loader

त्रिपुरा हिंसा: हाई कोर्ट ने लिया संज्ञान, सरकार से कहा- हलफ़नामा दें 

त्रिपुरा में हुई हिंसा का हाई कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। अदालत ने राज्य की बीजेपी सरकार से कहा है कि वह इस संबंध में 10 नवंबर तक हलफ़नामा दाख़िल करे। अदालत ने कहा है कि राज्य सरकार हलफ़नामे में बताए कि उसने शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए क्या क़दम उठाए हैं। 

त्रिपुरा के पानीसागर और कुछ अन्य इलाक़ों में हुई सांप्रदायिक हिंसा की घटनाओं को लेकर सोशल मीडिया पर भी ख़ासी बहस हो रही है। हिंसा की ये घटनाएं पानीसागर के साथ ही ऊनाकोटी और सिपाहीजाला जिलों में भी हुई थीं। 

विहिप की रैली 

राज्य सरकार ने मुख्य न्यायाधीश इंद्रजीत महंती और न्यायमूर्ति सुभाशीष तलपात्रा की बेंच को बताया कि उसने पानीसागर में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) की रैली के मद्देनज़र ज़रूरी पुलिस इंतजाम किए थे। विहिप ने यह रैली बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों और दुर्गा पूजा के पंडालों पर हुए हमलों के विरोध में 26 अक्टूबर को बुलाई थी। 

ताज़ा ख़बरें
राज्य सरकार ने अदालत को बताया कि इस रैली के दौरान दो समुदाय के लोगों में झगड़ा हुआ और इसके बाद मामला पुलिस में पहुंच गया। अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने आरोप लगाया कि उनकी तीन दुकानों को जला दिया गया और तीन घरों में तोड़फोड़ की गई। इसके अलावा एक मसजिद में भी तोड़फोड़, चोरी और महिलाओं के साथ अभद्रता करने का आरोप लगाया गया है। 

जबकि दूसरी ओर से की गई शिकायत में आरोप लगाया गया है कि विहिप की रैली पर हमला किया गया। राज्य सरकार ने अदालत को बताया कि तमाम आरोपों की जांच की जा रही है। 

माहौल ख़राब करने की कोशिश

राज्य सरकार की ओर से पेश हुए एडवोकेट जनरल सिद्धार्थ शंकर डे ने कहा कि सोशल मीडिया पर दूसरी घटनाओं से जुड़े फ़ोटो और वीडियो के जरिये माहौल को ख़राब करने की कोशिश की गई। लेकिन पुलिस ने शांति बैठकों का आयोजन कर माहौल को ठीक करने की कोशिश की। 

अदालत ने कहा कि सरकार को जिलों में ही बल्कि ज़रूरत पड़ने पर पंचायत स्तर तक शांति कमेटियां कायम करनी चाहिए। हाई कोर्ट ने कहा कि सरकार सोशल मीडिया पर अफ़वाह फैलाने वालों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करे। इस मामले में अगली सुनवाई 12 नवंबर को होगी। 

त्रिपुरा से और ख़बरें

सरकार ने किया इनकार 

राज्य के सूचना मंत्री सुशांत चौधरी ने कहा है कि पुलिस की जांच में पता चला है कि पानीसागर में किसी भी मसजिद में आग नहीं लगाई गई है। राज्य सरकार ने कहा है कि कुछ बाहरी लोगों ने अपने फ़ायदे के लिए सोशल मीडिया पर मसजिद जलाने के फर्जी फ़ोटो अपलोड किए। इसे लेकर अब तक कुल 3 लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है जबकि अलग-अलग जगहों पर 9 मुक़दमे दर्ज किए गए हैं। 

इसके साथ ही पड़ोसी राज्य असम में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है और राज्य सरकार ने जिलों के अफ़सरों से कहा है कि वे हालात पर नज़र बनाए रखें। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

त्रिपुरा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें