loader

क्या अब चीन की ओर दोस्ती का हाथ बढ़ा रहे हैं खालिस्तानी?

चीन के संबंध अब भारत विरोधी खालिस्तानियों से भी कायम हो गए हैं। अमेरिका में बैठकर खालिस्तान के लिए 'रेफरेंडम-2020' की मुहिम चलाने वाले सिख़्स फ़ॉर जस्टिस (एसएफ़जे) के कानूनी सलाहकार और इस संगठन के संयोजक कहे जाने वाले गुरपतवंत सिंह पन्नू की चीन से बढ़ती नजदीकियों के सुबूत मिलने के बाद पंजाब में 18 जून को पन्नू के ख़िलाफ़ देशद्रोह का नया मुक़दमा दर्ज किया गया है। 

गौरतलब है कि खालिस्तानी मुहिम के इस पैरोकार के ख़िलाफ़ बीते 3 महीनों में पंजाब में 21 डेली डायरी रजिस्टर (डीडीआर) और तीन एफ़आईआर दर्ज की गई हैं। एसएफ़जे पंजाब में प्रतिबंधित है लेकिन सोशल मीडिया और फ़ोन के जरिए इन दिनों उसकी गतिविधियां खासी तेज हैं। 

ताज़ा ख़बरें

‘रेफरेंडम-2020’ के लिए पंजीकरण 

पंजाब में हर दिन हजारों लोगों को विदेश से लगातार अलग-अलग नंबरों से प्री-रिकॉर्डेड ऑडियो मैसेज आ रहे हैं। इनमें भारत का विरोध करने, खालिस्तान की हिमायत करने की गुजारिश के साथ-साथ कहा जा रहा है कि 4 जुलाई को पंजाब ‘रेफरेंडम-2020’ के लिए पंजीकरण शुरू हो गया है और रजिस्ट्रेशन करवा कर एसएफ़जे को अपना सहयोग दें। यह संदेश कई पुलिस अधिकारियों के फ़ोन पर भी आया है। तथ्य साफ बताते हैं कि गहरी साज़िश रची जा रही है और गुरपतवंत सिंह पन्नू को चीन का समर्थन हासिल हो चुका है।

पंजाब से और ख़बरें
लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प के बाद पन्नू ने चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को एक खत लिखा और उसे सोशल मीडिया पर जारी किया। पन्नू ने शी जिनपिंग को लिखा है, ‘एसएफ़जे सिख संप्रभुतावादी समूह है और भारतीय क्षेत्र में पंजाब की स्वतंत्रता के सवाल पर पहली बार अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी जनमत संग्रह कराने के लिए काम कर रहा है। हम लद्दाख सीमा पर चीन के कई सैनिकों की मौत पर अफसोस जाहिर करते हैं और मोदी सरकार की कड़ी निंदा करते हैं।’
Khalistani now seeking support from China - Satya Hindi
पन्नू द्वारा शी जिनपिंग को लिखा ख़त।

‘चीनियों के साथ सहानुभूति’

पन्नू ने आगे लिखा है, ‘हम चीन के लोगों के साथ सहानुभूति रखते हैं क्योंकि हम ऐसे लोग हैं जिनकी भूमि और संसाधन भारतीय कब्जे में हैं और जिन्होंने 1947 से लगातार भारतीय राज्य के हाथों नरसंहार का सामना किया है। हम चीन के लोगों का आभार व्यक्त करते हैं कि उन्होंने भारत से पंजाब के अलगाव के लिए ग़ैर-सरकारी ‘रेफरेंडम-2020’ के लिए एसएफ़जे का समर्थन किया है।’ 

खालिस्तानी नेता पन्नू ने ख़त में लिखा है, ‘हम इस साल के अगस्त में पंजाब इंडिपेंडेंस रेफरेंडम के लिए मतदाता पंजीकरण के संबंध में यूरोप और एशिया के कई देशों सहित बीजिंग यात्रा को तत्पर हैं। खालिस्तान के लिए हमें निश्चित तौर पर चीन का समर्थन मिलेगा, ऐसा विश्वास है।’

यह ख़त साबित करता है कि अलगाववादी खालिस्तानियों ने चीन तक पहुंच बना ली है। पाकिस्तान तो पहले से ही उनके साथ था। जिन नंबरों से ऐसे संदेश आ रहे हैं, उनमें से 60 नंबर सरकार द्वारा ब्लॉक किए जा चुके हैं। एक वरिष्ठ अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है।

Khalistani now seeking support from China - Satya Hindi
गुरपतवंत सिंह पन्नू

चीन-पाकिस्तान से आ रहे फ़ोन

‘रेफरेंडम-2020’ के लिए इन दिनों जो फ़ोन-संदेश पंजाब में आ रहे हैं, वे ज्यादातर चीन से जारी किए जाते हैं। इनमें एक महिला की आवाज होती है। कुछ फ़ोन पाकिस्तान के नंबरों से आते हैं। आ रहीं फ़ोन कॉल्स की बाबत 13 और 15 जून के बीच डीडीआर दर्ज की गई है। एक व्यक्ति खुद को इमरान बताता है और कहता है, ‘एसएफ़जे ने पंजाब ‘रेफरेंडम-2020’ के लिए मतदाता पंजीकरण शुरू किया है। आज आपके पास मौका है कि आप इसमें शामिल होकर 1947 में की गई भूल को सुधार सकते हैं। पाकिस्तान आपका शांतिप्रिय पड़ोसी है और सहयोगी भी।’

यहां जिक्र-ए-खास है कि गुरपतवंत सिंह पन्नू पंजाब में बड़े पैमाने पर लोगों को मिल रहे इन फ़ोन संदेशों की जिम्मेदारी सार्वजनिक तौर पर और सोशल मीडिया के जरिए ले चुका है।

अमरिंदर ने दी चेतावनी

ताज़ा देश विरोधी संदेशों के बाद पंजाब सरकार ने 18 जून को उसके ख़िलाफ़ धारा 124-ए, (राजद्रोह), 131,153-ए की धारा 10 (ए) और 13 (1) के तहत केस दर्ज किया है। यह कार्रवाई उस वक्त की गई है जब पन्नू ने भारत विरोधी गतिविधियों के लिए चीन की सरकार से सहयोग मांगा है। खुद मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह कड़ी चेतावनी दे चुके हैं कि पन्नू पंजाब में अपनी देश विरोधी गतिविधियों से बाज़ आए।

पन्नू समर्थकों पर पैनी निगाह 

राज्य में पुलिस महानिदेशक के आदेश पर पन्नू समर्थकों पर पैनी निगाह रखी जा रही है। पिछले दिनों हुई कुछ गिरफ्तारियों से यह भी सामने आया कि एसएफ़जे अपने मिशन के लिए पंजाब में फंडिंग कर रहा है। पन्नू द्वारा चीनी राष्ट्रपति को समर्थन की गुहार वाले और लद्दाख में हुई मुठभेड़ में चीन का खुला समर्थन करने के बाद सरकार अतिरिक्त सावधान है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अमरीक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें