loader

सोनिया की डांट, कहा- कांग्रेस नेताओं में स्पष्टता-सामंजस्य की कमी

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बार फिर पार्टी के नेताओं को डांट लगाई है। मंगलवार को दिल्ली में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्षों, पार्टी महासचिवों और प्रभारियों की बैठक में सोनिया ने कहा कि राज्यों के कांग्रेस नेताओं में स्पष्टता और सामंजस्य की कमी दिखाई देती है। 

सोनिया ने पार्टी नेताओं से निजी स्वार्थों को पीछे रखकर अनुशासन और एकता पर विशेष ध्यान देने के लिए कहा। सोनिया ने ऐसा कहकर पार्टी में बाग़ी नेताओं के G-23 गुट को नसीहत दी। क्योंकि G-23 गुट के नेता अकसर मीडिया में बयानबाज़ी करते हैं। लगातार बयानबाज़ी कर रहे नवजोत सिंह सिद्धू के लिए भी यह एक संदेश था। 

कुछ दिन पहले हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में G-23 गुट के नेताओं की ओर इशारा करते हुए सोनिया ने कहा था कि उन्होंने हमेशा से ही खुलकर बात करने की हिमायत की है और उनसे मीडिया के जरिये बात करने की कोई ज़रूरत नहीं है। सोनिया ने कहा था कि वह कांग्रेस की पूर्णकालिक अध्यक्ष हैं। 

ताज़ा ख़बरें

सोनिया ने बैठक में मौजूद पार्टी नेताओं को संबोधित करते हुए कहा कि हम सभी का ध्यान संगठन को मजबूत करने पर होना चाहिए। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा सहित कई वरिष्ठ नेता बैठक में मौजूद रहे। 

Sonia Gandhi to G 23 Congress Leaders - Satya Hindi
बैठक में मौजूद पार्टी नेता।

‘बीजेपी-संघ से लड़ें’

सोनिया गांधी ने पार्टी नेताओं से अपील की कि वे बीजेपी और संघ के पैशाचिक अभियान के ख़िलाफ़ लड़ें। बैठक के बाद पार्टी के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस ब्रीफ़िंग में कहा कि पार्टी जनहित के मुद्दों पर लड़ाई लड़ेगी और लोगों को पार्टी से जोड़ेगी। 

संगठन के चुनाव होंगे 

G-23 गुट के नेता बीते डेढ़ साल से कांग्रेस के भीतर नए अध्यक्ष के चुनाव को लेकर लगातार आवाज़ उठा रहे थे। लेकिन कांग्रेस ने कार्यसमिति की बैठक के बाद बताया था कि वह ब्लॉक से लेकर बूथ अध्यक्ष, जिला और प्रदेश अध्यक्ष से लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष तक का चुनाव कराएगी, उसने इसका कार्यक्रम भी जारी किया था। 

राजनीति से और ख़बरें

राज्य इकाइयों में घमासान

बीते कई महीनों से पार्टी की पंजाब इकाई में घमासान जारी है। राजस्थान और छत्तीसगढ़ में घमासान फिलहाल थमा हुआ है। हालांकि पार्टी ने पेगासस जासूसी मामले से लेकर किसान आंदोलन और महंगाई से लेकर बेरोज़गारी व अन्य ज़रूरी मुद्दों को पूरी मज़बूती के साथ उठाया है लेकिन फिर भी पार्टी अपने आंतरिक झगड़ों और नेताओं के पार्टी छोड़ने के कारण कमजोर होती दिख रही है।

पांच राज्यों के चुनाव के रूप में पार्टी के सामने एक बड़ी चुनौती सामने खड़ी है। हालांकि वह जीत के लिए जोर भी पूरा लगा रही है। उसे इन चुनावों में जीत हासिल करनी ही होगी, तभी वह 2024 के चुनाव में बीजेपी को टक्कर दे पाएगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें