loader
पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ और प्रधानमंत्री के.पी. ओली।

भारत विरोधी तेवर दिखाने वाले ओली के ख़िलाफ़ नेपाल में ही बग़ावत

नेपाल के प्रधानमंत्री के.पी. ओली के द्वारा हाल में दिया गया भारत विरोधी बयान अब उनके लिए मुसीबत बन गया है। ओली ने आरोप लगाया था कि भारत सरकार, भारतीय दूतावास द्वारा उन्हें प्रधानमंत्री पद से हटाने की कोशिश की जा रही है। 

नेपाली अख़बार काठमांडू पोस्ट के मुताबिक़ ओली ने कहा था, ‘नई दिल्ली से मीडिया में आ रही ख़बरों, दूतावास की गतिविधियों और काठमांडू के होटलों में हो रही बैठकों को देखकर यह समझना मुश्किल नहीं है कि किस तरह लोग मुझे हटाने के लिए खुलकर सक्रिय हो चुके हैं लेकिन वे सफल नहीं होंगे।’ ओली ने इसमें कई नेपाली नेताओं के भी शामिल होने की बात कही थी। 

इस वजह से ओली का नेपाल में सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में ही विरोध हो रहा है और उनसे इस्तीफ़ा देने के लिए कहा गया है। ओली के इस बयान पर पूर्व प्रधानमंत्री और पार्टी में उनके प्रतिद्वंद्वी पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने उनके ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। 

ताज़ा ख़बरें

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, दहल ने कहा है कि ओली का यह बयान न तो राजनीतिक रूप से सही है और न ही कूटनीतिक रूप से। उन्होंने ओली को चेताया कि प्रधानमंत्री का यह बयान पड़ोसी देश के साथ उनके रिश्ते ख़राब कर सकता है। मंगलवार को नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक में दहल ने ये बात कही। 

प्रचंड ने कहा कि सरकार और पार्टी के बीच तालमेल का अभाव है। उन्होंने नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में एक व्यक्ति-एक पद पर जोर दिया। इसका सीधा मतलब यही है कि वह चाहते हैं कि ओली पार्टी प्रमुख के पद पर न रहें।

पीटीआई के मुताबिक़, बैठक में प्रचंड के अलावा मौजूद अन्य वरिष्ठ नेताओं ने भी ओली से उनके इस आरोप को लेकर सबूत देने और पद छोड़ने के लिए कहा। इससे पहले भी इस साल अप्रैल में ओली से इस्तीफ़ा देने के लिए कहा गया था। 

पार्टी नेताओं ने कहा कि ओली को ऐसी अनुशासनहीन और गैर-राजनीतिक टिप्पणी के लिए नैतिकता के आधार पर इस्तीफ़ा दे देना चाहिए। ओली ख़ुद भी इस बैठक में मौजूद थे। 

छह महीने पहले प्रचंड ने कहा था कि वह चाहते हैं कि ओली 5 साल का कार्यकाल पूरा करें। ओली ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि वह सभी को विश्वास में लेकर काम करेंगे। लेकिन ओली ने प्रचंड को बताए बिना सभी बड़े फ़ैसले लेने शुरू कर दिए।

सतारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में ओली और प्रचड दोनों ही पार्टी के प्रमुख हैं। इससे पहले ओली कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ नेपाल-यूनिफाइड मार्क्सवादी लेनिनवादी (यूएमएल) और प्रचंड कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ नेपाल-माओवादी पार्टी के प्रमुख थे और बाद में इन दोनों पार्टियों का विलय हो गया था।

दुनिया से और ख़बरें

नेपाल में होगा राजनीतिक उलटफेर?

ओली ने अपनी पार्टी में सहयोगी रहीं बिद्या देवी भंडारी को राष्ट्रपति बनवाया तो प्रचंड ने अग्नि सपकोटा को स्पीकर बनवाया। अब प्रचंड के ताज़ा बयानों को देखकर सवाल खड़ा होता है कि दोनों नेता कब तक साथ काम कर पाएंगे और आने वाले दिनों में नेपाल में राजनीतिक उलटफेर की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें