loader

नेताजी बोस के पड़पोते, बीजेपी नेता ने ही नागरिकता क़ानून को किया खारिज 

नेताजी सुभाषचंद्र बोस के परपोते और बीजेपी के ही नेता चंद्र कुमार बोस ने नागरिकता क़ानून का विरोध किया है। उन्होंने इस क़ानून को भारत के धर्मनिरपेक्ष विचार के ख़िलाफ़ बताया है। उनका यह विरोध ऐसे समय में आया है जब बीजेपी ने सोमवार को पश्चिम बंगाल में नागरिकता क़ानून के समर्थन में बड़ी रैली की। इसके बाद ही चंद्र कुमार बोस ने नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ ट्वीट किया। बोस पश्चिम बंगाल के बीजेपी नेता हैं और राज्य में पार्टी के उपाध्यक्ष हैं। यह बीजेपी के लिए क़रारा झटका है। वैसे, पार्टी को झटका तो झारखंड चुनाव में भी लगा है और कहा जा रहा है कि बीजेपी को नागरिकता क़ानून का फ़ायदा नहीं, बल्कि बड़ा नुक़सान हुआ है। प्रधानमंत्री मोदी से लेकर अमित शाह तक काफ़ी बढ़-चढ़ कर नागरिकता क़ानून को हिंदू ध्रुवीकरण के नज़र से पेश कर रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें

इसी बीच चंद्र कुमार बोस ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, 'यदि सीएए2019 (नागरिक़ता संशोधन क़ानून) किसी धर्म से संबंधित नहीं है तो हम इसमें सिर्फ़ हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी और जैन का ही ज़िक्र क्यों कर रहे हैं! मुसलिम को भी शामिल क्यों नहीं करते? पारदर्शी बनें।'

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा, 'भारत को न तो किसी देश की बराबरी करनी चाहिए न ही इसकी तुलना की जानी चाहिए- क्योंकि यह देश सभी धर्मों और समुदायों के लिए खुला है।'

बोस का यह ट्वीट अमित शाह के बयान के ख़िलाफ़ है। अमित शाह सीधे-सीधे कहते रहे हैं कि इस क़ानून का धर्म से कोई लेनादेना नहीं है। यानी बोस सीधे-सीधे अमित शाह को निशाने पर ले रहे हैं।

बता दें कि नागरिकता क़ानून के तहत 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बाँग्लादेश से भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को अवैध नहीं माना जाएगा। उन्हें इस देश की नागरिकता दी जाएगी। हालाँकि, इस क़ानून में मुसलिमों के लिए यह प्रावधान नहीं है। इसी को लेकर देश भर में भारी विरोध हो रहा है। कई जगह तो प्रदर्शन हिंसात्मक भी हो गया है।

इसके बाद चंद्र कुमार बोस ने अमित शाह के एक और बयान पर निशाना साधा। अमित शाह ने संसद में भी नागरिकता संशोधन बिल पर चर्चा के दौरान कहा था कि पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बाँग्लादेश में उत्पीड़ित अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। उन्होंने यह भी कहा था कि इन देशों में मुसलिम उत्पीड़ित नहीं हैं। इसी संदर्भ में बोस ने ट्वीट किया, ‘यदि मुसलिम अपने देशों में उत्पीड़ित नहीं हैं तो वे (भारत में) नहीं आएँगे, इसलिए उनको शामिल करने में कोई नुक़सान नहीं है। हालाँकि, यह पूरी तरह सही नहीं है- बलूच के बारे में क्या ख़्याल है जो पाकिस्तान और अफ़ग़ानिस्तान में रहते हैं? पाकिस्तान में अहमदिया के बारे में क्या विचार है?’

चंद्र कुमार बोस की यह प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर आई है। बता दें कि बीजेपी सोशल मीडिया पर नागरिकता क़ानून पर समर्थन जुटाने में काफ़ी ज़्यादा सक्रिय है। पार्टी के कैडर इस क़ानून के बचाव में तरह-तरह के तर्क दे रहे हैं। इसी प्रयास के तहत और राजनीतिक फ़ायदे के लिए पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बीजेपी ने बड़ी तैयारी के साथ रैली निकाली। रैली किस स्तर पर की गई थी इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे.पी. नड्डा भी इसमें शामिल हुए थे। लेकिन अब बोस की आलोचना बीजेपी के लिए कम झटका नहीं है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें