loader

बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य ने पूछा- क्या बहन-बेटी की भी जाति और धर्म होता है?

मुलायम सिंह यादव की बहू अपर्णा यादव के बीजेपी में शामिल होने के बाद बदायूं से बीजेपी सांसद संघमित्रा मौर्य ने पार्टी नेताओं पर सवाल उठाए हैं। संघमित्रा मौर्य के पिता और पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य कुछ दिन पहले बीजेपी छोड़कर सपा में शामिल हो गए थे। संघमित्रा मौर्य ने एक फेसबुक पोस्ट में लिखा है, “हफ्ते भर पहले एक बेटी का पिता पार्टी बदलता है तो  पुत्री पर वार हो रहा था, आज एक बहू अपने चचेरे भाई (योगी जी) के साथ एक पार्टी से दूसरी पार्टी में आती है तो स्वागत। क्या इसको भी वर्ग से जोड़ा जाना चाहिए कि बेटी  (मौर्य)  पिछड़े वर्ग की है और बहू (बिष्ट) अगड़े वर्ग से है।”

संघमित्रा मौर्य ने पूछा है कि क्या बहन-बेटी की भी जाति और धर्म होता है।

संघमित्रा मौर्य ने हमला करते हुए आगे लिखा है, “अगड़ा बीजेपी में आता है तो राष्ट्रवादी और वह वोट बीजेपी को करेगा या नहीं इस पर सवाल खड़ा करना तो दूर सोचा भी नहीं जाता लेकिन पार्टी में रहने वाला राष्ट्रदोही उसके वोट पर सवाल खड़े हो रहे हैं ऐसा क्यों।”

ताज़ा ख़बरें

संघमित्रा मौर्य ने कहा है कि कृपया उन्हें कोई सलाह न दे कि वह कहां जाएं और क्या करें, वह जहां हैं ठीक हैं। 

स्वामी प्रसाद मौर्य के बीजेपी छोड़कर सपा में जाने के बाद यह सवाल उठा था कि क्या संघमित्रा भी बीजेपी से इस्तीफा देकर सपा में जाएंगी। इसे लेकर सोशल मीडिया पर उनसे काफी समर्थकों ने पूछा भी था। इस फेसबुक पोस्ट के जरिए संघमित्रा ने यह बताने की कोशिश की है कि वह बीजेपी नहीं छोड़ेंगी और पार्टी में बनी रहेंगी।

उत्तर प्रदेश से और खबरें

लेकिन उन्होंने उन पर उठाए गए सवालों को लेकर जवाब देने के लिए अपर्णा यादव के बीजेपी में शामिल होने का वक्त चुना और अगड़े और पिछड़े का सवाल उठाकर बीजेपी को चुनाव के दौरान थोड़ी मुश्किल में जरूर डाल दिया है। 

बता दें कि अपर्णा यादव ने बुधवार को नई दिल्ली में बीजेपी के दफ्तर पार्टी की सदस्यता ली थी। माना जा रहा है कि बीजेपी उन्हें लखनऊ की किसी एक सीट से विधानसभा का चुनाव लड़ा सकती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें