loader

उत्तर प्रदेश में चुनाव से पहले बीजेपी ने छह यात्राओं की घोषणा क्यों की?

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की स्थिति पिछले चुनाव की अपेक्षा बेहद ख़राब रहने की आ रही रिपोर्टों ने लगता है कि बीजेपी को हिला दिया है। ऐसा इसलिए कि पार्टी नेताओं की ओर से लगातार ऐसे ध्रुवीकरण वाले बयान आ रहे हैं जिससे लगता है कि पार्टी असहज स्थिति में है। बीजेपी ने अब एक और ऐसा फ़ैसला किया है जिसे वोटरों को जोड़ने के लिए बीजेपी की एक अहम रणनीति के तौर पर देखा जा रहा है। 

पार्टी वोट बैंक के खिसकने की आ रही रिपोर्टों के बीच अगले साल होने वाले चुनावों से पहले राज्य में एक के बाद एक कई यात्राएँ करने वाली है। इसकी घोषणा ख़ुद उत्तर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने की है। उन्होंने ट्वीट किया है कि बीजेपी राज्य में छह यात्राएँ करने वाली है। 

बीजेपी ने उन यात्राओं के नाम की घोषणा अभी नहीं की है। वह राज्य में अलग-अलग वर्गों को जोड़ने के लिए कई स्तर पर काम कर रही है और ये यात्राएँ भी उनमें से एक हैं। 

भले ही पार्टी ने आधिकारिक तौर पर यात्राओं का नाम नहीं बताया है, लेकिन पहले ऐसी एक यात्रा को लेकर सुगबुगाहट थी। उसमें इस तरह की ख़बर थी कि बीजेपी उत्तर प्रदेश के लिए 'विजय संकल्प यात्रा' की योजना बना रही थी। पर अभी तक यह साफ़ नहीं किया गया है कि स्वतंत्र देव सिंह जिन यात्राओं की बात कर रहे हैं वे क्या यही 'विजय संकल्प यात्रा' हैं।

इन यात्राओं की चर्चा तब है जब हाल के ओपिनियन पोल में बीजेपी की सीटें कम होने के आसार है, लेकिन उसके सत्ता में बरकरार रहने की संभावना जताई गई है। टाइम्स नाउ-पोलस्ट्रट ने अनुमान लगाया है कि हालाँकि बीजेपी बहुमत पा सकती है, लेकिन पिछली बार से उसकी सीटें काफ़ी कम रहेंगी। ऐसा ही अनुमान एक एबीपी-सी-वोटर सर्वे में भी लगाया गया है। हालाँकि उत्तर प्रदेश में इसके तीन सर्वे में दिख रहा है कि बीजेपी की लगातार सीटें कम होती जा रही हैं। 

ताज़ा ख़बरें

एक मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि इन छह यात्राओं के माध्यम से राज्य की सभी 403 विधानसभा सीटों में से प्रत्येक को कवर किया जाएगा। यह यात्रा जल्द ही शुरू होने के आसार हैं। एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि यात्रा 13 दिसंबर के बाद शुरू होने की संभावना है और ये यात्राएँ 12-13 दिनों की होंगी।

पार्टी के प्रमुख नेता पहले दिन यात्रा को हरी झंडी दिखा सकते हैं, और फिर बाद में उन यात्राओं का नेतृत्व स्थानीय सांसद और विधायक हर रोज़ करेंगे। दिसंबर के अंत से पहले एक बड़ी रैली के साथ यात्रा का लखनऊ में समापन होने की संभावना है।

कहा जा रहा है कि राज्य में प्रधानमंत्री मोदी के बड़े चुनावी अभियान के ठीक बाद यात्राएँ होंगी। अगले सप्ताह प्रधानमंत्री मोदी के दो बार उत्तर प्रदेश में जाने की संभावना है। एक बार गोरखपुर में और दूसरी बार अपनी लोकसभा सीट वाराणसी में। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बता दें कि क़रीब एक पखवाड़े पहले यह ख़बर आई थी कि किसान आंदोलन के जवाब में बीजेपी भी अब पूरे उत्तर प्रदेश में ट्रैक्टर रैली निकालने जा रही है। बीजेपी का किसान मोर्चा इन रैलियों का आयोजन करेगा और ये 16 से 30 नवंबर तक निकाली जाएंगी। पार्टी मऊ से इन रैलियों की शुरुआत करेगी। 

किसान आंदोलन का पश्चिमी उत्तर प्रदेश में तो जबरदस्त असर है ही, इसके सहारे विपक्षी दलों ने बीजेपी और मोदी सरकार को किसान विरोधी कहकर घेरना शुरू कर दिया है। कुछ रिपोर्टों में कहा जा रहा है कि बीजेपी और संघ परिवार को इस बात का अंदाजा है कि किसान आंदोलन उनके यूपी जीतने के सपने को तोड़ सकता है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें