loader

पंजाब चुनाव: मनजिंदर सिरसा बीजेपी में शामिल, अकाली दल को झटका 

पंजाब के विधानसभा चुनाव से ठीक पहले बीजेपी ने शिरोमणि अकाली दल को तगड़ा झटका देते हुए उसके बड़े नेता मनजिंदर सिंह सिरसा को पार्टी में शामिल कर लिया है। अकाली दल ने इसे खालसा पंथ के साथ धोखा बताया है तो बीजेपी को उम्मीद है कि सिरसा के आने से उसे पंजाब ही नहीं दिल्ली की सियासत में भी फ़ायदा मिलेगा। 

सिरसा के बीजेपी में शामिल होने के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने जिस गर्मजोशी से उनका ख़ैर-मक़दम किया, उससे पता चलता है कि बीजेपी उन्हें पंजाब के चुनाव में कोई बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है। 

सुखबीर के थे क़रीबी 

सिरसा को अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल का बेहद क़रीबी माना जाता था। दिल्ली में अकाली दल की पूरी सिख राजनीति सिरसा के भरोसे ही चलती थी। सिरसा दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीपीसी) के अध्यक्ष भी थे लेकिन बीजेपी में शामिल होने से पहले ही उन्होंने यह पद छोड़ दिया। 

ताज़ा ख़बरें

कृषि क़ानूनों का किया विरोध 

कृषि क़ानूनों का मुखर विरोध करने के साथ ही सिरसा पंथ के मामलों में भी बढ़-चढ़कर आवाज़ उठाते रहे हैं। पंजाब, हरियाणा से लेकर दिल्ली, यूपी और उत्तराखंड के सिख समुदाय के बीच वह जाना-पहचाना चेहरा हैं। ऐसे में सिरसा का बीजेपी किस तरह चुनावी इस्तेमाल करेगी, यह आने वाले दिनों में देखने को मिलेगा। 

दिल्ली में एक बड़ी आबादी सिखों और पंजाबियों की है। इनकी बहुत बड़ी रिश्तेदारी पंजाब में है और कारोबारी रिश्ते भी हैं। डीएसजीपीसी का अध्यक्ष रहने के कारण सिरसा की विशेषकर दिल्ली और पंजाब के सिखों के बीच अच्छी पहचान मानी जाती है। 

Manjinder singh Sirsa joins BJP ahead Punjab elections 2022 - Satya Hindi
पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ बन रहे सियासी समीकरणों के बीच बीजेपी को सिरसा के आने से पंजाब के चुनाव में फ़ायदा मिल सकता है। 

दिल्ली की राजौरी गार्डन सीट से विधायक रहे सिरसा ने डीएसजीपीसी का अध्यक्ष रहते हुए किसान आंदोलन में जमकर लंगर लगाए और किसानों की आवाज़ को भी बुलंद किया। लेकिन किसान नेता बूटा सिंह बुर्जगिल ने कहा है कि सिरसा ख़ुद को किसानों का बड़ा समर्थक होने का दावा करते थे लेकिन उनका यह यू टर्न बताता है कि लोग इस आंदोलन का किस तरह इस्तेमाल करना चाहते हैं। 

पंजाब से और ख़बरें

याद दिला दें कि अकाली दल लंबे वक़्त तक बीजेपी का सहयोगी रहा है लेकिन कृषि क़ानूनों पर रार के चलते बीते साल उसने बीजेपी के साथ रिश्ता तोड़ लिया था। 

बहरहाल, बीजेपी को पंजाब और दिल्ली में किसी बड़े सिख चेहरे की तलाश थी और माना जा रहा है कि सिरसा के शामिल होने के बाद उसकी यह तलाश ख़त्म हो गयी है।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें