loader

ट्रंप : कोरोना रोगियों को कीटनाशक का इंजेक्शन दो

इस पर शोध होना चाहिए कि क्या कोरोना रोगियों के शरीर में कीटनाशक का इंजेक्शन लगा संक्रमण दूर किया जा सकता है? अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के इस बयान पर भूचाल मचा हुआ है। डॉक्टरों ने तो इसका ज़ोरदार विरोध किया ही है, राजनीतिक हलक़ों में भी ट्रंप के इस विचार पर लोग सोच रहे हैं और तरह-तरह की बातें कह रहे हैं। 
ट्रंप यहीं नहीं रुके। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना से प्रभावित रोगियों पर अल्ट्रा वॉयलेट किरणों का विकिरण डालना चाहिए ताकि कोरोना के वायरस मर जाएँ। डॉक्टरों ने इसे भी सिरे से खारिज कर दिया है। 
दुनिया से और खबरें

क्या कहा ट्रंप ने?

ह्वाइट हाउस कोरोना टास्क फ़ोर्स की ब्रीफिंग चल रही थी। इसमें यह बताया गया कि किस तरह सूर्य की रोशनी और गर्मी के प्रभाव में कोरोना वायरस कमज़ोर हो गया। यह भी कहा गया था कि ब्लीच और अलकोहल से भी इस वायरस को कम किया जा सकता है।  
इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति वहाँ मौजूद टास्क फ़ोर्स की सदस्य डेबोरा बर्क्स की ओर मुड़े। उन्होंने कहा, ‘सूरज की तेज़ रोशनी और अल्ट्रा वॉयलेट किरणों को शरीर पर डालने से क्या होगा? मुझे लगता है कि इस पर शोध नहीं हुआ और आप ऐसा करने जा रही हैं।’ 
ट्रंप ने इसके बाद कहा,

‘और कीटनाशक तो एक मिनट में ही अपना काम कर दिखाता है। क्या ऐसा कोई रास्ता है जिससे हम ऐसा कर सकें? हम रोगी के शरीर में इसे इंजेक्शन से डाल दे और वह शरीर की सफ़ाई कर दे। इसकी जाँच करना दिलचस्प होगा।’


डोनल्ड ट्रंप, राष्ट्रपति, अमेरिका

बवाल

इसके बाद उन्होंने कहा कि वह कोई डॉक्टर नहीं हैं, एक सामान्य आदमी हैं और इस तरह की जानकारी रखते हैं। इसके बाद वहाँ यह सवाल उठा कि क्या क्या राष्ट्रपति इस तरह की बातें कर आम जनता के बीच ग़लत धारणा फैला रहे हैं। डॉक्टरों ने ट्रंप के इस बयान पर हैरत जताते हुए कहा है कि ऐसा करने से मौत भी हो सकती है। 
फेफड़ों के विशेषज्ञ डॉक्टर विन गुप्ता ने एनबीसी से कहा, 
‘शरीर में किसी तरह के कीटनाशक या सफ़ाई करने वाली चीज डालने की बात कहना बेहद ग़ैर ज़िम्मेदाराना और ख़तरनाक बयान है। जब कोई आत्महत्या करना चाहता है, ऐसा करता है।’

'मत मानिए ट्रंप के सुझाव'

अमेरिकी राज्य वेस्ट वर्जीनिया के चार्ल्सटन शहर में रहने वाले डॉक्टर काशिफ़ महमूद ने कहा, ‘एक डॉक्टर के रूप में मैं कोरोना के इलाज के लिए शरीर में कीटनाशक का इंजेक्शन देने या अल्ट्रा वॉयलेट किरणों का इस्तेमाल करने की सिफ़ारिश कभी नहीं कर सकता। ट्रंप के मेडिकल सुझावों को मत मानिए।’
इसके पहले ट्रंप ने मलेरिया की दवा हाइ्रॉक्सीक्लोरोक्वीन से कोरोना के इलाज की बात कही थी। उन्होंने इसकी 3.2 करोड़ गोलियों का इंतजाम भी कर लिया। इसके लिए उन्होंने भारत पर दबाव डाला और बदले की कार्रवाई करने की धमकी तक दे डाली। 
अमेरिका के सरकारी अस्पतालों और सेना के रिटायर्ड लोगों के अस्पतालों में परीक्षण करने पर पाया गया कि कोरोना पर क्लोरोक्वीन के प्रयोग से मरने वाले रोगियों की संख्या बढ़ गई।
राजनीतिक हलक़ों में भी इस पर तीखी प्रतिक्रियाएँ हो रही हैं। डेमोक्रेटिक पार्टी के संभावित राष्ट्रपति उम्मीदवार जो बाइडन ने कहा, ‘अल्ट्रा वॉयलेट किरणें? कीटनाशकों का इंजेक्शन? मेरा विचार है राष्ट्रपति महोदय, अधिक लोगों की जाँच होनी चाहिए, इसी समय। और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें