loader
फोटो क्रेडिट- @ayodhya_police

मसजिदों के बाहर फेंके थे आपत्तिजनक पोस्टर, सात गिरफ्तार

अयोध्या में 3 मसजिदों के बाहर आपत्तिजनक पोस्टर और धार्मिक ग्रंथों के फटे पन्ने फेंकने के आरोप में पुलिस ने 7 लोगों को गिरफ्तार किया है। यह सभी लोग अयोध्या जिले के ही रहने वाले हैं। पुलिस ने कहा है कि इनकी कोशिश इलाके में दंगा कराने की थी।

गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के नाम महेश कुमार मिश्रा, प्रत्यूष श्रीवास्तव, नितिन कुमार, दीपक कुमार गौड़ उर्फ गुंजन, बृजेश पांडे, शत्रुघ्न प्रजापति और विमल पांडे हैं। पुलिस चार अन्य अभियुक्तों की तलाश कर रही है। 

इन सभी के खिलाफ आईपीसी की धारा 295 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के मुताबिक़, इन लोगों ने पूरी योजना के बाद ही घटना को अंजाम दिया गया। इन सभी पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून यानी एनएसए के तहत कार्रवाई की जाएगी। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस ने कहा कि महेश कुमार मिश्रा इस मामले का मास्टरमाइंड है और वह अपने साथियों के साथ मिलकर दिल्ली में हाल में हुई घटना के विरोध में इस काम को अंजाम देना चाहता था। दिल्ली में जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती के मौके पर निकले जुलूस के दौरान हिंसा हुई थी। 

पुलिस ने कहा है कि इन्होंने 26-27 अप्रैल की दरमियानी रात को अयोध्या में कश्मीरी मोहल्ले की टाटशाह मसजिद, घोसियाना रामनगर मसजिद, ईदगाह सिविल लाइन एवं गुलाब शाह दरगाह जेल के पीछे आपत्तिजनक पोस्टर और धार्मिक पुस्तक की कॉपी डालकर दंगा कराने की कोशिश की थी। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

पुलिस ने इनके पास से वाहन, टोपी, मोबाइल आदि चीजें बरामद की हैं।

निश्चित रूप से पुलिस ने इन लोगों की धरपकड़ कर माहौल को खराब होने से बचा लिया है। ट्विटर पर कई लोगों ने कहा है कि पुलिस को इन लोगों के खिलाफ बुलडोजर का इस्तेमाल करना चाहिए। उत्तर प्रदेश पुलिस इन दिनों बुलडोजर को लेकर काफी चर्चा में है।

कुछ अहम सवाल

हालांकि पुलिस ने इन अभियुक्तों को गिरफ्तार तो कर लिया है लेकिन बड़ा सवाल यह है कि इन लोगों को निर्देश कौन दे रहा था। किसके निर्देश पर इन्होंने माहौल खराब करने की साजिश रची थी, कौन इन्हें संरक्षण दे रहा है। ऐसे ही सवालों का जवाब मिलना बेहद जरूरी है क्योंकि बीते दिनों में रामनवमी के जुलूस के मौके पर मस्जिदों के बाहर से निकाली गई रैली को लेकर सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं हो चुकी हैं और इसे लेकर देश का सियासी माहौल बेहद गर्म है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें