loader

तमिलनाडु में पीएफ़आई ने फिर उठाया सिर, पीएमके कार्यकर्ता की हत्या से तनाव

तमिलनाडु के तंजावुर ज़िले के प्रसिद्ध सिल्क उत्पादन क्षेत्र तिरुभुवनम में एक आदमी के हाथ काट लेने और उसके बाद उसकी मौत से सांप्रदायिक तनाव फैला हुआ है। बीजेपी और संघ के अन्य संगठनों के अलावा पीएमके कार्यकर्ताओं ने यहाँ जाम लगा दिया और मृतक के परिवार को एक करोड़ रुपये हर्ज़ाना देने की माँग की है।

बीते बुधवार को यहाँ 48 वर्षीय वी रामालिंगम के दोनों हाथ काट दिए गए थे। वह उस समय अपने नाबालिग बेटे के साथ घर लौट रहे थे। हमलावर एक उग्र इस्लामी गुट पीएफआई  से संबद्ध बताए गए हैं, जिसका केरल और तमिलनाडु में काफ़ी असर है । 

पुलिस ने चार लोगों को पूछताछ के लिये पकड़ा है, जो इस संगठन से संबद्ध बताए जाते हैं । पीएफआई पर केरल में एक ईसाई शिक्षक का हाथ काटने, एक आरएसएस कार्यकर्ता की हत्या , केरल के 21 युवाओं को आईएसआईएस के लिए लड़ने के लिए सीरिया भेजने से संबद्ध होने और मशहूर हदिया प्रकरण से जुड़े होने के मामले पहले से चर्चा में रहे हैं।

पीएफ़आई के मामलों की जाँच करने वाली केंद्रीय जाँच एजेन्सी के एक अधिकारी ने 'सत्य हिंदी' को बताया कि यह सुन्नी मुसलमानों के कट्टर वहाबी इस्लाम को मानने वालों का सक्रिय समूह है, जो कथित रूप से जो धर्मपरिवर्तन और हिंसक मामलों में शामिल है। केंद्र सरकार ने इसके नए स्वरूप एसडीएफ पर अभी तक प्रतिबंध नहीं लगाया है, जबकि केरल सरकार इसकी लगातार माँग करती रही है।

रामालिंगम पाँच बरस पहले तक पीएमके का सक्रिय कार्यकर्ता रहा और अब शादियों में टेंट वग़ैरह सप्लाई करने का काम करता था। हमले में मारे जाने के पहले कुछ पीडीएफ़ कार्यकर्ताओं से उसके धार्मिक मसले पर विवाद का वीडियो इस समय वायरल है।

रामालिंगम से विवाद धर्म परिवर्तन के मुद्दे पर हुआ। पीएफ़आई दलित नेता जिग्नेश मेवानी का स्वागत कर चुका है और उनको आर्थिक मदद देने की तस्वीरें उसके प्रचार सामग्री में मौजूद हैं। 

communal tension in tanjavur district if tamilnadu - Satya Hindi

एनआईए के एक अधिकारी ने इस संगठन की कारगुज़ारियों को रोक पाने में अपनी असफलता को आरएसएस की ऐसी ही कार्रवाइयों को रोक पाने में असफलता के समानांतर रखा। उन्होंने कहा कि अदालत में इस तरह के आरोपों को साबित कर पाना आसान नहीं होता है। सभी सांप्रदायिक संगठन इसका फ़ायदा उठाते हैं। इनके तमाम छद्म संगठन होते हैं, कार्यकर्ताओं का रिकार्ड नहीं होता और इन्हे परदे के पीछे से नेताओं और अफ़सरशाही और अपने समाज से भी समर्थन मिलता रहता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
शीतल पी. सिंह
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें