loader

अफ़ग़ान राजनयिकों ने की अपील, तालिबान सरकार को मान्यता न दें

अफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान के नियंत्रण का एक महीना हो चुका है, उसकी सरकार भी बन चुकी है, पर खुद अपने ही लोग उसे स्वीकार नहीं कर रहे हैं। 

इसे इससे समझा जा सकता है कि कई अफ़ग़ान राजनयिकों ने एक संयुक्त बयान जारी कर विश्व समुदाय से अपील की है कि वे तालिबान सरकार को मान्यता न दें।

ये वे राजनयिक हैं, जिन्हें अशरफ़ ग़नी सरकार ने नियुक्त किया था। 

ख़ास ख़बरें

लगभग दो दर्जन राजनयिकों ने इस बयान पर दस्तख़त किए हैं। उन्होंने इस पर अफ़सोस जताया है कि अफ़ग़ानिस्तान के सहयोगी देशों ने 20 साल के साथ के बाद उन्हें मझधार में छोड़ दिया है, अफ़ग़ानिस्तान की जनता को आतंकवादी गुटों की दया पर छोड़ दिया गया है। 

बयान में विश्व नेताओं से अपील की गई है कि वे अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं, कार्यकर्ताओं और पत्रकारों के ख़िलाफ़ हिंसा पर रोक लगाएं। 

बयान में कहा गया है,

तालिबान ने जिस तरह ग़ैरक़ानूनी और हिंसक तरीके से सत्ता हथिया ली है, दुनिया के हिंसक व आतंकवादी गुटों का मनोबल बढ़ेगा।


अफ़ग़ान राजनयिकों के बयान का अंश

वाशिंगटन स्थित अफ़ग़ान दूतावास के प्रथम सचिव जवाद राहा ने कहा कि वे अभी भी अमेरिका में रहने वाले अफ़ग़ान नागरिकों को कूटनीतिक सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी की तसवीर को उतार दिया गया है, क्योंकि जिस तरह उन्होंने देश छोड़ दिया, उससे लोगों को दुख हुआ। 

इसके पहले संयुक्त राष्ट्र में अफ़ग़ानिस्तान के प्रतिनिधि ने कहा था कि तालिबान सरकार ग़ैरक़ानूनी है और उसे किसी को मान्यता नहीं दी जानी चाहिए।

afghanistan: diplomats urge to not recognise taliban - Satya Hindi
बता दें कि भारत समेत ज़्यादातर देशों ने अफ़ग़ानिस्तान स्थित अपने-अपने दूतावास बंद कर दिए हैं। 
चीन और पाकिस्तान के दूतावास काबुल में काम कर रहे हैं। चीन, पाकिस्तान और रूस ने कहा है कि वे तालिबान से अच्छे रिश्ते चाहते हैं। उन्होंने भी अब तक मान्यता नहीं दी है।

संयुक्त अरब अमीरात, क़तर और तुर्की से भी तालिबान के रिश्ते हैं, हालांकि इन देशों ने उसे मान्यता नहीं दी है।

क़तर की राजधानी दोहा में तालिबान का मुख्यालय है। 

दरअसल हुआ यह है कि तमाम देशों में अशरफ़ ग़नी सरकार के नियुक्त किए हुए राजनयिक ही तैनात हैं। तालिबान सरकार ने अभी कामकाज संभाला है, विदेश मंत्री नियुक्त किए गए हैं। नई सरकार सभी देशों में अपनी मर्जी से राजनयिकों को तैनात कर सकती है।

लेकिन अफ़ग़ानिस्तान के राजनयिकों ने जिस तरह अपने ही देश की सरकार को मान्यता नहीं देने की अपील की है, उससे यह तो साफ है कि तालिबान को लोग अभी भी स्वीकार नहीं कर पाए रहे हैं।

दूसरी बात यह है कि जब अपने ही राजनयिक मान्यता नहीं देने की बात कह रहे हैं तो कौन देश उन्हें मान्यता देगा?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें