loader
फ़ाइल फ़ोटो

राहुल से मिले सिद्धू, फिर से प्रदेश अध्यक्ष के रूप में करेंगे काम

पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने वाले नवजोत सिंह सिद्धू शुक्रवार रात को पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मिले। मुलाक़ात के बाद सिद्धू ने पत्रकारों को बताया, “मेरी जो चिंताएं थीं, मैंने उन्हें राहुल जी के सामने रखा, वे सब हल हो गई हैं।” सिद्धू ने बीते महीने प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देकर पंजाब की राजनीति में ख़ासी हलचल मचा दी थी। 

सिद्धू के बयान का यह मतलब समझा जाना चाहिए कि अब वह एक बार फिर से सक्रिय होकर मैदान में दिखाई देंगे। 

सिद्धू की राहुल गांधी के साथ मुलाक़ात के बाद पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा, “सिद्धू ने राहुल गांधी से कहा है कि वे प्रदेश अध्यक्ष के रूप में अपना काम शुरू कर रहे हैं।” 

ताज़ा ख़बरें

सिद्धू गुरूवार शाम को पार्टी के दिल्ली स्थित राष्ट्रीय दफ़्तर पहुंचे थे। यहां सिद्धू ने हरीश रावत और पार्टी के महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल के सामने अपनी बातों को रखा था। 

पेशी के बाद सिद्धू ने पत्रकारों से कहा था, “मैंने पंजाब को लेकर, पंजाब कांग्रेस को लेकर जो मेरी चिंताएं थीं, उन्हें पार्टी हाईकमान को बताया है। मुझे कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी और राहुल गांधी पर पूरा भरोसा है। मुझे पूरा भरोसा है कि वे जो भी फ़ैसला लेंगे, वो पंजाब के हित में होगा। 

क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू ने कहा था कि वह पार्टी हाईकमान के हर आदेश का पालन करेंगे। 

इसके बाद हरीश रावत ने कहा था, “सिद्धू अपनी बात कह चुके हैं कि वे कांग्रेस नेतृत्व के आदेश का पालन करेंगे और आदेश साफ है कि सिद्धू पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष के तौर पर अपना काम पूरी ताक़त के साथ करें।” 

मतलब साफ है कि पार्टी हाईकमान चाहता है कि सिद्धू बतौर प्रदेश अध्यक्ष काम करें। कांग्रेस नहीं चाहती कि पंजाब उसके हाथ से निकल जाए, इसलिए वह काफी फूंक-फूंक कर क़दम रख रही है और सिद्धू की तमाम हरक़तों को नज़रअंदाज करने के लिए भी मजबूर है।

दूरियां ख़त्म?

इससे पहले सिद्धू मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के बेटे के शादी समारोह में नहीं दिखाई दिए थे और यह माना गया था कि दोनों नेताओं के बीच दूरियां बरकरार हैं। लेकिन अब जब सिद्धू ने कहा है कि उनके जो मुद्दे थे, वे सब हल हो गए हैं, तो माना जाना चाहिए कि वह मुख्यमंत्री के साथ मिलकर पार्टी को आने वाले विधानसभा चुनाव में जीत दिलाने के लिए जुटेंगे। 

पंजाब से और ख़बरें

हाईकमान को दिया था झटका 

कांग्रेस हाईकमान ने पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के लाख विरोध के बाद सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया था। लेकिन सिद्धू ने अपने पद से इस्तीफ़ा देकर हाईकमान को जोर का झटका दिया था। इससे हाईकमान की ख़ासी किरकिरी हुई थी और साथ ही अमरिंदर सिंह ने भी पार्टी से पूरी तरह किनारा कर लिया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें