loader

तमिलनाडु में द्रविड़ पार्टियों के आगे बौने हैं बीजेपी, कांग्रेस

बीजेपी, ख़ास तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए, दक्षिण भारत सबसे कमज़ोर कड़ी साबित हो रही है। कई कोशिशों के बावजूद बीजेपी दक्षिण के 5 में से 4 राज्यों में अपना जनाधार नहीं बढ़ा पायी है और बीजेपी की स्थिति तमिलनाडु में ज़्यादा कमज़ोर है। देश के अन्य राज्यों की तुलना में तमिलनाडु में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता काफ़ी कम है। नरेंद्र मोदी का जितना विरोध तमिलनाडु में हुआ शायद ही उतना विरोध किसी अन्य राज्य में हुआ हो। यहाँ 'नरेंद्र मोदी गो बैक' के नारे भी लगे, जनसभाओं में काले झंडे दिखाये गये, खुलेआम विरोध प्रदर्शन भी हुए। 

तमिलनाडु और पॉन्डिचेरी में कुल 40 लोकसभा सीटें हैं। सीटों के मामले में भी तमिलनाडु दक्षिण का सबसे बड़ा राज्य है। ऐसे में यहाँ कमज़ोर होना बीजेपी को काफ़ी भारी पड़ सकता है।

वैसे तो बीजेपी 'अम्मा' यानी जयललिता की पार्टी एआईएडीएमके, अंबुमणि रामदास की पीएमके, फ़िल्मस्टार विजयकांत की डीएमके के साथ मिलकर तमिलनाडु में एनडीए गठबंधन बनाने में कामयाब रही है, लेकिन उसके विरोध में यूपीए गठबंधन काफ़ी मज़बूत दिख रहा है। तमिलनाडु के यूपीए गठबंधन में कांग्रेस के साथ स्टालिन के नेतृत्व वाला डीएमके शामिल है। 

राजनीति के जानकारों का कहना है कि इस बार तमिलनाडु में एनडीए पर सत्ता विरोधी लहर की मार पड़ रही है। एक तरफ़ जहाँ राज्य में लोग एआईएडीएमके की सरकार के कामकाज से नाराज़ हैं तो वहीं केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार से भी ग़ुस्सा हैं।
'अम्मा' के निधन और उसके कुछ दिनों बाद ही शशिकला के जेल जाने की वजह से एआईएडीएमके को एक मजबूत नेतृत्व नहीं मिल पाया है। एआईएडीएमके की पहचान ही जयललिता से ही थी। कई लोगों को इस बात से भी नाराज़गी है कि मुख्यमंत्री पलानिसामी और उपमुख्यमंत्री पन्नीरसेल्वम दोनों नरेंद्र मोदी के इशारों पर ही काम कर रहे हैं। मजबूत नेतृत्व की कमी की वजह से एआईएडीएमके के कैडर के बिखरने की संभावना ज़्यादा है।

तमिलनाडु से और ख़बरें

फायदे में नज़र आ रही डीएमके

डीएमके में करुणानिधि के निधन से पहले ही उनके बेटे स्टालिन ने पार्टी की कमान अपने हाथ में ले ली थी। इस वजह से उनकी अपने पार्टी के कैडर पर पकड़ मजबूत है। सत्ता विरोधी लहर का सीधा फायदा भी डीएमके को मिलता नज़र आ रहा है, क्योंकि एआईएडीएमके का मजबूत विकल्प डीएमके ही है। चूँकि डीएमके यूपीए का हिस्सा है, इसलिए कांग्रेस तमिलनाडु में बीजेपी से काफ़ी बेहतर स्थिति में नज़र आ रही है। 

बड़ी बात यह है कि बीजेपी और कांग्रेस, दोनों राष्ट्रीय दलों को क्षेत्रीय पार्टियों ने तमिलनाडु में बौना बनाया हुआ है। कांग्रेस को जहाँ 8 सीटें मिली हैं वहीं बीजेपी को सिर्फ़ 5 सीटों से संतुष्ट होना पड़ा है।

दिनाकरन, हासन बदल सकते हैं गणित

वैसे तो इस बार भी तमिलनाडु में डीएमके और एआईएडीएमके के नेतृत्व वाले गठबंधनों के बीच सीधी लड़ाई है लेकिन दो लोग ऐसे हैं जो गणित में बदलाव ला सकते हैं। पहले बड़े किरदार हैं टीवीवी दिनाकरन और दूसरे कमल हासन। दिनाकरन, शशिकला के भतीजे हैं और जयललिता के निधन के बाद उन्हें एआईएडीएमके से निकाल दिया गया था।

दिनाकरन ने अपनी ख़ुद की पार्टी बना ली है और चुनाव मैदान में हैं। दिनाकरन की पार्टी क्या एआईएडीएमके के वोट काटेगी या फिर सत्ता विरोधी वोटों में सेंधमारी करेगी, इस सवाल का जवाब फिलहाल किसी के पास नहीं है। ऐसा ही हाल फ़िल्म स्टार कमल हासन की पार्टी का है। उनकी पार्टी भी पहली बार चुनावी मैदान में है और उनके साथ कौन है, यह आकलन करना मुश्किल है।

ताज़ा ख़बरें
ग़ौर करने वाली बात यह भी है कि पिछले कई चुनावों से तमिलनाडु में लोगों का रुझान गठबंधन की तरफ़ ही रहा है और हर बार तमिलनाडु के मतदाताओं ने स्पष्ट बहुमत दिया है। पिछले लोकसभा चुनाव में, यानी 2014 में, तमिलनाडु के मतदाताओं ने 39 सीटों में से 37 सीटें जयललिता की एआईएडीएमके की झोली में डाली थीं। 2009 में मतदाताओं ने डीएमके के नेतृत्व वाले गठबंधन को 39 में से 27 सीटें दी थीं। 2004 में सभी 39 सीटों पर डीएमके के नेतृत्व वाले यूपीए गठबंधन की जीत हुई थी। इस बार यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या यही पैटर्न बरक़रार रहता है। 
मतदान से ठीक दो दिन पहले डीएमके की नेता कनिमोझी और विपक्ष के दूसरे बड़े नेताओं के घर पर आयकर विभाग के छापों से राजनीतिक घमासान अपने चरम पर पहुँच गया है।

विपक्षी नेता आरोप लगा रहे हैं कि हार की हताशा में ही नरेंद्र मोदी तमिलनाडु में अपने विरोधियों के मकानों पर छापेमारी करवा रहे हैं। बहरहाल, 18 अप्रैल को तमिलनाडु की सभी 39 सीटों पर मतदान होगा। तीन दशक बाद यह ऐसा पहला चुनाव है जहाँ करूणानिधि और जयललिता नहीं हैं। 

संबंधित ख़बरें
पिछले 30 सालों से तमिलनाडु में लड़ाई सीधे  करूणानिधि और जयललिता के बीच रही है। इन दो दिग्गज नेताओं के निधन के बाद अब लड़ाई इनकी विरासत को हासिल करने की है। इन दोनों नेताओं का प्रभाव कुछ इस तरह का रहा है कि इनके निधन के बाद भी तमिलनाडु में राष्ट्रीय पार्टियों का कोई वजूद नहीं है और उन्हें द्रविड़ पार्टियों पर भी निर्भर होना पड़ रहा है। बीजेपी और कांग्रेस दोनों राष्ट्रीय पार्टियों की किस्मत द्रविड़ पार्टियों पर ही टिकी हुई हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अरविंद यादव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें