्रकाश राजभर अपने बयान से मुकर गए हैं। उनका कहना है कि अखिलेश से कहेंगे कि वो घर से निकलकर ज्यादा से ज्यादा जनता से मिलें। राजभर के बयान पर बीजेपी चुटकी ले रही है। राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ने पिछला विधानसभा चुनाव सपा के साथ मिलकर लड़ा था। दोनों दलों के बीच अब दूरियां बढ़ रही हैं। ओमप्रकाश राजभर ने रविवार को अपने कार्यकर्ताओं की बैठक को संबोधित करते हुए कहा था कि यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री को एयर कंडीशनर की आदत हो गई है। उन्हें बाहर निकलने और लोगों से ज्यादा से ज्यादा मिलने की जरूरत है।

बैठक के बाद पत्रकारों के पूछे जाने पर राजभर ने टिप्पणियों से इनकार नहीं किया। लेकिन लखनऊ जाकर राजभर का बयान थोड़ा बदल गया। राजभर ने कहा कि मेरा कहने का आशय यह था कि अखिलेश को बाहर जाना चाहिए और विभिन्न क्षेत्रों का दौरा करना चाहिए और अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं और नेताओं से मिलना चाहिए, यही मेरा कहना था। मैं लखनऊ जाऊंगा और सुनिश्चित करूंगा कि वह बाहर आएं। 
ताजा ख़बरें
बीजेपी ने राजभर की टिप्पणियों पर चुटकी ली। बीजेपी के शहजाद पूनावाला के एक ट्वीट में कहा गया है, "सपा के सहयोगी ओपी राजभर का कहना है कि अखिलेश यादव एसी के बहुत आदी हैं और सड़कों पर नहीं उतर रहे हैं...खैर "परिवार पहले" वाली पार्टियां आमतौर पर विदेश दौरे / एसी / छुट्टी / पार्टी मोड में 4.5 साल बिताती हैं। चुनाव से पिछले 6 महीने पहले वे प्रचार मोड में चले जाते हैं। अभी बबुआ वेकेशन मोड में हैं।

मार्च में, राज्य के चुनाव में समाजवादी पार्टी की हार के ठीक बाद, राजभर के फिर से पूर्व सहयोगी बीजेपी की ओर झुकाव की अटकलें थीं। इसकी शुरुआत बीजेपी के मुख्य रणनीतिकार अमित शाह से उनकी मुलाकात की खबरों के बीच हुई थी। चर्चा यह है कि राजभर ने होली पर बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की। बैठक की एक कथित तस्वीर भी सोशल मीडिया पर सामने आई, जो बाद में चार साल पुरानी निकली। राजभर ने किसी भी बैठक के होने से इनकार किया।

राजनीति से और खबरें
ओमप्रकाश राजभर की पार्टी का पूर्वी उत्तर प्रदेश में अन्य पिछड़ा वर्ग के बीच काफी प्रभाव है। 2017 में राजभर ने एनडीए गठबंधन के हिस्से के रूप में राज्य का चुनाव लड़ा था। लेकिन उन्होंने 2019 में लोकसभा चुनाव के बीच में यह शिकायत करते हुए गठबंधन छोड़ दिया कि उन्हें बीजेपी, विशेष रूप से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा "अनदेखा" किया जा रहा है। पार्टी इस बात से नाराज थी कि उसे पूर्वी उत्तर प्रदेश में चुनाव लड़ने के लिए पर्याप्त सीटें नहीं दी गईं। 

अप्रैल 2019 में, राजभर ने नाटकीय रूप से लखनऊ में योगी आदित्यनाथ के घर में अपने त्यागपत्र के साथ सुबह 3 बजे मार्च किया और उनसे मिलने की मांग की। जब बताया गया कि मुख्यमंत्री सो रहे हैं तो वह चले गए।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें