loader

अमित शाह ने कैराना में किया डोर टू डोर प्रचार 

बीजेपी के कई बड़े नेता शनिवार को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में डटे रहे। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने चर्चित इलाके कैराना में डोर टू डोर प्रचार किया। जबकि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा बिजनौर, नगीना में बीजेपी पदाधिकारियों से मिले। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दौरे पर रहे। मुख्यमंत्री अलीगढ़ और बुलंदशहर पहुंचे। 

बीजेपी ने कैराना से पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को उम्मीदवार बनाया है। हुकुम सिंह इस सीट से कई बार विधायक रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें
अमित शाह ने कहा कि सपा के शासन में कैराना से पलायन कर गए लोगों से मुलाकात हुई तो उन्होंने बताया कि योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था को सुधारा है और उन्हें पलायन कराने वालों का आज खुद पलायन हो गया है।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पहले चरण में 10 फरवरी को मतदान होना है। इसलिए तमाम राजनीतिक दलों के दिग्गजों ने यहां पार्टी के लिए ताकत झोंकनी शुरू कर दी है। 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश बीजेपी के लिए सियासी रूप से बेहद उपजाऊ इलाका रहा है। बीते तीन चुनावों में पार्टी को यहां शानदार जीत मिली थी लेकिन एक साल तक चले किसान आंदोलन और सपा रालोद गठबंधन के चलते इस बार उसके सामने चुनौतियां ज्यादा हैं। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

पलट गए थे हुकुम सिंह 

बीजेपी के पूर्व सांसद हुकुम सिंह ने साल 2016 में कैराना से हिंदुओं के पलायन का मुद्दा उठाया था। उन्होंने कहा था कि मुज़फ्फरनगर के दंगों के बाद से यहां से लगभग 350 हिंदू परिवार पलायन कर चुके हैं। लेकिन बाद में वह अपनी बात से पलट गए थे और उन्होंने कहा था कि उन्होंने कभी भी सिर्फ़ हिंदुओं के पलायन का मुद्दा नहीं उठाया था। उन्होंने कहा था कि यहां मुद्दा क़ानून व्यवस्था और सुरक्षा का था। 

हिंदू मतों का ध्रुवीकरण 

2013 के मुज़फ्फरनगर के दंगों के बाद हिंदू मतों का जबरदस्त ध्रुवीकरण हुआ था और 2014 के लोकसभा चुनाव, 2017 के विधानसभा चुनाव में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़ी सियासी ताक़त राष्ट्रीय लोक दल का सफाया हो गया था। ध्रुवीकरण का यह असर उत्तर प्रदेश के बाक़ी हिस्सों में भी दिखा था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें