loader

पहले कल्लूरी को बताया था 'दुर्दांत', अब अहम ओहदे से नवाजा

विधानसभा चुनाव से पहले पुलिस अधिकारी एस. आर. पी. कल्लूरी को आदिवासियों का दमन करने वाला दुर्दांत अधिकारी बताने वाले भूपेश बघेल ने कल्लूरी को एंटी करप्शन ब्यूरो और ईओडब्ल्यू (आर्थिक अपराध शाखा) जैसे महत्वपूर्ण विभाग का आईजी बनाया है। कल्लूरी को पानी पी-पी कर कोसने वाली कांग्रेस सत्ता में आते ही ऐसा फ़ैसला लेगी, किसी ने सोचा भी नहीं था। इस निर्णय पर चर्चाओं का दौर भी शुरू हो गया है।

अंचभित करने वाला है फ़ैसला  

मौजूदा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने चुनाव जीतने से पहले एक नहीं कई मौक़ों पर कहा था कि वह देश की बदनामी करा रहे हैं। उन्होंने यहाँ तक कहा था कि ऐसे व्यक्ति को शिकंजे में कस देना चाहिए। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में भूपेश बघेल ने रमन सरकार को कल्लूरी को लेकर घेरा था। ऐसे में भूपेश सरकार का यह फ़ैसला अचंभित करने वाला है।

बीजेपी सरकार ने बस्तर में कल्लूरी को नियुक्त किया था। कल्लूरी पर आरोप है कि उनके रहते हुए आदिवासी, पत्रकार और आम लोगों पर काफ़ी ज़ुल्म हुए। ख़ासकर पत्रकारों पर हमला किया गया। उसी दौरान फ़र्ज़ी मुक़दमे लगाकर संतोष यादव, प्रभात सिंह, सोमारु जैसे जिले स्तर के पत्रकारों को गिरफ़्तार किया गया। छह महीने बाद कल्लूरी को हटाना पड़ा था। कल्लूरी पर बलात्कार का भी आरोप लगा था। लेदा नाम की महिला ने आरोप लगाया था कि कल्लूरी ने उसके नक्सली पति को आत्मसमर्पण के लिए बुलाया, लेकिन उसे गिरफ़्तार न करके उसे गोली मार दी और लेदा के साथ बलात्कार किया।

कल्लूरी ने जिन 1200 नक्सलियों का आत्मसमर्पण करवा कर शोहरत बटोरी, उसकी पोल सरकार की गठित एक कमेटी ने ही खोल दी थी। कमेटी के मुताबिक़, 1200 में से केवल तीन नक्सली थे। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने कल्लूरी से मानवाधिकार के उल्लंघन मामले में लगे आरोपों पर सफ़ाई भी माँगी थी, लेकिन उन्होने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें