loader

राजस्थान: बीजेपी से चार, कांग्रेस से एक हिंदू संत टिकट पाने की तैयारी में

राजस्थान विधानसभा चुनाव में इस बार कम से कम पांच हिंदू संत टिकट पा सकते हैं। इसमें से चार संतों ने बीजेपी तो एक ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ने की इच्छा जताई है। फ़िलहाल, राज्य सरकार की कैबिनेट में एक धार्मिक नेता ओटाराम देवासी ही मंत्री हैं। लगातार दो विधानसभा चुनाव जीतने वाले देवासी को फिर से टिकट मिलना तय माना जा रहा है।
four hindu saint from bjp and one from congress to fight elections in rajasthan - Satya Hindi
चुनाव लड़ने के इच्छुक हिंदू संतों में योगी बालकनाथ का नाम सबसे प्रमुखता से आ रहा है। वे राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के क़रीबी रहे हैं। फ़िलहाल, वे रोहतक में नाथ संप्रदाय के मस्तनाथ मठ के महंत हैं और राजस्थान के अलवर के रहने वाले हैं। उनके समर्थक पहले से ही सोशल मीडिया पर राजस्थान सीएम के लिए ‘बालकनाथ योगी’ कैंपेन चला रहे हैं।अलवर के तिजारा में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से मिलते-जुलते नाम के हिंदू संत अादित्यनाथ योगी टिकट पाने की दौड़ में हैं। मुस्लिम बहुल इस क्षेत्र में योगी हिंदुत्व का एक प्रमुख चेहरा हैं। वे पिछले पांच सालों से सामाजिक रूप से सक्रिय रहे हैं। आरएसएस से उनकी नज़दीकी के कारण उन्हें टिकट मिलने में आसानी हो सकती है।एक अन्य हिंदू संत नाथद्वारा के योगी संतोषनाथ भी टिकट पाने के प्रयास में हैं। वे नाथद्वारा के पूर्व विधायक कल्याण सिंह चाैहान के धार्मिक गुरु रहे हैं। बताया जाता है कि उस क्षेत्र में हिंदू मतदाताओं पर काफी प्रभाव है। 

कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं एक हिंदू संत

कांग्रेस से भी चुनाव लड़ने के लिए कम से कम एक हिंदू संत तैयारी में हैं। कबीर संप्रदाय के महंत निर्मल दास कांग्रेस के टिकट पर बाड़मेर के सिवाना सीट से चुनाव लड़ना चाहते हैं। हालांकि, पिछली बार वे चुनाव हार गए थे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें