loader

फ़िल्म अभिनेता सुशांत राजपूत ने की आत्महत्या

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की अचानक मौत की ख़बर से बॉलीवुड में गहरा शोक छा गया। रविवार को उनके घर की छत से लटकता उनका हुआ शव मिला है। उनकी उम्र महज़ 34 साल थी।

सुशांत राजपूत के घर में छत से लटकते शव दिखने के बाद घर के नौकरों ने पुलिस को इसकी जानकारी दी। समझा जाता है कि राजपूत ने खुदकुशी कर ली है। उनकी पूर्व मैनेजर दिशा सालियान की भी मौत 9 जून को रहस्यमय स्थितियों में हुई थी। एक बहुमंजिली इमारत के नीचे उनका शव मिला था। 
समझा जाता है कि सुशांत पिछले कुछ समय से वह तनावग्रस्त थे। यह ताज्जुब की बात इसलिए है कि सुशांत सिंह का फिल्मी कैरियर अच्छा चल रहा था, कुछ दिन पहले ही उनकी एक फिल्म आई थी। हालांकि उस फ़िल्म ने व्यावसायिक रूप से बहुत कामयाबी हासिल नहीं की थी, पर उनके काम की तारीफ़ की जा रही थी।
सिनेमा से और खबरें

फ़िल्म एम.एस.धोनी में 'माही' का किरदार निभाने वाले इस एक्टर की मौत की ख़बर ने सभी को हैरान कर दिया है। उनका फ़िल्म करियर भी काफी अच्छा चल रहा था और उनकी फ़िल्म 'दिल बेचारा' की शूटिंग चल रही थी जो कि कोरोना वायरस संक्रमण के चलते रोक दी गई थी।

सुशांत राजपूत ने अपने फ़िल्म करियर की शुरुआत फ़िल्म ‘काई पो चे’ से की थी। फिर ‘शुद्ध देसी रोमांस’, ‘पीके’, ‘एम.एस.धोनी’, ‘राबता’, ‘केदारनाथ’, ‘छिछोरे’ जैसी कई फ़िल्में आई थी। सुशांत की आखिरी फिल्म ‘ड्राइव’ रिलीज़ हुई थीं।
फ़िल्म ‘एम.एस. धोनी’ में क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी का किरदार सुशांत सिंह राजपूत ने निभाया था और उनको दर्शकों ने काफी पसंद किया था। इस किरदार के लिए सुशांत ने एक इंटरव्यू में कहा था, ‘मैंने माही की कई स्टाइल को कॉपी किया और यहां तक की उनकी वीडियो दिनभर देखा करता था।’ 

एक्टर सुशांत की आत्महत्या की खबर पर उनके फैंस और फ़िल्म जगत के लोगों ने ट्वीट कर शोक संवेदनाएं व्यक्त की हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें