loader

नगालैंड फ़ायरिंग मामला: कोहिमा में सड़कों पर उतरे लोग

नगालैंड में 4 दिसंबर को हुई फ़ायरिंग को लेकर ग़ुस्सा भड़क गया है। नगालैंड में खासा असर रखने वाले छात्र संगठन नगा स्टूडेंट्स फ़ेडरेशन (एनएसएफ़) के आह्वान पर शुक्रवार को सैकड़ों लोग इस घटना के ख़िलाफ़ कोहिमा में सड़क पर उतरे। फ़ायरिंग में 14 नागरिकों और सेना के एक जवान की मौत हो गई थी। 

एनएसएफ़ ने इस दौरान मांग की कि जो आम लोग फ़ायरिंग में मारे गए हैं, उनके परिवारों को इंसाफ़ दिया जाए और विवादित क़ानून अफ़स्पा को हटाया जाए। 

लोगों ने हाथों में पोस्टर भी लिए हुए थे। इनमें लिखा हुआ था- अफ़स्पा को ख़त्म करने से पहले कितनी बार गोली चलाई जाएगी और अफ़स्पा को बैन करो, हमारी आवाज़ को नहीं। 

ताज़ा ख़बरें

ये लगातार तीसरा दिन है जब नगालैंड में इस फ़ायरिंग के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं। इससे साफ दिखाई देता है कि इस घटना के बाद से वहां के लोग बेहद ग़ुस्से में हैं। 

स्थानीय जनजातीय संगठनों ईस्टर्न नगालैंड पीपुल्स ऑर्गनाइजेशन और कोन्याक यूनियन ने भी फ़ायरिंग के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया है। गुरूवार को प्रदर्शन के दौरान मोन जिले में सुबह से शाम तक बंद रहा और सरकारी व निजी दफ़्तर भी बंद रहे। कोन्याक यूनियन ने सैन्य बलों को किसी तरह का सहयोग नहीं देने का एलान किया है। 

राज्य से और ख़बरें

मोन जिले के अलावा राज्य के पूर्वी हिस्सों- किफिर, त्युएनसांग, नोकलाक और लोंगलेंग जिलों में भी विरोध प्रदर्शन हुए। इन जगहों पर दुकानें बंद कर दी गईं और गुस्साए लोग सड़कों पर निकल आए। 

फ़ायरिंग की यह घटना मोन ज़िले के ओतिंग गांव में हुई थी। इस मामले में पुलिस ने सेना की 21 पैरा पुलिस बल के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज किया था। मोन जिला भारत-म्यांमार की सीमा से सटा हुआ है। 

इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने लोकसभा में बयान दिया था कि घटना ग़लत पहचान की वजह से हुई। घटना के बाद जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती, नगालैंड के मुख्यमंत्री नेफिउ रियो, मेघालय के मुख्यमंत्री कोनराड संगमा, एआईएमआईएम के सांसद असदउद्दीन ओवैसी सहित कई नेताओं ने मांग की थी कि अफ़स्पा को हटाया जाना चाहिए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

राज्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें