loader

यूपी: समाजवादी पार्टी के क़रीबी रियल एस्टेट प्रमोटर के यहां आईटी छापे

आयकर यानी आईटी विभाग दिल्ली, नोएडा और ग्रेटर नोएडा में रियल एस्टेट कंपनी एसीई ग्रुप और उसके प्रमोटर अजय चौधरी के व्यावसायिक परिसरों की तलाशी ले रहा है। चौधरी को समाजवादी पार्टी का क़रीबी बताया जाता है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले इन छापों पर सियासत गर्माने की संभावना है। इससे पहले पीयूष जैन और पुष्पराज जैन उर्फ पम्पी जैन के यहाँ छापों के बाद राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप लगते रहे हैं।

इसी बीच अब इनकम टैक्स के छापे का यह ताज़ा मामला आया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, एक अधिकारी ने बताया कि आगरा में जूतों का कारोबार करने वाली कंपनियों के परिसरों की भी तलाशी ली जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव नजदीक आने के साथ, आयकर विभाग और जीएसटी अधिकारियों द्वारा कई व्यापारियों के परिसरों की तलाशी के बाद से सत्तारूढ़ बीजेपी और विपक्षी सपा के बीच राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप का खेल शुरू हो गया है।

पिछले महीने जीएसटी अधिकारियों ने कानपुर और कन्नौज में एक इत्र व्यापारी पीयूष जैन के परिसरों की तलाशी ली थी। विभाग ने कहा था कि कन्नौज के मालिक पीयूष जैन से जुड़े ठिकानों की तलाशी में कुल 197.49 करोड़ रुपये नकद, 23 किलोग्राम सोना और कुछ क़ीमती आपत्तिजनक सामान कथित तौर पर बरामद किए गए थे। बीजेपी के नेताओं ने उस इत्र कारोबारी के संबंध समाजवादी पार्टी से होने का आरोप लगाया। बाद में समाजवादी पार्टी ने उस इत्र कारोबारी के बीजेपी का क़रीबी होने का दावा किया।

इस बीच इस तरह के आरोप लगाए जाने लगे कि क्या वह कार्रवाई ग़लत पहचान का मामला है। इन्हीं आरोपों-प्रत्यारोपों के बीच केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की सफ़ाई आई और उन्होंने कहा कि वह पैसा बीजेपी का नहीं है। 

बीजेपी ने आरोप लगाया था कि यह पीयूष जैन थे जिन्होंने हाल ही में समाजवादी इत्र लॉन्च किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विपक्षी दल पर कटाक्ष करते हुए पिछले महीने कानपुर में कहा था कि 'नोटों से भरे डिब्बे निकल आए हैं। कानपुर के व्यापारी इस धंधे को अच्छी तरह समझते हैं। 2017 से पहले भ्रष्टाचार का जो इत्र उन्होंने पूरे उत्तर प्रदेश में छिड़का था उसे सभी देख सकते हैं।'

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बीजेपी के इन आरोपों पर अखिलेश यादव ने पलटवार करते हुए कहा कि बीजेपी ने समाजवादी पार्टी के पुष्पराज जैन के साथ व्यापारी पीयूष जैन को घालमेल कर दिया था। उन्होंने कहा कि पुष्पराज जैन ने उनकी पार्टी के नाम पर इत्र लॉन्च किया था। पीयूष जैन के साथ किसी भी तरह के संबंध से इनकार करते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी ने ग़लती से अपने ही व्यवसायी पर छापा मार दिया।

इन आरोप-प्रत्यारोपों के बीच इत्र कारोबारी और समाजवादी पार्टी के एमएलसी पुष्पराज जैन उर्फ पम्पी जैन के घर और दफ्तरों पर आयकर विभाग ने दो दिन बाद ही छापेमारी कर दी। पुष्पराज वही शख्स हैं जिन्होंने कुछ महीने पहले सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के हाथों समाजवादी परफ्यूम लांच कराया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें