loader

तालिबान का फ़रमान : पुरुष दाढ़ी रखें, महिलाएँ अकेले बाहर न जाएं

अफ़ग़ानिस्तान में अभी भी चुनी हुई सरकार ही है और सत्ता तालिबान के हाथों नहीं आई है, पर तालिबान ने यह साफ कर दिया है कि वह इस देश को एक बार फिर अतीत की ओर ले जाना चाहता है, जब उसका शासन हुआ करता था। 

एक नए और बेहद चिंताजनक घटनाक्रम में तालिबान ने कहा है कि पुरुष दाढ़ी  न कटाएं और औरतें किसी पुरुष के साथ न निकलें। 

इस कट्टरपंथी इसलामिक संगठन ने एक बयान जारी कर कहा है, ‘महिलाएँ किसी पुरुष के साथ बाज़ार नहीं जा सकतीं, पुरुष दाढ़ी नहीं काट सकते और न ही धूम्रपान कर सकते हैं।’

ख़ास ख़बरें

तालिबान का फ़रमान

अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेन्सी एएफ़पी ने कुछ स्थानीय लोगों के हवाले से यह ख़बर दी है।

इन लोगों का कहना है कि तालिबान ने स्थानीय इमामों को ये सभी शर्तें एक चिट्ठी में लिखकर दी हैं। तालिबान ने इसके साथ ही यह भी कहा है कि इस आदेश को न मानने वालों से सख़्ती से निपटा जायेगा।

इसके पहले पिछले महीने, अफ़ग़ानिस्तान के शेर ख़ाँ बांदेर क्षेत्र पर कब्ज़ा करने के बाद तालिबान ने स्थानीय लोगों को आदेश दिया था कि ‘महिलाएँ घर से बाहर ना निकलें।’

शेर ख़ाँ बांदेर क्षेत्र की बहुत सी महिलाएँ कशीदाकारी, सिलाई-बुनाई और जूते बनाने के काम में शामिल हैं, लेकिन सभी को तालिबान के डर से काम बंद करना पड़ा।

afghanistan :Taliban dictate women  - Satya Hindi
तालिबान के सदस्य

'लड़कियों की शादी तालिबान लड़ाकों से करो'

एएफ़पी ने यह भी कहा है कि बीते हफ़्ते सोशल मीडिया पर एक पोस्ट वायरल हुआ, जिसे कथित तौर पर तालिबान ने जारी किया है। 

इस मैसेज में गाँव वालों से कहा गया है कि वे अपनी बेटियों और घर की विधवाओं का विवाह तालिबान लड़ाकों से करें।  इसमें कहा गया है,

क़ब्ज़ा किए गए इलाक़ों के सभी इमामों और मुल्लाओं से कहा जा रहा है कि वे 15 से ज़्यादा उम्र की लड़कियों और 45 साल से कम की विधवाओं की सूची बना कर तालिबान को सौंप दें ताकि उनकी शादी तालिबान लड़ाकों ले कराई जा सके।


सोशल मीडिया पर तालिबान का कथित बयान

तालिबान का इनकार

लेकिन तालिबान के एक प्रवक्ता ने इससे इनकार किया है और इसे अफ़वाह बताया है। ज़बीहुल्ला मुजाहिद ने एएफ़पी से कहा, 'ये बेबुनियाद दावे हैं। ये फ़र्जी काग़ज़ात के ज़रिए फैलाई जा रही अफ़वाहें हैं।' 

दूसरी ओर ताज़िकिस्तान से सटे अफ़ग़ान ज़िले यवन में गाँव पर क़ब्ज़ा करने के बाद गाँव के लोगों को एक जगह एकत्रित किया गया और उन्हें हिदायत दी गई कि वे रात को घरों से बाहर न निकलें। 

नाज़िर मुहम्मद ने एफ़पी से कहा, 'हमसे कहा गया कि कोई भी व्यक्ति, ख़ास कर युवा लाल व हरे रंग के कपड़े न पहनें।' 

अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रीय झंडे में ये दोनों रंग हैं। 

नाज़िर मुहम्मद के अनुसार,

तालिबान ने कहा है कि सारे पुरुष सिर पर पगड़ी बाँधें, कोई लड़की कक्षा छह के ऊपर स्कूल नहीं जा सकती।


नाज़िर मुहम्मद, अफ़ग़ान नागरिक

तालिबान ने कहा है कि वे मानवाधिकारों की रक्षा करेंगे, पर वे इसलामिक नियमों के अनुसार ही होंगे। 

बता दें कि अफ़ग़ानिस्तान में 1996 से 2001 तक तालिबान का शासन था और उस दौरान ये बातें वास्तविक रूप से लागू की गई थीं। लड़कियों के स्कूल बंद कर दिए गए थे, उन्हें कामकाज छोड़ना पड़ा था, वे घर के किसी पुरुष सदस्य के बग़ैर बाहर नहीं निकल सकती थीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें