loader

क्या बंगाल में उभर रहा है उग्र हिन्दुत्व? गाय चुराने के शक में दो की हत्या

क्या अपनी उदारवादी संस्कृति और समन्वयवादी संस्कारों के लिए मशहूर पश्चिम बंगाल में भी उग्र हिन्दुत्व सिर उठा रहा है? गंगा-जमुनी तहजीब के प्रतीक पश्चिम बंगाल में भी गाय चुराने के शक में किसी की पीट-पीट कर हत्या की जा सकती है? जिस राज्य में गोवध पर क़ानूनी रोक नहीं लगी हो, वहाँ गाय की वजह से सरेआम हत्या हो सकती है?

सम्बंधित ख़बरें

पीट-पीट कर हत्या

इन सवालों ने पश्चिम बंगाल को परेशान कर रखा है। राज्य के दक्षिणी ज़िले कूचबिहार में दो लोगों को चोरी की गाय ट्रक पर चढ़ा कर ले जाने के शक में कुछ लोगों ने घेरा, रोका और बुरी तरह पीटा। पुलिस ने इसकी पुष्टि कर दी है। स्थानीय कोतवाली थाना की पुलिस ने अंग्रेज़ी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि गुरुवार के तड़के माथाभांगा के रहने वाले प्रकाश दास और बाबुल मित्रा ट्रक से जा रहे थे, उनके ट्रक पर गाय लदी हुई थी।
उन्हें स्थानीय लोगों की भीड़ ने रोका, खींच पर ट्रक से उतारा, गायों को भगा दिया और उन्हें बुरी तरह पीटने लगे। लाठी-डंडे और पत्थर से उन्हें इतनी बुरी तरह पीटा गया कि वे लहू-लुहान होकर वहीं गिर पड़े। पुलिस मौके पर पहुँची तो हमलावर भाग गए। नाजुक स्थिति में प्रकाश दास और बाबुल मित्रा को कूचबिहार सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया, जहाँ उनकी मौत हो गई। 

कूचबिहार के पुलिस सुपरिटेंडेंट संतोष निंबलकर ने वारदात की पुष्टि करते हुए कहा है कि 13 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है। जगह-जगह छापे मारे जा रहे हैं। इलाक़े में पुलिस तैनात कर दिया गया है।
पश्चिम बंगाल में पीट-पीट कर मार डालने की यह पहली घटना नहीं है। पर यह बहुत पहले से नहीं चली आ रही है। बीते कुछ सालों से इस तरह की वारदात हो रही है। गाय ले जाने, चुराने या गाय काटने के शक में लोगों को पीटने की वारदात इन दिनों बढ़ी है।

वारदात रोकने के लिए बना क़ानून

राज्य विधानसभा ने अगस्त में भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मार डालने की वारदात रोकने के लिए वेस्ट बंगाल (प्रीवेन्शन ऑफ़ लिन्चिंग) एक्ट, 2019 पारित किया। इस विधेयक में प्रावधान है कि इस तरह की वारदात के दोषियों को उम्रक़ैद तक की सज़ा हो सकती है, आर्थिक दंड का भी प्रावधान है। तृणमूल कांग्रेस की ममता बनर्जी सरकार ने यह विधेयक विधानसभा में पेश किया तो विपक्ष की कांग्रेस और भारतीय मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने इसका समर्थन किया। भारतीय जनता पार्टी ने न तो इसका समर्थन किया न ही विरोध। उसने यह ज़रूर कहा था कि इस क़ानून का इस्तेमाल राजनीतिक विरोधियों से निपटने में किया जाएगा।
लेकिन इस विधेयक के पारित होने के एक हफ़्ते बाद ही राज्य के अलग-अलग इलाक़ों में भीड़ द्वारा लोगों को पीटने की तीन वारदात हुईं। आसनसोल, कूचबिहार और उत्तर दिनाजपुर में ये घटनाएँ हुईं। इन तीनों ही वारदात में बच्चा चुराने के आरोप में भीड़ ने लोगों को पीटा था, स्थानीय लोगों ने पीड़ितों को बचाया था और पुलिस मौके पर पहुँच गई थी। किसी की मौत नहीं हुई थी। 

लेकिन हालिया घटना पहले की इन तीनों घटनाओं से अलग इस मामले में है कि इसके साथ गाय चुराने का मामला जुड़ा हुआ है। पश्चिम बंगाल में गाय कभी मुद्दा नहीं बना और इस पर कभी किसी तरह के दंगे या सांप्रदायिक सौहार्द्र बिगड़ने की वारदात का रिकार्ड नहीं है। 

गाय के नाम पर हत्या!

इसके साथ ही यह भी सच है कि अब पश्चिम बंगाल भी इससे अछूता नहीं रहा। राज्य के उत्तर दिनाजपुर में 22 जून 2018 को तीन लोगों को उग्र भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला था। धूलागच इलाक़े में हुई इस वारदात के तीनों पीड़ित मुसलमान थे और उन पर गाय चुराने का आरोप था। 

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आँकड़ों के अनुसार, साल 2018 में 24 लोगों को उग्र भीड़ ने पीट-पीट कर मार डाला था। इनमें सबसे ज़्यादा घटना झारखंड की थी।
तो क्या अब पश्चिम बंगाल में भी सामाजिक ताना-बाना बिखरने लगा है और मजहब के आधार पर किसी को निशाना बनाया जा रहा है, यह सवाल पूछा जाना लाज़िमी है। यह इसलिए भी अहम है कि राज्य में अगले साल ही विधानसभा चुनाव हैं और बीजेपी खुलेआम हिन्दुत्व का मुद्दा उठा रही है। पार्टी के राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने खुलेआम एनआरसी लागू करने की माँग की है और कहा है कि बांग्लादेश से आए मुसलमानों को खदेड़ दिया जाएगा। ऐसे वातावरण में गाय के नाम पर किसी को पीटा जाना वाक़ई चिंता की बात है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें