loader

मद्रास हाई कोर्ट : प्रवासी मज़दूरों की स्थिति 'दयनीय', 'मानवीय त्रासदी', 'आँसू नहीं थमते'

मद्रास हाई कोर्ट ने पूर देश में प्रवासी मजदूरों की स्थिति को 'दयनीय' व 'मानवीय त्रासदी' क़रार देते हुए कहा कि उन्हें देख कर 'आँसू नहीं थमते'।
अदालत ने तमिलनाडु सरकार को बेहद कड़े शब्दों में दिए गए एक आदेश में कहा कि राज्य सरकार को सभी प्रवासी मज़दूरों की सुरक्षा और कल्याण का ख्याल रखना चाहिए। 

'दयनीय स्थिति'

जस्टिस एन किरुबकरण और जस्टिस आर. हेमलता के खंडपीठ ने कहा, 'यह देखना दयनीय है कि प्रवासी मज़दूर अपने काम की जगह से कई दिन पैदल चल कर अपने गृह राज्य पहुँच रहे हैं। कुछ की मौत रास्ते में ही दुर्घटना से हो जा रही है। सभी राज्यों को चाहिए कि ऐसे मज़दूरों को मानवीय सहायता मुहैया कराएं।' उन्होंने महाराष्ट्र के औरंगाबाद में हुए रेल हादसे पर टिप्पणी करते हुए कहा,

'मीडिया में प्रवासी मज़दूरों की स्थिति देख कर आँसू रोकना किसी के लिए मुश्किल है। यह मानवीय त्रासदी से कम नहीं है।'


जस्टिस एन किरुबकरण और जस्टिस आर. हेमलता, मद्रास हाई कोर्ट

राज्य सरकार की अपील

अदालत के इस आदेश के बाद तमिलनाडु के मुख्यमंत्री इदपद्दी के पलनीस्वामी ने सभी प्रवासी मज़दूरों से अपील की कि वे कहीं न जाएं और राज्य सरकार उनकी मदद करेगी। 
उन्होंने प्रवासी मज़दूरों से कहा कि राज्य सरकार ने बिहार, ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश के सरकारों से संपर्क कर विशेष ट्रेनें चलाई हैं और लगभग 53 हज़ार मज़दूरों को उनके राज्य भेजा है। उन्होंने कहा कि बाकी मज़दूरों को भी उनके गृह राज्य भेजा जाएगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें