loader
फ़ाइल फ़ोटो

गोरक्षकों के कारण अलवर में बीजेपी ने खाई मात

गोरक्षा के नाम पर हुई मॉब लिंचिंग के कारण चर्चा में आए अलवर ज़िले में इस बार विधानसभा चुनाव में बीजेपी को अच्छा-खासा नुक़सान हुआ है। पार्टी को यहाँ 2013 में 9  सीटें मिली थी लेकिन इस बार यह संख्या 2 पर आकर रुक गई। अलवर ज़िले में पिछले साल गोरक्षा के नाम पर मेवात के रहने वाले पहलू ख़ान और इस साल रक़बर ख़ान की हत्या कर दी गई थी।अलवर ज़िले में बीजेपी इस बार सिर्फ़ अलवर (शहर) और मुंडावर सीट को बचा पाई जबकि तिजारा, किशनगढ़ बास, बहरोर, बांसुर, थंगाजी, अलवर(ग्रामीण), काठुमार और राजगढ़-लक्ष्मणगढ़ सीटों पर उसे हार का सामना करना पड़ा।अलवर हरियाणा की सीमा से लगता हुआ ज़िला है और यहाँ बड़ी संख्या में दूध का काम करने वाले किसान रहते हैं। एक किसान ने बताया कि गोरक्षकों के डर के कारण गायों को लाना बहुत कठिन हो गया है और इससे हमारा जीवन प्रभावित हो रहा है।खेतों में आवारा जानवरों के घुस जाने के कारण भी यहाँ के किसान बहुत परेशान हैं। स्थानीय किसानों का कहना है कि उन्हें रात को टॉर्च और डंडा लेकर पहरा देना पड़ता है कि कहीं कोई जानवर खेतों में न घुस जाए। किसानों का कहना है कि बीजेपी ने उनकी समस्याओं पर कोई ध्यान नहीं दिया।

बीजेपी के ख़िलाफ़ दिया वोट

मेवात के इलाक़े में दलित, जनजाति और मुसलिम वोट काफ़ी संख्या में हैं और इन्होंने बीजेपी के ख़िलाफ़ वोट दिया है। इसे कुछ सीटों के चुनाव परिणाम से समझ सकते हैं। जैसे, तिजारा में बीएसपी उम्मीदवार संदीप कुमार यादव ने यादव और बीजेपी के दलित वोटों में सेंध लगाई और बीजेपी को नुक़सान पहुँचाया। किशनगढ़ बास में बीएसपी के दीपचंद ने गुर्जर और जाट वोट लेकर बीजेपी उम्मीदवार को हराने में अहम भूमिका निभाई।

भरतपुर में नहीं मिली कोई सीट

भरतपुर में बीजेपी को काफ़ी नुक़सान हुआ। यहाँ बीजेपी ने 2013 में 6 में से 5 सीटें जीती थीं लेकिन इस बार उसे एक भी सीट नहीं मिली। यहाँ नदबई और नागर सीटों पर एससी और एसटी वोट बीएसपी उम्मीदवार को मिले। नागर सीट पर बीएसपी के उम्मीदवार वाज़िब अली ने मुस्लिम, जाट और दलित वोट बटोरे और बीजेपी को तीसरे नंबर पर धकेल दिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें