loader
फ़ाइल फ़ोटो

यूपी: एक और दलित लड़की रेप और मर्डर की शिकार, फ़ॉर्म भरने के लिए घर से निकली थी

राज्य में बेहतर क़ानून व्यवस्था होने के योगी सरकार के तमाम दावों के बीच उत्तर प्रदेश में बलात्कार, अपहरण, हत्या की वारदातों की बाढ़ आई हुई है। राज्य के लखीमपुर खीरी जिले में 18 साल की एक दलित लड़की के साथ बलात्कार के बाद उसका गला रेत दिया गया। लड़की की लाश मंगलवार सुबह उसके गांव के एक तालाब में मिली और यह जगह उसके घर से महज 500 मीटर दूर है। 

इस घटना से ये पता चलता है कि उत्तर प्रदेश में कोई भी सुरक्षित नहीं है। लड़की अपनी नौंवी क्लास की मार्कशीट, आधार कार्ड और 200 रुपये लेकर ऑनलाइन स्कॉलरशिप का फ़ॉर्म भरने निकली थी। लेकिन उसे और परिजनों को नहीं पता था कि वह अब जिंदा घर नहीं लौटेगी। 

लड़की का गला किसी तेज धारदार हथियार से रेता गया था और उसके बाएं पाव को जानवरों ने खा लिया था। उसकी लाश के पास ही उसकी मार्कशीट और मोबाइल फ़ोन भी पड़ा था। एसपी सत्येंद्र कुमार का कहना है कि लड़की के साथ बलात्कार होने की पुष्टि हुई है और पुलिस ने हत्यारों की तलाश में तीन टीमों को लगा दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

लड़की जिस गांव की रहने वाली थी, वह दलित बहुल गांव है। पिछले 10-12 दिनों के अंदर लखीमपुर खीरी में किसी दलित लड़की के साथ बलात्कार और फिर हत्या की यह दूसरी घटना है। 

लड़की के माता-पिता अपने कच्चे मकान के फर्श पर बैठे हुए चिल्लाते हैं कि उन्हें न्याय चाहिए। ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, लड़की के पिता कहते हैं, ‘मेरी लड़की नहीं, लड़का थी। अगर किसी ने कोशिश भी की होगी तो वो मरने से पहले खूब लड़ी होगी।’ पिता कहते हैं, ‘वह बहुत बहादुर थी और उसने कभी कहीं जाने में मेरी मदद नहीं ली। अगर मैं उसके साथ गया होता तो वह बच जाती।’ 

Dalit girl raped in lakhimpur kheri throat slit  - Satya Hindi
योगी राज में आपराधिक घटनाएं चरम पर हैं और जवाब देने वाला कोई नहीं है।
लड़की की मां ने कहा कि वह सोमवार सुबह 8.30 बजे घर से निकली थी। इससे पहले उसने सबके लिए चाय बनाई थी, खाना बनाया था और हमें परोसा भी था। वह दोपहर 1 बजे से लगातार उसका फ़ोन मिला रही थीं लेकिन यह नॉट रीचेबल था। लड़की के पिता कहते हैं कि उनकी और भी बेटियां हैं, इन हालात में वे कैसे बाहर निकल पाएंगी। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

गोरखपुर की घटना 

कुछ ही दिन पहले गोरखपुर में दलित उत्पीड़न की एक घटना में एक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार के बाद अभियुक्तों ने उसके बदन को सिगरेट से दाग दिया था। वारदात के दौरान, नाबालिग पास के एक हैंड पंप पर पानी लेने गई थी। इसी दौरान अभियुक्त उसे जबरन मोटरसाइकिल पर बैठाकर गांव में बनी एक झोपड़ी में ले गए और बलात्कार किया था। 

तीन पत्रकारों की हत्या 

बलिया जिले के फेफना कस्बे में सोमवार को सहारा समय चैनल के संवाददाता रतन सिंह को बदमाशों ने दौड़ा-दौड़ाकर लाठी-डंडों से पीटा और फिर सिर में तीन गोली मार कर हत्या कर दी। यूपी में बीते दो महीने में यह लगातार तीसरे पत्रकार की हत्या है। बीते जुलाई में ग़ाज़ियाबाद में बदमाशों ने अपनी भतीजियों के साथ छेड़खानी का विरोध करने पर पत्रकार विक्रम जोशी और उन्नाव में भू-माफियाओं के ख़िलाफ़ अभियान चलाने पर जून में पत्रकार शुभम तिवारी की हत्या कर दी थी। 

आज़मगढ़ में दलित प्रधान की हत्या! 

आज़मगढ़ में हुई दलित उत्पीड़न की एक ताज़ा घटना में सत्यमेव जयते नाम के ग्राम प्रधान की हत्या कर दी गई। बांसगांव में हुई इस घटना में आरोप लगा है कि कथित रूप से गांव के सवर्णों ने दलित प्रधान की हत्या कर दी। सत्यमेव जयते के भतीजे लिंकन ने 'द इंडियन एक्सप्रेस' को बताया कि यह हत्या जातीय नफ़रत की वजह से हुई। लिंकन के मुताबिक़, सवर्ण लोग एक दलित के प्रधान बनने और उनके सामने तन कर खड़े होने को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें