loader

बांग्लादेश: हिंदू मंदिरों पर हमला करने वाले बख़्शे नहीं जाएंगे- शेख़ हसीना

बांग्लादेश की सरकार ने कहा है कि जिन लोगों ने हिंदू मंदिरों पर हमला किया है, उन्हें बख़्शा नहीं जाएगा। मुल्क़ की वज़ीर-ए-आज़म शेख़ हसीना ने कहा है कि इस मामले में कार्रवाई की जा रही है। बांग्लादेश में बीते दिनों दुर्गा पूजा के दौरान हिंदू मंदिरों और पंडालों पर हमले हुए थे और इसके बाद भारत में हसीना सरकार की आलोचना हो रही थी। 

हिंसा में चार लोगों की मौत हो गई थी। दंगाइयों ने हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की थी। हालात को क़ाबू करने के लिए हसीना सरकार ने 22 जिलों में पैरामिलिट्री फ़ोर्स को तैनात कर दिया था। 

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, ढाका में स्थित ढाकेश्वरी मंदिर में आयोजित एक कार्यक्रम में हसीना ने कहा, “हिंसा की इन घटनाओं की जांच की जाएगी और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को पकड़कर उन्हें सजा दी जाएगी।” 

ताज़ा ख़बरें

हिंसा में कुछ लोग घायल भी हुए हैं। हिंसा की शुरुआत कुमिलिया में बने दुर्गा पूजा के पंडाल में हुई। इस दौरान ईशनिंदा का आरोप लगाया गया। इसके बाद भीड़ ने कुमिलिया, हाज़ीगंज, हतिया और बांसखाली में स्थित मंदिरों पर हमला कर दिया। 

घटना सामने आने के बाद भारत ने हिंसा के लिए जिम्मेदार लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की थी। 

दुर्गा प्रतिमाओं को तोड़ा 

हिंसा के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए हैं जिनमें देखा जा सकता है कि भीड़ ने दुर्गा पूजा के पंडालों पर हमला किया, पत्थर फेंके और हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की। इस दौरान कई जगहों पर दुर्गा प्रतिमाओं को भी भीड़ ने तोड़ दिया। 

दुनिया से और ख़बरें

बताया जा रहा है कि हिंसा के पीछे जमात-ए-इसलामी का हाथ है और हिंसा को सांप्रदायिक आग भड़काने की नीयत से अंजाम दिया गया। 

बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने इन हमलों से जुड़े वीडियो और फ़ोटो को शेयर किया था। काउंसिल ने मुसलिमों से अपील की थी कि वे अफ़वाहों पर भरोसा न करें। काउंसिल ने कहा था कि दुर्गा पूजा में क़ुरान की कोई ज़रूरत नहीं होती और किसी ने दंगे कराने की साज़िश रची है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें