loader

बिहार: डैमेज कंट्रोल, बीजेपी के पोस्टर में वापस आए नीतीश

बिहार विधानसभा चुनाव में कुछ दिन पहले नीतीश कुमार तब ख़ासे परेशान हो गए थे, जब बीजेपी की ओर से जारी पोस्टर्स में उनका चेहरा ग़ायब था। यह ख़बर सोशल मीडिया और टीवी चैनलों पर बुलेट ट्रेन की रफ़्तार से दौड़ी और जेडीयू के चुनाव प्रबंधकों को इसमें बीजेपी की सियासी चाल नज़र आई। 

जेडीयू और नीतीश का बीजेपी पर शक करना लाजिमी था क्योंकि राज्य में मुख्यमंत्री चुना जाना है न कि प्रधानमंत्री। और वैसे भी बिहार में जेडीयू की सीटें बीजेपी से ज़्यादा हैं, ऐसे में नीतीश का चेहरा ग़ायब कर देने का कोई तुक ही नहीं बनता था। 

बिहार बीजेपी के पिछले विज्ञापन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विशालकाय तसवीर थी और गठबंधन के चार दलों के चुनाव चिन्हों को प्रतीक रूप में दिया गया था। पोस्टर से यही लगता था कि बिहार में एनडीए का मतलब सिर्फ़ बीजेपी है और इसका चेहरा नरेंद्र मोदी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

विज्ञापन वायरल हुआ तो नीतीश के रणनीतिकार मैदान में कूदे। इस बात की आशंका जताई जाने लगी कि अगर चुनाव में बीजेपी की सीटें ज़्यादा आ गईं तो वह मुख्यमंत्री पद के लिए अड़ जाएगी या फिर सारे अहम विभाग अपने पास रखने की जिद करेगी। इसलिए अब जो नया विज्ञापन जारी किया गया है, उसमें नीतीश कुमार की भी तसवीर लगाई गई है। साथ ही बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल और उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को भी जगह दी गई है। 

बिहार से और ख़बरें
एलजेपी के मुखिया चिराग पासवान को बीजेपी के नेताओं के द्वारा वोट कटवा कहलवा चुके नीतीश को अब यही बात प्रधानमंत्री से कहलवानी होगी। क्योंकि चिराग इस बात का प्रचार कर रहे हैं कि मोदी ने उनके ख़िलाफ़ कुछ नहीं कहा। नीतीश की जीत तभी होगी, जब वह मोदी से चिराग और उनकी पार्टी के ख़िलाफ़ बुलवा लें। क्योंकि चिराग अब छोटे-मोटे हमलों से नीतीश को जेल भेजने तक पहुंच चुके हैं। 
नीतीश को बीजेपी से यह तय करवाना होगा कि चिराग के लिए एनडीए में कोई जगह नहीं है। हालांकि बीजेपी यह कहकर बचने की कोशिश कर रही है कि चिराग बिहार एनडीए में नहीं हैं। लेकिन नीतीश को इस राह के कांटे को अच्छी तरह निकलवाना ही होगा।
जिस तरह का चुनावी हाल बिहार में दिख रहा है, उसमें साफ लगता है कि एनडीए और महागठबंधन में जोरदार फ़ाइट है और बाक़ी दलों के लिए इसमें कुछ नहीं है। पहले चरण में जिस तरह का जोरदार चुनाव प्रचार देखने को मिला, उम्मीद है कि यह और धारदार होगा। व्यक्तिगत हमलों तक उतर चुके नीतीश कुमार नौजवान नेता तेजस्वी यादव के सामने संयम खोते दिख रहे हैं, जिससे तेजस्वी को फायदा हो रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें