loader

नवजोत सिद्धू बोले- कांग्रेस मरने वाली हालत में है

तमाम विरोधों को दरकिनार कर नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाने वाले कांग्रेस हाईकमान के लिए यह दांव शायद उल्टा पड़ गया है। सिद्धू ने लखीमपुर खीरी मामले में सक्रियता तो दिखाई लेकिन अब उनका एक ऐसा वीडियो वायरल हुआ है, जो पार्टी के लिए शर्मिंदगी का विषय बन सकता है। पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देकर सिद्धू पहले ही सोनिया गांधी की राजनीतिक जगत में जमकर किरकिरी करा चुके हैं। 

बता दें कि सिद्धू ने एलान किया था कि अगर शुक्रवार तक केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के पुत्र आशीष मिश्रा की गिरफ़्तारी नहीं हुई तो वह भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे। सिद्धू ने गुरूवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ पंजाब के मोहाली से मार्च निकाला और शुक्रवार को लखीमपुर पहुंचकर वहां भूख हड़ताल भी शुरू कर दी है। 

ताज़ा ख़बरें
लेकिन मार्च के दौरान सिद्धू जब कांग्रेस कार्यकर्ताओं और मीडिया से घिरे हुए थे, उनके मुंह से कुछ ऐसा निकला जो शायद जीवन भर उनका पीछा नहीं छोड़ेगा। वीडियो में दिख रहा है कि सिद्धू इस वजह से बेचैन हैं क्योंकि उन्हें मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के लिए इंतजार करना पड़ा। 
Navjot Sidhu said Congress In Dying Stages - Satya Hindi

इस दौरान सिद्धू के साथ उनके क़रीबी और कैबिनेट मंत्री परगट सिंह भी खड़े हैं। परगट सिंह उन्हें शांत करने की कोशिश करते हुए कहते हैं कि चन्नी जल्द ही आ जाएंगे। वहीं खड़े पंजाब कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुखविंदर सिंह डैनी सिद्धू को बताते हैं कि यह मार्च पूरी तरह सफल रहेगा। 

लेकिन सिद्धू उखड़े हुए अंदाज में कहते हैं, कहां है सफलता। वह आगे कहते हैं, सरदार भगवंत सिंह सिद्धू (सिद्धू के पिता का नाम) के बेटे को जाने तो दें, फिर पता लगेगा। क्रिकेटर से राजनेता बने सिद्धू आगे कहते हैं कांग्रेस बिलकुल मरने वाली स्थिति में है। इस दौरान उनके मुंह से एक अपशब्द भी निकलता है।

पंजाब से और ख़बरें

अकाली दल ने बोला हमला 

सिद्धू के इस तरह के बयान को पंजाब के विपक्ष दल शिरोमणि अकाली दल ने तुरंत लपक लिया है। अकाली दल ने कहा है कि यह दिखाता है कि सिद्धू दलित समुदाय का सम्मान नहीं करते। उन्होंने कहा कि सोनिया गांधी को पंजाब के लोगों को बताना चाहिए कि वह एक दलित को मुख्यमंत्री बनाकर आख़िर क्यों पंजाब के लोगों को बेवकूफ बनाने की कोशिश कर रही हैं लेकिन इसके साथ ही वह सिद्धू पर पूरा भरोसा रखती हैं। 

सिद्धू ने जब पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दिया था तब भी पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा था कि वह एक स्थिर शख़्स नहीं हैं। इसके अलावा भी तमाम तरह के आरोप अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर लगाए थे।

पंजाब कांग्रेस के लिए मुसीबत 

सिद्धू की इस तरह की हरक़तों ने निश्चित रूप से कांग्रेस को मुसीबत में डाल दिया है। पंजाब में पांच महीने के अंदर चुनाव होने हैं और उससे ठीक पहले उनका प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे देना पार्टी की सत्ता में वापसी की संभावनाओं को कमजोर कर देता है। सिद्धू की वजह से ही पार्टी ने अपने पुराने वफादार सिपाही अमरिंदर सिंह को लगभग खो दिया है। 

देखना होगा कि पंजाब चुनाव से पहले सिद्धू पार्टी के लिए और मुसीबत खड़ी करते हैं या फिर पार्टी को चुनाव जिताने के लिए मैदान में पूरी ताक़त के साथ उतरते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें