loader

डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ महाभियोग प्रस्ताव पेश, आज बहस

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए डेमोक्रेट सदस्यों ने हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स में उनके ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया है। दो डेमोक्रेट सदस्यों और एक रिपब्लिकन सदस्य ने इसे सदन में रखा। अविश्वास प्रस्ताव में उनके ख़िलाफ़ विद्रोह भड़काने का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा एक और प्रस्ताव पेश किया गया है, जिसमें उप राष्ट्रपति माइक पेंस से संविधान संशोधन 25 का प्रयोग कर राष्ट्रपति को पद से हटा कर उनके तमाम अधिकार ले लेने का आग्रह किया गया है। ट्रंप अमेरिका के पहले राष्ट्रपति बन गए, जिसके ख़िलाफ़ दो बार महाभियोग प्रस्ताव पेश किया गया है। 

महाभियोग का आधार

सीएनएन ने एक ख़बर में कहा है कि डमोक्रेट्स ने 'विद्रोह भड़काने' के आधार पर महाभियोग प्रस्ताव पेश किया है। इस प्रस्ताव में कहा गया है, "राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका और इसकी सरकार की संस्थानों को ख़तरे में डाल दिया। उन्होंने लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए ख़तरा पैदा कर दिया, सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण के रास्ते में रोड़े अटकाए और सरकार के लिए दिक्क़तें पैदा कीं। इस तरह उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में जनता के विश्वास को ठेस पहुँचाई।"  

महाभियोग प्रस्ताव में संविधान संशोधन 14 लागू करने को कहा गया है। इस संविधान संशोधन में कहा गया है "जो कोई अमेरिका के ख़िलाफ विद्रोह भड़काए उसके ख़िलाफ़ कार्रवाई की जानी चाहिए।"

ख़ास ख़बरें

रिपब्लिकन भी साथ

हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स में रोड्स आईलैंड से चुने गए डेमोक्रेट सदस्य डेविड सिसिलिन और कैलिफ़ोर्निया के टेड लियू के अलावा मेरीलैंड के रिपब्लिकन सदस्य जेमी रस्किन ने एक साथ मिल कर साझा महाभियोग प्रस्ताव पेश किया। सिसिलिन ने दावा किया है कि इस प्रस्ताव को 200 से ज़्यादा सदस्यों का समर्थन हासिल हो चुका है।

democrats move impeachment against donad trump - Satya Hindi
डेमोक्रेट कॉकस यानी डेमोक्रेटिक पार्टी के चुने गए सदस्यों ने कैपिटल बिल्डिंग में ट्रंप समर्थकों के ज़बरन घुसने और हिंसा करने पर बहुत ही तीखी प्रतिक्रिया दी थी और उसी दिन कह दिया था कि ट्रंप को अपने पद से हटना होगा।
हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स की अध्यक्ष डेमोक्रेट नैन्सी पलोसी ने कहा था कि ट्रंप को हर हाल में हटाना होगा क्योंकि बचे हुए समय में वे क्या कर बैठें, यह समझना बहुत मुश्किल है। उन्होंने आशंका जताई थी कि राष्ट्रपति किसी देश पर परमाणु हमला करने का ग़लत आदेश तक दे सकते हैं।

रिपब्लिकन सीनेटर भी साथ

सीनेट में अलास्का से चुनी गई रिपब्लिकन सदस्य लीज़ा मर्कोवस्की और पेनसिलवेनिया के पैट टूमी ने भी ट्रंप से इस्तीफ़ा देने को कहा था। समझा जाता है कि हाउस ऑफ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स से पारित होने के बाद जब महाभियोग प्रस्ताव सीनेट जाएगा, कुछ रिपब्लिकन सदस्य उसे वोट दे सकते हैं।

हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स में महाभियोग प्रस्ताव पर मतदान इसी हफ़्ते कभी हो सकता है।

democrats move impeachment against donad trump - Satya Hindi

संशोधन 25 पर प्रस्ताव

एक दूसरे प्रस्ताव में डेमोक्रेट सदस्यों ने उप राष्ट्रपति माइक पेंस से कहा कि वे संविधान संशोधन 25 की धारा चार का प्रयोग कर राष्ट्रपति को पद से हटा दें और उनके तमाम अधिकार ले लें।

इस संविधान संशोधन में कहा गया है कि यदि राष्ट्रपति मानसिक रूप से स्वस्थ न हों या वे अपने कर्तव्यों का पालन करने या अपने अधिकारों का इस्तेमाल करने में सक्षम न हों तो उन्हें पद से हटा कर उप राष्ट्रपति उनके सारे अधिकार ले सकते हैं। इसके बाद हाउस ऑफ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स और सीनेट दोनों ही सदनों में दो-तिहाई बहुमत से इस प्रस्ताव को अलग-अलग पारित कराना होगा।

democrats move impeachment against donad trump - Satya Hindi

हाउस ऑफ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स में मैजोरिटी लीडर स्टेनी हॉयर के इस प्रस्ताव का रिपब्लिकन सदस्यों ने विरोध किया। डेमोक्रेट इसे आम सहमति से पारित करवाना चाहते थे, पर रिपब्लिकन सदस्य अलेक्स मूनी ने इसका विरोध किया। वह प्रस्ताव रुक गया। इसके बाद स्पीकर नैन्सी पलोसी ने कहा कि डेमोक्रेट इस प्रस्ताव को मंगलवार को फिर एक बार पेश कर सकते हैं।

मंगलवार को बहस

दोनों सदनों की कार्यवाही स्थगित कर दी गई है। मंगलवार को महाभियोग प्रस्ताव पर बहस होगी। समझा जाता है कि बुधवार को इस पर मतदान हो। मतदान में यदि यह प्रस्ताव पारित हो जाता है तो इसे सीनेट को भेज जाएगा।

हाउस ऑफ़ रिप्रेजेन्टेटिव्स में डेमोक्रेट्स का बहुमत तो है ही, हाल ही में जॉर्जिया में सीनेट की दो सीटें जीत लेने के बाद उनके पास ऊपरी सदन की 100 में से 52 सीटों पर उनका कब्जा हो गया। इस तरह डेमोक्रेट्स के पास दोनों सदनों में बहुमत है। इसके अलावा कई रिपब्लिकन सदस्य भी हैं जो ट्रंप को पद से हटने की गुजारिश करने के बाद उन्हें जब़रन हटाने की माँग कर चुके हैं। समझा जाता है कि वे भी प्रस्ताव के पक्ष में मतदान कर सकते हैं।

पारित हो पाएगा प्रस्ताव?

ट्रंप के पक्ष में एक ही बात जाती है और वह यह है कि कितने समय में ये प्रस्ताव दोनों सदनों से पारित हो जाते हैं। इसका कारण यह है कि सीनेट में ट्रंप पर लगे आरोपों की जाँच भी होगी और बहस भी। यदि रिपब्लिकन सदस्य वहां इसे लटकाने में कामयाब हो गए तो डेमोक्रेट्स के सारे प्रयासों पर पानी फिर जाएगा।

बहरहाल सबकी निगाहें मंगलवार को हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स की बैठक और बहस पर टिकी हैं।  

कार्यकाल ख़त्म!

एक दूसरे बड़े घटनाक्रम में अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर एलान कर दिया कि राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप का कार्यकाल 11 जनवरी, 2021 को ख़त्म हो गया। राष्ट्रपति की जीवनी में यह कहा गया है। हालांकि इसे थोड़ी देर बाद ही हटा दिया गया।  
क्या डोनल्ड ट्रंप के ख़िलाफ़ भी कार्रवाई होगी? देखें, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का क्या कहना है। 
विदेश मंत्रालय ने इस सवाल का जवाब नहीं दिया कि यह किसी ग़लती से हुआ या किसी ने सिस्टम को हैक कर लिया। इससे कई तरह के अफ़वाहों को बल मिला। ट्रंप का कार्यकाल 20 जनवरी, 2021 को ख़त्म हो रहा है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें