loader

अमरिंदर : सिद्धू को सीएम नहीं बनने दूँगा, चुनाव में मजबूत उम्मीदवार उतारूँगा

कैप्टन अमरिंदर सिंह को पंजाब के मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद भी कांग्रेस का संकट ख़त्म नहीं हुआ है। इसके उलट यह मामला उलझता जा रहा है और आने वाले दिनों में पंजाब कांग्रेस का संकट और गहरा हो सकता है। 

यह इससे ज़ाहिर है कि अमरिंदर सिंह ने कहा है कि 'वे किसी कीमत पर नवजोत सिंह सिद्धू को राज्य का मुख्यमंत्री नहीं बनने देंगे' और इसके लिए 'कोई भी त्याग करने को तैयार हैं।' 

कैप्टन ने कहा कि वे पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 में नवजोत सिंह सिद्धू को रोकने के लिए उनके ख़िलाफ़ मजबूत उम्मीदवार मैदान में उतारेंगे।

'सिद्धू राज्य के लिए ख़तरनाक'

उन्होंने इसका कारण बताते हुए कहा, "सिद्धू राज्य के लिए ख़तरनाक हैं।"

याद दिला दें कि नवजोत सिंह सिद्धू ने शुरू से ही अमरिंदर सिंह का विरोध किया है। 

दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस में रहते हुए उन्होंने कांग्रेस के मुख्यमंत्री के खिलाफ़ मोर्चा खोल दिया और यह साबित करने में लग गए कि कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री ने चुनाव पूर्व वायदे पूरे नहीं किए और आगे भी कर देंगे, यह क़ूवत उनमें नहीं है।  

ख़ास ख़बरें

कलह शांत करने के लिए सिद्धू को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बना दिया गया। पर मामला और उलझ गया। अंत में कांग्रेस के पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने विधायक दल की बैठक रखी। मुख्यमंत्री ने उस बैठक से पहले ही पद से इस्तीफ़ा दे दिया।

चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया गया है।

punjab congress crisis deepens as amarinder singh targets navjot singh sidhu   - Satya Hindi

क्या कहना है कैप्टन का?

कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पद से हटने के बाद ही कहा था कि वे सिद्धू को मुख्यमंत्री के रूप में स्वीकार नहीं कर सकते और यदि उन्हें मुख्यमंत्री बनाया गया तो वे उसका विरोध करेंगे। 

उन्होंने इसका कारण बताते हुए कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू के संपर्क पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान और पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा से हैं।

उन्होंने यह भी कहा था कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है। 

punjab congress crisis deepens as amarinder singh targets navjot singh sidhu   - Satya Hindi
पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल बाजवा से गले मिलते सिद्धू

इमरान से दोस्ती पर विवाद

बता दें कि सिद्धू क्रिकेटर से राजनेता बने हैं और इमरान ख़ान पाकिस्तान की ओर से क्रिकेट खेल चुके हैं। इमरान ख़ान ने प्रधानमंत्री पद की शपथ लेते समय उस समारोह में सिद्धू को न्यौता भेजा था और वे गए भी थे।

इसके अलावा नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तानी सेना के प्रमुख जनरल बाजवा से गले मिले थे। इस पर सिद्धू की बहुत आलोचना हुई थी। उस समय कैप्टन ने उन्हें पाकिस्तान न जाने की सलाह दी थी, पर वे नहीं माने थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें