loader

हरीश रावत बोले- पंजाब कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं 

पंजाब कांग्रेस में एक बार फिर शुरू हुई  सियासी उठापटक के बीच राज्य में पार्टी के प्रभारी हरीश रावत का बड़ा बयान सामने आया है। रावत ने गुरूवार को कहा कि पंजाब कांग्रेस में सब कुछ ठीक नहीं है। रावत के बयान का यह भी मतलब है कि इतने महीनों से राज्य के सियासी क्षत्रपों के बीच चल रहे घमासान को ख़त्म करने की जो कवायद हाईकमान कर रहा है, उसका नतीजा अब तक सिफर ही रहा है। 

बीते कुछ दिनों में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के ख़िलाफ़ पार्टी के नेताओं ने फिर से मोर्चा खोला है और इसी बीच प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकारों के बयानों ने भी पार्टी को मुश्किल में डाल दिया था। इसके बाद सिद्धू का बयान आ गया कि अगर उन्हें फ़ैसले लेने की छूट नहीं दी गई तो वह ईंट से ईंट बजा देंगे। 

इन सब बातों की वजह से हरीश रावत को फिर से पंजाब और कांग्रेस हाईकमान के दरवाज़े पर जाना पड़ा। 

ताज़ा ख़बरें

पंजाब में दो दिन तक रुकने और तमाम नेताओं से बातचीत के बाद गुरूवार को पत्रकारों के इस सवाल के जवाब में कि क्या पंजाब कांग्रेस में सब ऑल इज वैल है, रावत ने कहा कि वे ऑल इज वैल तो नहीं कहेंगे लेकिन हम उस दिशा में बढ़ रहे हैं, जहां सब चीजें ठीक हो जाएं। रावत ने कहा कि थोड़े-बहुत जो सवाल हैं, उन्हें हल करने की कोशिश हो रही है।

देखिए, हरीश रावत से खास बातचीत- 

अमरिंदर-सिद्धू को नसीहत 

रावत ने इस दौरान अपनी बात को साफ करते हुए कहा कि अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू को मिलकर काम करना ही होगा और इसी में दोनों का फ़ायदा है। उन्होंने कहा कि ऐसा न करने से सबसे ज़्यादा नुक़सान उन्हीं लोगों को होगा, जो सबसे ताक़तवर पदों पर बैठे हैं। 

Harish rawat said all is not well in Punjab congress - Satya Hindi

बेलगाम होते सिद्धू 

कांग्रेस ने अमरिंदर सिंह की नाराज़गी और विरोध के बाद सिद्धू को प्रदेश अध्यक्ष बना तो दिया है लेकिन यह कहीं पार्टी को भारी न पड़ जाए। सिद्धू का यह कहना कि वे हाईकमान को बताकर आए हैं कि अगर उन्हें फ़ैसले लेने की छूट नहीं दी गई तो वे ईंट से ईंट बजा देंगे, ये बयान सीधे-सीधे हाईकमान को चुनौती जैसा है। 

इसके अलावा सिद्धू के खासमखास परगट सिंह का ये कहना कि हरीश रावत को ये अधिकार किसने दिया कि वे मुख्यमंत्री का चेहरा तय करें, यह भी रावत सहित पार्टी हाईकमान के लिए चुनौती है। सिद्धू के सलाहकारों के बयानों की तो कांग्रेस के बड़े नेताओं ने तक मज़म्मत की। 

पंजाब से और ख़बरें

और ये सब बवाल बीते एक-डेढ़ महीने में ही हुआ है। चुनाव के नज़दीक आने तक रब न जाने क्या होगा। ऐसे में पार्टी हाईकमान के सामने सिद्धू एक बहुत बड़ी चुनौती बनकर खड़े हो गए हैं। 

दूसरी ओर, रावत जब पंजाब पहुंचे, थोड़ी देर बाद सिद्धू दिल्ली आ गए। यहां वे किससे मिले ये तो पता नहीं लेकिन ऐसी ख़बरें हैं कि उन्होंने हाईकमान से मिलने की कोशिश की थी। लेकिन उन्हें वक़्त नहीं दिया गया और सिद्धू वापस पंजाब लौट गए। 

रावत के ताज़ा बयान और सिद्धू के तेवरों को देखकर यही लगता है कि आने वाले दिन पंजाब में कांग्रेस के लिए बहुत भारी साबित होने वाले हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें