loader

पाकिस्तान: पेट्रोल 209, डीजल 204 रुपए लीटर, घी 555 रुपए किलो

पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान की अवाम पर शहबाज शरीफ सरकार ने महंगाई का एक और बम फोड़ दिया है। शरीफ सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में फिर से 30 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी है। सरकार ने 26 मई की रात को ही पेट्रोल और डीजल में 30 रुपए बढ़ाए थे। 

इस नई बढ़ोतरी के बाद पाकिस्तान में पेट्रोल की कीमत 209.86 रुपए जबकि डीजल की कीमत 204.15 रुपए प्रति लीटर हो गई है। इस तरह 1 हफ्ते के अंदर पाकिस्तान में पेट्रोल और डीजल पर 60 रुपए बढ़ गए हैं।

मिट्टी का तेल भी काफी महंगा हो गया है और यह 181.56 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है।

ताज़ा ख़बरें

मुल्क के पूर्व वजीर-ए-आजम इमरान खान ने अपनी पार्टी पीटीआई के कार्यकर्ताओं से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ सड़कों पर उतरने को कहा है। 

बिजली भी महंगी 

पेट्रोल-डीजल के अलावा बिजली की कीमत भी बढ़ गई है और इसमें प्रति यूनिट 7.91 रुपए का इजाफा हुआ है। अब पाकिस्तान के लोगों को बिजली के लिए 16.91 रुपए के बजाय 24.82 रुपए प्रति यूनिट चुकाने होंगे। निश्चित रूप से पाकिस्तान की अवाम महंगाई की बड़ी मार झेल रही है।

लोगों ने किया प्रदर्शन, तोड़फोड़

पेट्रोल-डीजल के महंगा होने से गुस्साए लोगों ने पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची में कई जगहों पर पेट्रोल पंपों पर तोड़फोड़ की है।

गुरूवार रात को कराची में कई जगहों पर लोग सड़कों पर उतर आए और उन्होंने पेट्रोल पंपों पर धावा बोल दिया।

इस दौरान लोगों ने शहबाज शरीफ हुकूमत और पेट्रोल पंप के मालिकों के खिलाफ प्रदर्शन किया और जमकर नारेबाजी की। जिन शहरों में प्रदर्शन हुआ है उनमें लड़काना, शिकारपुर, जामशोरो, रहीम यार खान आदि शामिल हैं। 

हालात बिगड़ने की वजह से कराची के कई इलाकों में पेट्रोल पंपों को बंद कर दिया गया। इस वजह से कई जगहों पर लोगों को पेट्रोल-डीजल नहीं मिल सका और इससे लोग और ज्यादा भड़क गए। 

Pakistan Hikes Petrol diesel Price 30 Rs Per Liter - Satya Hindi

घी और खाद्य तेल भी महंगे 

इसके साथ ही हुकूमत ने घी और खाद्य तेलों की कीमतों में भी बढ़ोतरी कर दी है। यह बढ़ोतरी बीते बुधवार से लागू हुई है। घी की कीमत 208 रुपए प्रति किलो जबकि खाद्य तेलों की कीमत 213 रुपए प्रति लीटर बढ़ गई है। इस बढ़ोतरी के बाद घी 555 रुपए प्रति किलो और खाद्य तेल 605 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया है। यह पाकिस्तान में अब तक घी और खाद्य तेलों के सबसे ज़्यादा दाम हैं। 

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हुई जबरदस्त बढ़ोतरी का सीधा असर दूध, सब्जी, फल, ब्रेड आदि चीजों पर पड़ेगा। पाकिस्तान के आर्थिक जानकारों के मुताबिक, आने वाले दिनों में इन सभी जरूरी चीजों के दाम भी बढ़ेंगे और तब पाकिस्तान की अवाम के लिए जीना और मुश्किल हो जाएगा।

रुपया भी कमजोर 

दूसरी ओर, पाकिस्तानी रुपया भी डॉलर के मुकाबले लगातार गिरता जा रहा है और यह 196 से 197 रुपए के आसपास चल रहा है। कुछ दिन पहले यह 202 रुपए तक गिर गया था।

पाकिस्तान के वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल का कहना है कि शहबाज शरीफ सरकार को ऐसे फैसले आर्थिक हालात को देखते हुए लेने पड़े हैं। उन्होंने कहा है कि पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें बढ़ाए बिना पाकिस्तान को आईएमएफ से लोन नहीं मिलेगा और मुल्क के जो आर्थिक हालात हैं उसमें आईएमएफ से लोन लेना बहुत जरूरी है।

आईएमएफ से नहीं मिला लोन 

पाकिस्तान की हुकूमत लगातार आईएमएफ से बातचीत कर रही है। हुकूमत का कहना है कि उसे आईएमएफ की कुछ शर्तों को मानना ही होगा और वह पेट्रोल और डीजल पर नुकसान नहीं उठा सकती।

Pakistan Hikes Petrol diesel Price 30 Rs Per Liter - Satya Hindi

शहबाज शरीफ की हुकूमत आईएमएफ से तीन अरब डॉलर का आर्थिक बेलआउट पैकेज लेने की कोशिश में जुटी हुई है। लेकिन अभी तक उसे इसमें सफलता नहीं मिली है।

इसके अलावा इमरान खान ने मुल्क में जल्दी चुनाव कराने की मांग को लेकर हमला बोला हुआ है और हाल ही में उन्होंने इस्लामाबाद तक आज़ादी मार्च निकाला था। 

दुनिया से और खबरें

श्रीलंका जैसे हालात?

जिस तरह के हालात पाकिस्तान में बन रहे हैं उसमें यह भी कहा जा रहा है कि वह कहीं श्रीलंका के रास्ते पर तो आगे नहीं बढ़ रहा है। अप्रैल महीने में ही पिछले 2 साल में सबसे ज्यादा महंगाई दर दर्ज की गई थी।

पाकिस्तान की अवाम लगातार बढ़ रही महंगाई को लेकर शहबाज शरीफ की आलोचना कर रही है। दुकानदारों का कहना है कि जबरदस्त महंगाई की वजह से लोगों ने सामान खरीदना कम कर दिया है।
निश्चित रूप से शहबाज शरीफ की हुकूमत ने सत्ता में आते ही जिस तरह पेट्रोल-डीजल, घी, खाद्य तेलों की कीमतों में इजाफा किया है उससे साफ लगता है कि आने वाले दिन पाकिस्तान की अवाम के लिए और मुश्किल भरे होंगे। क्योंकि पहले से ही महंगाई की मार से जूझ रही अवाम के लिए लंबे वक्त तक इतना महंगा पेट्रोल, डीजल, मिट्टी का तेल, घी, खाद्य तेल आदि खरीद पाना बेहद मुश्किल हो जाएगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें