loader

अशोक गहलोत पर दबाव बनाने की कोशिश?, ईडी आज करेगी भाई से पूछताछ

राजस्थान की सियासत में जांच एजेंसियों के द्वारा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर मुकम्मल दबाव बनाने की कोशिश की जा रही है। कुछ दिन पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत के जोधपुर स्थित घर व कई अन्य ठिकानों पर छापेमारी की थी। 

यह छापेमारी कथित फर्टिलाइजर घोटाले में मनी लॉन्ड्रिन्ग के आरोपों को लेकर हुई थी। जोधपुर के अलावा ईडी ने राजस्थान में उनके छह ठिकानों, गुजरात में चार, बंगाल में दो और दिल्ली में एक जगह पर भी छापे मारे थे। अग्रसेन गहलोत जोधपुर में अनुपम कृषि नाम की कंपनी चलाते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

इसके बाद ईडी की ओर से उन्हें समन भेजा गया और उनसे बुधवार को दिल्ली स्थित मुख्यालय पर जांच अधिकारियों के सामने हाजिर होने के लिए कहा गया है। 

कांग्रेस लगातार आरोप लगा रही है कि केंद्र की मोदी सरकार सीबीआई, ईडी, इनकम टैक्स जैसी प्रतिष्ठित जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है। दूसरी ओर, बीजेपी भी राजस्थान पुलिस की एसओजी और एंटी करप्शन ब्यूरो के द्वारा दर्ज मुक़दमों को लेकर सवाल दाग रही है। 

क्यों हुई थी छापेमारी?

ईडी के अधिकारियों के मुताबिक, अग्रसेन गहलोत पर आरोप है कि उन्होंने म्यूरिऐट ऑफ़ पोटाश (एमओपी) को विदेशी कंपनियों को बेच दिया और उन्हें यह एमओपी सब्सिडी वाले रेट्स पर मिली थी। आरोप है कि इससे सरकार को 60 करोड़ रुपये का नुक़सान हुआ है। एमओपी पौधों के बढ़ने के लिए ज़रूरी होती है। ईडी ने इस मामले में प्रीवेंशन ऑफ़ मनी लॉन्ड्रिन्ग एक्ट के तहत केस दर्ज किया है। 

राजस्थान से और ख़बरें

‘मोदी का रेड राज’

कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने छापेमारी पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था, ‘जैसे ही राजस्थान में कांग्रेस की चुनी हुई सरकार को गिराने का षड्यंत्र शुरू हुआ, 13 जुलाई को इनकम टैक्स और ईडी ने कांग्रेस नेता राजीव अरोड़ा, धर्मेंद्र राठौड़ और फेयरमॉन्ट होटल के मालिक रतन शर्मा के ठिकानों पर छापे मारी शुरू कर दी।’

सुरजेवाला ने कहा था कि मोदी जी, आपने इस देश में रेड राज पैदा किया हुआ है और इससे राजस्थान डरने वाला नहीं है। उन्होंने आरोप लगाया था कि जब बीजेपी का नेतृत्व फ़ेल हो जाता है तो ईडी, इनकम टैक्स, सीबीआई आगे आ जाती हैं।’ 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें