loader

बांग्लादेश : दुर्गा पूजा पर दंगे, 20 हिन्दू घरों में आगजनी, 66 में तोड़फोड़

जिस बांग्लादेश की राजधानी ढाका का नाम वहां की मशहूर ढाकेश्वरी देवी पर पड़ा है और जो रवींद्र संगीत और नज़रुल गीति के लिए मशहूर है, वहां कट्टरपंथी ताक़तें मजबूत हो रही हैं। इसलामी कट्टरपंथियों ने दुर्गा पूजा के मौके पर अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय पर हमले कर दिए और बड़े पैमाने पर हिंसक गतिविधियाँ व आगजनी कीं।

दु्र्गा पूजा के मौके पर हुए इन दंगों में इसलामी कट्टरपंथियों ने हिन्दुओं के 20 घरों में आग लगा दी और 66 घरों में तोड़फोड़ की।

राजधानी ढाका से 255 किलोमीटर दूर कुमिल्ला ज़िले में यह अफ़वाह फैला दी गई कि दुर्गापूजा के दौरान एक हिन्दू ने इसलाम धर्म की तौहीन की है।

ख़ास ख़बरें

अफ़वाह से शुरू हुआ दंगा

पुलिस सुपरिटेंडेंट मुहम्मद क़मरुज्ज़मां ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि फ़ेसबुक पर डाले गए एक पोस्ट के बाद मछुआरों की बस्ती में तनाव फैला तो पुलिस वहां तुरन्त पहुँच गई।

पुलिस ने उस व्यक्ति के घर के चारों ओर सुरक्षा घेरा डाल दिया, लेकिन दंगाइयों ने दूसरे घरों पर हमला कर दिया और उनमें आग लगा दी।

फ़ायर सर्विस कंट्रोल रूम के अनुसार, माझीपाड़ा में 29 घरों में आग लगा दी गई।

इसलाम धर्म की तौहीन करने की अफ़वाह फैलने के बाद कुमिल्ला, चांदपुर, चट्टोग्राम, कॉक्सेज बाज़ार, बंदरबान, मौलवीबाज़ार, ग़ाज़ीपुर, चपईनवाब गंज और फ़ेनी जिलों में दंगा फैल गया।

चार हिन्दू मारे गए

बांग्लादेश हिन्दू बौध ईसाई एकता परिषद ने कहा है कि इन दंगों में चाँदपुर और नोआखाली में कम से कम चार हिन्दू मारे गए।

रैपिड एक्शन बटालियन ने फेनी जिले में कम से कम दो लोगों को गिरफ़्तार किया है।

लेकिन बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिन्दुओं पर हमले की यह पहली घटना नहीं है। बांग्लादेश आइन ओ सलीश केंद्र के अनुसार, जनवरी 2013 से सितंबर 2021 तक हिन्दुओं पर हमले की 3,679 घटनाएं हुई हैं।
bangladesh durga puja violence leads to bangladesh riots - Satya Hindi

इन वारदातों में हिन्दुओं के 559 घरों और 442 दुकानों में आग लगा दी गई। इस दौरान हिन्दुओं पर हमले, उनके घरों में आग लगाने व तोड़फोड़ करने से जुड़े 1,678 मामले दर्ज किए गए। इनमें 11 हिन्दू मारे गए और कम से कम 862 लोग घायल हो गए।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने कड़ी कार्रवाई करने का भरोसा देते हुए कहा है कि दोषियों को हर हाल में सज़ा दी जाएगी। उन्होंने हिन्दू समुदाय के प्रतिनिधियों से बात करते हुए कहा, "कुमिल्ला की घटना की विस्तार से जाँच की जा रही है, किसी को बख़्खा नहीं जाएंगा। उनका पता लगाया जाएगा और उन्हें सज़ा दी जाएगी।" 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें