loader

किसान आंदोलन के जवाब में यूपी में चौपाल लगाएगी बीजेपी

कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ दिल्ली के बॉर्डर्स पर आंदोलन कर रहे किसानों के ‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ के एलान के बाद बीजेपी भी हरक़त में आ गई है। बीजेपी अब पूरे उत्तर प्रदेश में किसानों तक पहुंच बढ़ाने के लिए बैठकें करेगी। यह माना जा रहा है कि किसान आंदोलन से बीजेपी को उत्तर प्रदेश के चुनाव में सियासी नुक़सान हो सकता है और शायद इसीलिए पार्टी इस मोर्चे पर कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। 

किसान 5 सितंबर को पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुज़फ्फ़रनगर में ‘मिशन यूपी-उत्तराखंड’ को लेकर रणनीति को फ़ाइनल करेंगे। इस मिशन के तहत संयुक्त किसान मोर्चा के नेता पूरे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जाएंगे और बीजेपी को वोट न देने की अपील करेंगे। 

ख़ैर, बीजेपी अब इसके जवाब में 16 से 23 अगस्त तक गन्ना किसानों की बहुलता वाले पश्चिमी उत्तर प्रदेश में उनके बीच पहुंचेगी। बीजेपी का किसान मोर्चा किसानों के बीच बैठकें करेगा और उन्हें बताएगा कि योगी सरकार ने किसानों के लिए क्या काम किया है। 

ताज़ा ख़बरें
बीजेपी पश्चिमी उत्तर प्रदेश के किसानों के बीच किसान चौपालों का भी आयोजन करेगी। इसके बाद लखनऊ में 22 से 25 अगस्त तक विशाल किसान पंचायत का आयोजन किया जाएगा। 
Farmer Protest in west uttar pradesh  - Satya Hindi
बीजेपी की ओर से जारी किया गया कार्टून।

राकेश टिकैत हमलावर 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश से आने वाले किसान नेता राकेश टिकैत योगी सरकार पर गन्ने का भाव न बढ़ाने, सबसे महंगी बिजली होने, गन्ना किसानों का बकाया सहित किसानों की कई समस्याओं को लेकर हमला बोल रहे हैं। हाल ही में जब टिकैत ने कहा था कि लखनऊ को भी दिल्ली बनाया जाएगा तो इस पर बीजेपी ने कार्टून जारी कर पलटवार किया था। इस कार्टून में लिखा गया था कि संभल कर जइयो लखनऊ में, वहां योगी बैठा है। 

Farmer Protest in west uttar pradesh  - Satya Hindi

हिली सियासी ज़मीन 

बीजेपी जानती है कि किसानों के विरोध के कारण पंचायत चुनाव में उसे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ख़ासा सियासी नुक़सान हुआ है। यहां वह एसपी-आरएलडी के गठबंधन व निर्दलीयों से भी पीछे रही थी। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ग्रेटर नोएडा से लेकर मथुरा, मेरठ, बाग़पत और बिजनौर, सहारनपुर तक हुई किसान महापंचायतों ने इस इलाक़े में बीजेपी की सियासी ज़मीन को हिला दिया है। 

बीजेपी नेताओं का पुरजोर विरोध 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में 120 सीटें हैं और इस इलाक़े में भारतीय किसान यूनियन खासी सक्रिय है। इस इलाक़े में बीजेपी के नेताओं का लगातार विरोध हो रहा है। दो दिन पहले ही मेरठ के सिवालखास विधानसभा क्षेत्र में बीजेपी के विधायक जितेंद्र सतवाई का किसानों और आरएलडी के कार्यकर्ताओं ने जोरदार विरोध किया था। इससे पहले बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, मुज़फ्फरनगर के सांसद और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान सहित कई नेताओं को किसानों के विरोध का सामना करना पड़ा है। 

देखना होगा कि बीजेपी किस हद तक किसान आंदोलन से निपट पाती है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

नड्डा ने दिए थे निर्देश  

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी हाल ही में दो दिन के उत्तर प्रदेश के दौरे पर आए थे। इस दौरान उन्होंने लखनऊ और आगरा में पार्टी कार्यकर्ताओं को चुनाव में जीत हासिल करने के टिप्स दिए। नड्डा ने पार्टी के नेताओं से कहा था कि सभी बड़े नेताओं को बूथ स्तर पर होने वाले कार्यक्रमों की जिम्मेदारी लेनी चाहिए और मतदाताओं को पार्टी से जोड़ने के अभियान में जुटना चाहिए। 

बीजेपी ने पन्ना प्रमुखों की बैठक शुरू कर दी है। पार्टी का कहना है कि संगठन को मजबूत करने के लिए मंत्रियों और वरिष्ठ नेताओं को उनके इलाक़े में पन्ना प्रमुख बनाया जा सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें