loader

अखिलेश-जयंत पर योगी का निशाना- 'ये दो लड़कों की जोड़ी...'

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज चुनावी रैली में अखिलेश यादव और जयंत चौधरी पर यह कहकर निशाना साधा कि 'ये दो लड़कों की जोड़ी है'। उन्होंने इसके साथ ही 2017 और 2014 के चुनावों में भी 'दो लड़कों की जोड़ी' से तुलना करते हुए कहा कि उन चुनावों के जैसा ही इस जोड़ी का हस्र होगा।

इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव पर 2013 के मुजफ्फरनगर दंगों में संलिप्तता का आरोप भी लगाया। योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'ये जो दो लड़कों की जोड़ी आई है ना, ये दो लड़कों की जोड़ी 2014 में भी बनी थी, 2017 में भी बनी थी।'

ताज़ा ख़बरें

2014 के आम चुनावों और 2017 के यूपी चुनावों का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा कि 2017 में राज्य के लोगों ने जोड़ी से कहा था कि वे योग्य नहीं हैं। अखिलेश यादव और चौधरी ने 2017 के राज्य के चुनावों में एक साथ चुनाव लड़ा था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनावी रैली में कहा, '2013 में जब मुजफ्फरनगर दंगा हुआ था तो दो जाट पुरुष - सचिन और गौरव - मारे गए थे। दोनों में से एक जो लखनऊ से है वह सत्ता में था... वह हत्या के लिए ज़िम्मेदार था। उसने दंगाइयों को राज्य की राजधानी बुलाया और उन्हें सम्मानित किया।'

उन्होंने आगे कहा, 'जो मामले दर्ज करवा रहे थे, उनको वे सलाखों के पीछे भेज रहे थे। दिल्ली का आदमी (राहुल गांधी) भी बचाव कर रहा था... उन्होंने कहा कि उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई नहीं की जानी चाहिए।'

योगी आदित्यनाथ ने कहा, 'अब दोनों फिर से वापस आ गए हैं - केवल पैकेजिंग नई है।'

योगी के इस भाषण से पहले आज ही अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा है कि चुनाव आयोग को इस बात का संज्ञान लेना चाहिए कि एक मुख्यमंत्री की भाषा ऐसी नहीं हो सकती। अखिलेश की यह आपत्ति योगी आदित्यनाथ के उस बयान को लेकर है जिसमें उन्होंने कहा था कि जो गर्मी अभी कैराना और कुछ क्षेत्रों में दिखाई दे रही है वह 10 मार्च के बाद शांत हो जाएगी। उन्होंने कहा था कि वह मई और जून में भी शिमला बना देते हैं।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
अभी कुछ दिन पहले ही योगी ने ट्वीट किया था, "वे 'जिन्ना' के उपासक हैं, हम 'सरदार पटेल' के पुजारी हैं। उनको पाकिस्तान प्यारा है, हम मां भारती पर जान न्योछावर करते हैं।" योगी के इस बयान से एक दिन पहले ही केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था कि भाजपा जिन्ना नहीं, गन्ने के मुद्दे पर चुनाव लड़ेगी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें