loader

यूपी: प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन कराएगी बीजेपी, ब्राह्मण वोट खिसकने का डर!

उत्तर प्रदेश में सरकार चला रही बीजेपी क्या बीएसपी के प्रबुद्ध वर्ग या ब्राह्मण सम्मेलनों से घबरा गई है। क्योंकि बीएसपी की ओर से किए जा रहे ब्राह्मण सम्मेलनों के बाद अब वह भी पूरे उत्तर प्रदेश में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन करने जा रही है। इसके अलावा एसपी की ओर से तमाम जिलों में इस समुदाय के मतदाताओं को लुभाने के लिए प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन जारी है। 

ये सम्मेलन 5 से 20 सितंबर तक प्रदेश के कई जिलों में आयोजित किए जाएंगे। हालांकि बीजेपी का कहना है कि इन सम्मेलनों को किसी एक जाति से जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए और यह समाज के बुद्धिमान लोगों से जुड़ने की एक कोशिश है, फिर चाहे वे किसी भी जाति के क्यों न हों। 

बड़े नेता करेंगे संबोधित 

इन सम्मेलनों को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी में, प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह प्रयागराज में, महामंत्री (संगठन) सुनील बंसल लखनऊ में और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य कानपुर में संबोधित करेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

विकास दुबे एनकाउंटर 

उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण वोटों की सियासत पिछले साल हुए कुख्यात बदमाश विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद तेज़ हुई थी। विपक्षी राजनीतिक दलों और ब्राह्मण समुदाय के नेताओं ने आरोप लगाया था कि योगी सरकार में ब्राह्मणों पर अत्याचार बढ़ते जा रहे हैं। 

उस दौरान बीएसपी प्रमुख मायावती सबसे पहले आगे आई थीं और ब्राह्मण समुदाय के साथ खड़ी हुई थीं। बीते दिनों मायावती ने एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स में ब्राह्मणों से अपील की थी कि वे बीजेपी के बजाए बीएसपी को वोट दें। इसके बाद जब सतीश मिश्रा उत्तर प्रदेश के जिलों के दौरे पर निकले तो निश्चित रूप से बीजेपी में खलबली शुरू हुई और बीजेपी के नेताओं ने प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन करने की योजना बनाई। 

BJP prabuddha varg sammelans in UP ahead of 2022 polls  - Satya Hindi

परशुराम की प्रतिमा पर जंग 

यहां याद दिलाना होगा कि पिछले साल जब अखिलेश यादव की एसपी ने एलान किया था कि वह लखनऊ में 108 फुट की और हर जिले में भगवान परशुराम की प्रतिमा लगवाएगी तो मायावती ने तुरंत बयान जारी कर कहा था कि बीएसपी की सरकार बनने पर एसपी से ज़्यादा भव्य भगवान परशुराम की प्रतिमा लगाई जाएगी। 

उत्तर प्रदेश में पिछले कुछ चुनाव नतीजे बताते हैं कि ब्राह्मण समुदाय का बड़ा हिस्सा बीजेपी के साथ रहा है। 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव और 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को इस समुदाय के मतदाताओं ने अच्छी संख्या में वोट दिया है। 

बीजेपी की मुश्किल यह भी है कि उत्तर प्रदेश में पिछड़ों की राजनीति एक बार फिर जोर मार रही है। पिछड़े नेता बीजेपी पर इस बात के लिए हमलावर हैं कि उसने पिछड़े समुदाय से आने वाले केशव प्रसाद मौर्य को मुख्यमंत्री नहीं बनाया।
हालांकि बीते दिनों में बीजेपी ने केंद्रीय कैबिनेट में ओबीसी नेताओं की भागीदारी से लेकर इस समुदाय के लिए कई अहम एलान किए हैं। ऐसे में उसे इस बात का भी डर है कि सवर्ण मतदाता इससे नाराज़ न हो जाएं। मायावती, अखिलेश की तमाम कवायदों के बीच यह भी एक बड़ा फ़ैक्टर है और शायद इसीलिए उसे पूरे प्रदेश में ब्राह्मण समुदाय के लोगों के बीच जाना पड़ रहा है। वरना जिस समुदाय को हमेशा उसके नज़दीक माना जाता रहा है, उसके लिए वह इतनी ऊर्जा ख़र्च नहीं करती। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

लंबे वक़्त तक रहा दबदबा 

24 करोड़ की आबादी वाले उत्तर प्रदेश में करीब 12 प्रतिशत ब्राह्मण हैं। उत्तर प्रदेश में इस समुदाय से आने वाले कई नेता मुख्यमंत्री बने, जिनमें गोविंद बल्लभ पंत से लेकर सुचेता कृपलानी, कमलापति त्रिपाठी, हेमवती नंदन बहुगुणा, नारायणदत्त तिवारी का नाम प्रमुख है। लेकिन तिवारी के बाद से यानी 1989 के बाद से अब तक कोई भी ब्राह्मण मुख्यमंत्री नहीं बना। 

एक वक़्त में उत्तर प्रदेश की सियासत में एकछत्र राज करने वाले ब्राह्मण मंडल राजनीति के उभार के बाद से ही हाशिए पर हैं। लेकिन ऐसा लगता है कि 2022 के चुनाव में इनकी फिर से अहम भूमिका हो सकती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें