loader

मेनका गाँधी ने मुसलमानों से कहा, वोट नहीं दिया तो देख लूँगी...

मेनका गाँधी ने उनके पक्ष में वोट नहीं डालने पर इशारों में ही मुसलमानों को धमका दिया। उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में मेनका ने एक सभा में कहा कि मुसलमान उन्हें वोट दें, नहीं तो उनकी समस्याओं पर वह ध्यान नहीं देंगी। सुल्तानपुर से ही चुनाव लड़ रही मेनका ने यह भी कहा कि मैं पहले ही चुनाव जीत चुकी हूँ और यह उन पर है कि उन्हें क्या करना है। सोशल मीडिया पर उनके इस भाषण वाला वीडियो वायरल हो रहा है। वह एक मुसलिम बहुल गाँव में सभा करने पहुँची थीं।

ताज़ा ख़बरें

मुसलिम बहुल गाँव में उनके भाषण का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इसमें मेनका गाँधी कहती हैं, ‘...यह ज़रूरी है। मैं जीत रही हूँ। मैं जीत रही हूँ क्योंकि लोगों का प्यार और सहयोग है। लेकिन यदि मेरी जीत बिना मुसलिमों की होगी तो मुझे अच्छा नहीं लगेगा। दिल खट्टा हो जाएगा। जब मुसलिम मेरे पास काम के लिए आता है तो लगता है कि रहने दो, क्या फर्क पड़ता है। अब आप बताएँ कि क्या यह अच्छा है कि आप सिर्फ़ देते जाएँ और जब समय आप को कुछ देने का हो तो कुछ और बात कहें। क्या हम सभी महात्मा गाँधी की संतान हैं। ऐसा नहीं हो सकता कि हम सिर्फ़ देते रहें और चुनाव में भी हारते रहें। यह जीत आपके साथ हो सकती है तो आपके बिना भी।’

थोड़ी देर बाद वह कहती हैं, ‘मैं पहले ही चुनाव जीत चुकी हूँ और अब आपको मेरी ज़रूत पड़ेगी। यह इसकी नींव रखने के लिए आपके लिए एक मौक़ा है। जब चुनाव में इस बूथ पर 100 वोट या 50 वोट निकलेंगे और उसके बाद जब आप काम के लिए मेरे पास आएँगे तो मैं भी देखूँ लूँगी... मैं कोई भेद नहीं देखती, सिर्फ दर्द, दुख और प्यार समझती हूँ। इसलिए यह सब आप पर है....।’

पिछले सप्ताह भी मेनका गाँधी विवादों में घिर गयी थीं जब उन्होंने मायावती को 'टिकट की सौदागर' कहते हुए आरोप लगाया था कि जो भी उनकी पार्टी से टिकट चाहता है उसे 15-20 करोड़ रुपये लेती हैं।
पीलीभीत से सांसद मेनका गाँधी ने अपने अभियान की शुरुआत दस दिन पहले सुल्तानपुर से की है। इस सीट से फ़िलहाल वरुण गाँधी सांसद हैं। लेकिन इस चुनाव में वह फिर से पीलीभीत चले गये हैं जहाँ से उन्होंने 2009 में सांसद रह चुके हैं। मेनका गाँधी पीलीभीत से छह बार चुनाव जीत चुकी हैं। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

भड़काऊ भाषण पर वरुण को हुई थी जेल

वैसे, विवादित बयान के मामले में वरुण गाँधी इससे कहीं ज़्यादा आगे रहे हैं। पीलीभीत में एक भड़काऊ भाषण के मामले में वरुण गाँधी के ख़िलाफ़ आरोप तय हो गये थे। मामला 2009 का है। वरुण ने कहा था कि आपकी तरफ अगर कोई हाथ उठाया तो वरुण गांधी उस हाथ को काट डालेगा। वरुण पर तब लोकसभा चुनाव के प्रचार के दौरान भड़काऊ भाषण देकर दो समुदायों के बीच नफ़रत फैलाने, किसी धर्म का अपमान करके भावनाएँ भड़काने तथा हत्या का प्रयास करने के आरोपों में मुकदमे दर्ज कराये गये थे। 

वरुण को मायावती ने जेल भेज दिया था। पुलिस ने उनपर रासुका लगाया था। बाद में वरुण गाँधी से रासुका हटा लिया गया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें